गर्भकाल में मधुमेह से संतान को नुकसान

By: जमील खान

Published: 22 Nov 2017, 06:45 PM IST

हॉट ऑन वेब
1/8

गर्भावस्था के दौरान हार्मोन में होने वाले बदलावों के कारण कुछ महिलाओं में रक्त शर्करा का स्तर असामान्य रूप से बढ़ जाता है। इस स्थिति को गर्भकालीन मधुमेह (गेस्टेशनल डायबिटीज) कहते हैं। गर्भकालीन मधुमेह बच्चे के जन्म के बाद खत्म हो जाता है, लेकिन इससे गर्भावस्था में कुछ जटिलताओं की संभावना रहती है। ऐसी स्थिति से बचने के लिए मां के साथ ही बच्चे को भी विशेष चिकित्सीय निगरानी की जरूरत होती है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned