आखिर हरीश रावत ने ऐसा क्या कहा कि नवजोत सिंह सिद्धू मान गए

पंजाब में कांग्रेस को नया सम्बल, एक साल बाद कांग्रेस के कार्यक्रम में पहुंचे सिद्धू

मुखयमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह से नाराजगी के चलते दिया था इस्तीफा, अब मंच साझा किया

By: Bhanu Pratap

Updated: 04 Oct 2020, 03:18 PM IST

चंडीगढ़। पंजाब में आज ब्रेकफस्ट सिसायत (Breakfast politics in Punjab) हुई। पंजाब कांग्रेस के प्रभारी हरीश रावत पूर्व मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू के घर पहुंचे। साथ में जलपान किया। इसी दौरान राजनीतिक बातें भी हुईं। हरीश रावत ने ऐसा कुछ कह दिया कि नवजोत सिंह सिद्धू सारी नाराजगी भूलकर साथ चल दिए। करीब एक साल बाद वे कांग्रेस के कार्यक्रम में भाग लेने मोगा पहुंचे। मंच भी साझा किया। मोगा से राहुल गांधी ने ट्रैक्टर रैली शुरू की। इसके माध्यम से वे केन्द्र सरकार द्वारा पारित कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हैं।

मंत्रिमंडल से दिया था त्यागपत्र

भारतीय जनता पार्टी छोड़कर कांग्रेस में शामिल हुए नवोजत सिंह सिद्धू को पर्टी ने पूरा सम्मान दिया। उन्हें पंजाब सरकार में कैबिनेट मंत्री बनाया गया। मुख्यमंत्री अमरिन्दर सिंह से उनके मतभेद लगातार बढ़ते गए। तल्खी सार्वजनिक होने लगी। स्वयं को उपेक्षित मानकर उन्होंने मंत्रिमंडल से त्यागपत्र दे दे दिया। सिद्धू ने ट्वीट करके त्यागपत्र की जानकारी खुद दी।

एक साल बाद मंच साझा किया

इसके साथ ही सिद्धू ने स्वयं को निष्क्रिय कर लिया था। कांग्रेस के किसी भी कार्यक्रम में भाग नहीं ले रहे थे। एक साल बाद पहला मौका है जब उन्होंने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह के साथ मंच साझा किया। किसानों की बात कही। कांग्रेसियों को भी लग रहा है कि अब ठीक है। इसका कारण यह है कि सिद्धू की भाषण शैली सबसे अलग है। वे अपनी बातों से जनता को बांधे रखते हैं। मोगा की रैली में उन्होंने कहा भी कि दिल्ली के ताज गिराए जाएंगे।

नवजोत सिंह सिद्धू
Show More
Bhanu Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned