कनाडा और जर्मनी से चलाए जा रहे खालिस्तान जि़ंदाबाद फोर्स के आतंकवादी मोड्यूल का पर्दाफाश, हथियार मिले

  • पंजाब और दूसरे राज्यों में आतंकवादी घटनाओं के लिए खड़ा किया था मोड्यूल
  • पाक द्वारा प्रशिक्षित बब्बर खालसा का कार्यकर्ता और हथियार चलाने का माहिर

By: Bhanu Pratap

Updated: 04 Oct 2020, 06:36 PM IST

चंडीगढ़। पंजाब पुलिस ने होशियारपुर जिले के गाँव नूरपुर जाट्टां के दो व्यक्तियों मक्खन सिंह गिल उर्फ अमली और दविन्दर सिंह उर्फ हैप्पी को गिरफ़्तार करके खालिस्तान जि़ंदाबाद फोर्स (केजेडएफ) के आतंकवादी मॉड्यूल का पर्दाफाश किया गया। पुलिस ने उनके पास से 2 अत्याधुनिक हथियार बरामद किया जिसमें एक एमपी5 सब-मशीन गन समेत दो मैगज़ीन, 30 जि़ंदा कारतूस, एक 9एमएम पिस्तौल समेत दो मैगज़ीन और 30 जि़ंदा कारतूसों के अलावा एक सफ़ेद रंग की कार (पीबी-11-बीक्यू 9994), 4 मोबाइल फोन तथा एक इन्टरनेट डौंगल शामिल हैं।

यह भी पढ़ें

कृषि कानूनों का विरोधः ट्रैक्टर पर सवार हुए राहुल गांधी और कैप्टन, ड्राइवर हैं सुनील जाखड़

केजेडएफ के प्रमुख नीटा ने पाकिस्तान भिजवाए थे हथियार

डीजीपी पंजाब पुलिस दिनकर गुप्ता ने बताया कि प्राथमिक जांच के दौरान दोनों ने खुलासा किया कि कनाडा में निवासरत हरप्रीत सिंह ने तकरीबन 2 महीने पहले उनके साथ संपर्क करके उनको पंजाब में आतंकी मॉड्यूल खड़ा करने के लिए उकसाया। तफ़्तीश के दौरान दिए बयानों के अनुसार हरप्रीत खालिस्तान जि़ंदाबाद फोर्स (केजेडएफ) का कार्यकर्ता है जो अक्सर पाकिस्तान जाता रहता है और पाक आधारित केजेडएफ के प्रमुख रणजीत सिंह उर्फ नीटा का करीबी साथी है। मुलजिमों ने आगे बताया कि उपरोक्त हथियार उनको नीटा ने अपने अनजान गुर्गों के द्वारा सप्लाई किया है। इस मोड्यूल में कुछ और विदेशी आतंकवादी भी शामिल हैं, जिनका अमेरिका और जर्मनी के साथ सम्बन्ध होने का शक है। ये लोग विदेशी फंड के तौर पर मनी ट्रांसफर सेवाओं जैसे कि वेस्टर्न यूनियन जैसे कई चैनलों द्वारा पैसा अमली के माध्यम से ट्रांसफर कर रहे थे।

यह भी पढ़ें

आखिर हरीश रावत ने ऐसा क्या कहा कि नवजोत सिंह सिद्धू मान गए

कौन है अमली

डीजीपी ने आगे खुलासा किया कि मक्खन सिंह उर्फ अमली एक कट्टरपंथी खालिस्तानी आतंकवादी है जिसको पहले पंजाब पुलिस ने आतंकवाद के साथ सम्बन्धित अलग-अलग अपराधों में गिरफ़्तार किया था। अमली पाकिस्तान से भी प्रशिक्षण प्राप्त कर चुका है और 1980 और 1990 के दशकों के दौरान अमरीका में भी रहा है। वह पाक आधारित बब्बर खालसा इंटरनेशनल के प्रमुख वधावा सिंह बब्बर के साथ पास से जुड़ा रहा है और 14 सालों तक उसके साथ पाकिस्तान में रहा। अमली काफ़ी समय से अलग-अलग आतंकवादी और अन्य आपराधिक गतिविधियों में शामिल रहा है। इससे पहले उसके विरुद्ध तकरीबन 7 केस दर्ज हुए और चालान पेश हुए परन्तु वह बरी हो गया। रविवार को गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) संशोधन ऐक्ट के अंतर्गत थाना माहिलपुर, जि़ला होशियारपुर में केस दर्ज किया गया है।

यह भी पढ़ें

चंडीगढ़ से अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा और यूरोप के लिए सीधी फ्लाइट शुरू होगी

चौकसी के कारण हो पाई गिरफ्तारी

डीजीपी ने कहा कि आतंकवादी हमले करके राज्य में शांति और सद्भावना को भंग करने की कोशिश कर रहे कुछ खालिस्तान समर्थक तत्वों के घिनौने मंसूबों बारे जानकारी के आधार पर पंजाब पुलिस राज्य में घूम रहे या देश के अलग अलग हिस्सों से दाखि़ल हो रहे सभी संदिग्ध व्यक्तियों की तलाशी, छापे और चैकिंग को यकीनी बना रही है। हाल ही में इस सम्बन्धी पंजाब पुलिस की तरफ से लगातार चौकसी के साथ की जा रही कोशिशें और आरंभ की गई मुहिम के परिणामस्वरूप इस मोड्यूल की गिरफ़्तारी संभव हुई है।

Show More
Bhanu Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned