पहले से ज्यादा खतरनाक हुआ कोरोना वायरस, RT PCR टेस्ट में नहीं आ रहा सामने!

  • Research on Coronavirus : शोधकर्ताओं ने संक्रमण से दोबारा बीमार हुए मरीजों पर रिसर्च की तो चौंकाने वाली सच्चाई आई सामने
  • रिसर्च में 8 जीनोम में 39 म्‍यूटेशन पाए गए, इसी से शरीर में वायरस की हुई पुष्टि

By: Soma Roy

Published: 24 Sep 2020, 11:30 AM IST

नई दिल्ली। कोरोना वायरस हर रोज नया रूप बदल रहा है। जिसके चलते इसका सटीक इलाज खोजना काफी मुश्किल हो गया है। इसी बीच डॉक्टरों और वैज्ञानिकों की चिंता दोबारा बढ़ गई है क्योंकि वायरस (Coronavirus) पहले से ज्यादा खतरनाक हो गया है। यह संक्रमण उन लोगों में भी दोबारा हो रहा है, जो इससे ठीक हो चुके हैं। हैरानी वाली बात यह है कि कोरोना संक्रमण दूसरे फेज में आरटी पीसीआर (RT PCR Test) में सामने नहीं आता है। इससे संक्रमण का पता नहीं चल पा रहा है। शरीर में वायरस की पुष्टि पूरे जीनोम सिक्‍वेंसिंग से ही चल पा रहा है।

मेडिकल जर्नल 'द लांसेट' में प्रकाशित एक शोध के अनुसार कोरोना वायरस का प्रभाव इस बार पहले से भी अधिक गंभीर स्थिति में है। हाल ही में मुंबई (Mumbai) के चार स्‍वास्‍थ्‍यकर्मियों में दोबारा कोराना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई है। मरीजों पर ये रिसर्च नायर और हिंदुजा अस्पताल ने की है क्योंकि यही के स्टाफ में संक्रमण पाया गया। शोध में इंस्‍टीट्यूट ऑफ जिनोमिक्‍स एंड इंट्रिगेटिव बॉयोलॉजी और दिल्‍ली के इंटरनेशनल सेंटर फॉर जेनेटिक इंजीनियरिंग एंड बायोटेक्‍नोलॉजी (ICGEB) ने भी मदद की। रिसर्च में 8 जीनोम में 39 म्‍यूटेशन पाए गए हैं।

बताया जाता है कि जिन चार स्‍वास्‍थ्‍यकर्मियों को दोबारा कोरोना वायरस संक्रमण हुआ। उनमें पहले के मुकाबले इस बार वायरस के ज्यादा लक्षण पाए गए। उनकी हालत पहले से अधिक खराब थी। इसके बावजूद पीसीआर टेस्ट में कोरोना वायरस की पुष्टि नहीं हो पाई थी। बाद में जीनोम की जांच की गई तो वायरस पाया गया। राहत की बात ये रही कि संक्रमण होने पर उनके लोवर रेस्पिरेटरी ट्रैक्‍ट में दिक्कत नहीं हुई, जिसके चलते वे ठीक से सांस ले पा रहे थे।

Coronavirus Outbreak coronavirus COVID-19 virus
Show More
Soma Roy Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned