राशि अनुसार किस कॅरियर में आपको मिलेगी जोरदार सफलता, जानें यहां

- क्या आप अपने प्रोफेशन व आय से संतुष्ट हैं?
- वैदिक ज्योतिष से जानें नौकरी/व्यवसाय का सही चयन

By: दीपेश तिवारी

Published: 26 Apr 2020, 05:11 PM IST

अपना कॅरियर चुनने को लेकर कई लोग दुविधा में बने रहते है। एक ओर जहां ज्यादातर व्यक्ति अपने कॅरियर के चुनाव को लेकर संतुष्ट नहीं होते हैं। वहीं कई बार तमाम मेहनत के बावजूद व्यक्ति जिस प्रोफेशन में होता है वह उसमें भी ज्यादा बड़े मुकाम तक नहीं पहुंच पाता है।

इस संबंध में पंडित सुनील शर्मा का कहना है कि वैदिक ज्योतिष में नौकरी/व्यवसाय का सही चयन करने के लिए जन्म कुण्डली में स्थित ग्रहों तथा नक्षत्र की स्थिति के साथ दसवें भाव का विश्लेषण किया जाता है। जन्मपत्रिका में दसवां भाव कर्म व पिता का भाव माना जाता है। यह भाव हमारे कर्म क्षेत्र के बारे में बताता है।

वहीं ज्योतिष विज्ञान में राशि के अनुसार कार्य व व्यवसाय की अनुकूलता को बताया गया है। ऐसे में माना जाता है कि यदि आप अपनी राशि के अनुसार अपने प्रोफेशन का चयन करते हैं, तो आपको इसमें अधिक सफलता मिलती है।

MUST READ : शिवलिंग की घर में पूजा करते समय इन बातों का रखें खास ख्याल

https://www.patrika.com/religion-and-spirituality/shivlinga-pooja-at-home-rules-of-lord-shiv-puja-6039354/

इसके कारण के संबंध में पंडित शर्मा कहते हैं कि ज्योतिष शास्त्र व्यक्ति की रुचि, बौद्धिक प्रतिभा और उसकी वास्तविक क्षमता का सटीक अध्ययन उसकी जन्म कुंडली के आधार पर करता है। इसलिए राशि के अनुसार व्यवसाय अथवा कार्य क्षेत्र का चयन बेहद सार्थक होता है।

ऐसे में माना जाता है कि अगर हम अपनी राशि के हिसाब से अपने कॅरियर का चुनाव करें तो हम ऐसी कई परेशानियों से बच सकते हैं। इसी कारण माना जाता है कि राशि के जातकों के लिए किस प्रोफेशन में जाना फायदेमंद हो सकता है:

मेष राशि

1. मेष राशि
मंगल ग्रह इन राशि वालों का स्वामी होता है। यह साहस और ऊर्जा का कारक होता है। ऐसे में ज्योतिष के अनुसार मेष लग्न वाले जातकों के लिए इंजीनियरिंग, सैन्य और पुलिस क्षेत्र सही रहता है। इसके अलावा वकालत, चिकित्सक, ड्राइविंग, जौहरी और कम्प्यूटर क्षेत्र जैसे व्यवसाय में आपको सफलता प्राप्त होती है।

2. वृषभ राशि
इस राशि का स्वामी शुक्र होता है। ज्योतिष में शुक्र ग्रह दाम्पत्य जीवन, पार्टनर, वैभव आदि का कारक होता है। ज्योतिष के अनुसार ऐसे में वृष राशि के जातकों के लिए कला, विलासिता की वस्तुएं, पेंटिंग, गायक, नृत्य, संगीत, सिनेमा, अभिनय, फैशन आदि क्षेत्र अनुकूल होते हैं। आपके लिए कृषि, धातु, होटल आदि से संबंधित व्यवसाय शुभ होता है।

मिथुन राशि

3. मिथुन राशि
बुध ग्रह को ज्योतिष में मिथुन राशि का स्वामी माना जाता है। यह ग्रह संवाद, गणित, कॉमर्स और बुद्धि का कारक होता है। ज्योतिष के अनुसार ऐसे में मिथुन राशि वालों को बैंकिंग, लिपिक, लेखन, मीडिया रिपोर्टर, संपादन, भाषा विशेषज्ञ अनुवादक के क्षेत्र में करियर बनना चाहिए।

4. कर्क राशि
कर्क राशि का चंद्रमा की स्वामित्व वाली राशि है। चंद्र ग्रह मन और माता का कारक होता है। ऐसे में ज्योतिष के अनुसार इस राशि वाले जल व कांच से सबंधित कार्यों में सफलता पाते हैं। इसलिए आपको शील पेय, लांडरी, नाविक, डेयरी फार्म, होटल, कारोबार, बर्फ, जहाज, रसायन विज्ञान सुगंधित पदार्थ, अगरबत्ती, फोटोग्राफी, चित्रकारी, पुरातत्व, इतिहास सामाजिक कार्यकर्ता आदि व्यवसाय चुनना चाहिए।

सिंह राशि

5. सिंह राशि
सूर्य ग्रह के स्वामित्व वाली राशि सिंह है। हिन्दू ज्योतिष में सूर्य ग्रह पद-प्रतिष्ठा, आत्मा, पिता, लीडर आदि का कारक होता है। ऐसे में ज्योतिष के अनुसार सिंह राशि के जातकों को राजनयिक, प्रशासनिक, अधिकारी वर्ग, शासकीय पद पर कार्य करना चाहिए। इसके अलावा इन्हें औषधि, स्टाक एक्सचेंज कपड़ा, रूई, काग़ज़, स्टेशनरी, घास, फल से संबंधित व्यवसाय में भी सफलता देता है।

6. कन्या राशि
ज्योतिष में कन्या राशि पर बुध का स्वामित्व माना गया है। यह संवाद, बुद्धि, वाणी, गणित, ज्योतिष आदि का कारक होता है। ज्योतिष के अनुसार ऐसे में कन्या राशि के जातकों को ज्योतिष, वायु, अध्ययन, अध्यापन, शिक्षक, खुदरा, विक्रेता, लिपिक, रुपयों का लेन-देन, स्वागतकर्ता, बस ड्राइवर, रेडियों-दूरदर्शन के कलाकार, नोटरी, कम्प्यूटर आदि क्षेत्रों में करियर बनाना चाहिए।

 तुला राशि

7. तुला राशि
इस राशि का स्वामी शुक्र ग्रह होता है। वैदिक ज्योतिष में शुक्र ग्रह योवन, सुंदरता, आभूषण, ऐश्वर्य, काम शास्त्र आदि का कारक होता है। ज्योतिष के अनुसार तुला राशि के जातकों को मनोचिकित्सक, अन्वेषक, जासूस, बही खाता रखने वाला, खजांची, बैंक क्लर्क, टाइपिस्ट, लेखा परीक्षक, पशुओं से उत्पन्न वस्तुएं जैसे दूध, घी, ऊन आदि का क़ारोबार करना चाहिए।

8. वृश्चिक राशि
मंगल ग्रह को वृश्चिक राशि का स्वामी माना गया है। ज्योतिष विज्ञान में मंगल को ऊर्जा, साहस, मकान, भूमि आदि का कारक माना जाता है। अतः ज्योतिष के अनुसार वृश्चिक राशि के जातकों को करियर में सफलता पाने के लिए केमिस्ट, डॉक्टर, वकील, इंजीनियर, भवन निर्माण, मार्केटिंग, देश सेवा, टेलीफोन, विद्युत खनिज तेल, नमक, औषधि, घड़ी, रेडियो, दार्शनिक, जासूस आदि क्षेत्रों में हाथ आज़माना चाहिए।

धनु राशि

9. धनु राशि
इस राशि का स्वामी गुरु होता है। ज्योतिष बृहस्पति ग्रह को गुरु, ज्ञान, सुख, देवता, मित्र, पुत्र आदि का कारक माना जाता है। ज्योतिष के अनुसार इस राशि के जातकों के लिए अध्यापन, लेखक, संपादक, शिक्षा विभाग, कानून, वकालत, लेखन, कार्य, क्लर्क, उपदेशक, स्वतंत्रता सेनानी, दार्शनिक, धर्म सुधारक, प्रकाशन, दलाल, आयात-निर्यात, खाद्य पदार्थ, चमड़े का व्यापार, बैंकर आदि क्षेत्र अनुकूल होते हैं।

10. मकर राशि
शनि के स्वामित्व वाली राशि मकर है। ज्योतिष में शनि ग्रह शस्त्र, यात्रा, चाकरी, भैंस, ऊँट, घोड़ा, हाथी, शिल्प, नीलम आदि का कारक होता है। ऐसे में मकर राशि वाले जातकों को ज्योतिष के अनुसार प्रबंधन, बीमा विभाग, बिजली, कमिशन, मशीनरी, ठेकेदारी, सट्टा, आयात-निर्यात, रेडीमेड कपड़ा, राजनीतिक, खिलौना, खनन, वन उत्पाद, बागवानी क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहिए।

कुंभ राशि

11. कुंभ राशि
कुंभ राशि का स्वामी भी शनि होता है। शनि को शस्त्र, यात्रा, चाकरी, शिल्प, नीलम आदि का कारक माना गया है। ज्योतिष के अनुसार कुंभ राशि के जातकों को इससे संबंधित व्यवसायों को प्राथमिकता देनी चाहिए। इसके साथ ही आपको शोध कार्य, शिक्षण कार्य, ज्योति-तांत्रिक, प्राकृतिक, उपचारक, दार्शनिक, चिकित्सकीय, कम्प्यूटर, वायुयान, मैकेनिक, बीमा, ठेकेदारी आदि क्षेत्र में भी सफलता मिलने की संभावना रहती है।

12. मीन राशि
मीन राशि गुरु के स्वामित्व वाली राशि है। ज्योतिष बृहस्पति ग्रह को गुरु, ज्ञान, सुख, देवता, मित्र, पुत्र आदि का कारक माना जाता है। अतः ज्योतिष के अनुसार मीन राशि के जातकों को लेखन, सम्पादन, अध्यापन, लिपिक, पानी, अनाज, दलाली, शेयर, मछली, कमीशन, एजेंट, आयात निर्यात, कोरियोग्राफी आदि क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहिए।

Corona virus
Show More
दीपेश तिवारी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned