script गणतंत्र दिवस 2024 : आंध्र प्रदेश की झांकी में 'स्कूल शिक्षा में बदलाव' को दर्शाया | Republic Day : Andhra tableau depicts 'Transforming School Education' | Patrika News

गणतंत्र दिवस 2024 : आंध्र प्रदेश की झांकी में 'स्कूल शिक्षा में बदलाव' को दर्शाया

locationहैदराबादPublished: Jan 27, 2024 06:14:23 pm

Submitted by:

Rohit Saini

झांकी में तेलुगु से हिंदी और अंग्रेजी के अक्षरों के साथ शिक्षा के माध्यम में बदलाव को दर्शाया गया

गणतंत्र दिवस 2024 : आंध्र प्रदेश की झांकी में 'स्कूल शिक्षा में बदलाव' को दर्शाया
गणंतंत्र दिवस समारोह के दौरान आंध्रप्रदेश की झांकी।
नई दिल्ली . 75वें गणतंत्र दिवस परेड में शुक्रवार को आंध्र प्रदेश की झांकी ने राज्य में 'स्कूल शिक्षा में बदलाव' को प्रदर्शित किया। आंध्र प्रदेश की झांकी ‘आंध्र प्रदेश में स्कूली शिक्षा में बदलाव, छात्रों को वैश्विक स्तर पर प्रतिस्पर्धी बनाना'’ विषय पर थी, जिसमें सरकार द्वारा उठाए गए शैक्षिक सुधारों पर प्रकाश डाला गया था।
गणतंत्र दिवस 2024 : आंध्र प्रदेश की झांकी में 'स्कूल शिक्षा में बदलाव' को दर्शायापूरी झांकी में तेलुगु से हिंदी और अंग्रेजी के अक्षरों के साथ शिक्षा के माध्यम में बदलाव को दर्शाया गया था। सामने के भाग के शीर्ष पर गांव के क्लास रूम और स्लेट वाले छात्रों के पुराने पैटर्न को दर्शाया गया है।
झांकी में दोनों तरफ बच्चों के साथ आधुनिक प्ले स्कूल की अवधारणा को दर्शाया गया था। ऊपर के हिस्से में छात्रों के साथ एक विज्ञान प्रयोगशाला और बीच में टैब दिखाते हुए छात्रों को पेश किया गया था।
झांकी में इंटरैक्टिव पैनल और स्मार्ट टीवी के साथ एक डिजिटल क्लास रूम और द्विभाषी पाठ्य पुस्तकें, विज्ञान लेख और गणितीय उपकरण दिखाने वाले मेहराब के साथ डिजिटल क्लास रूम और इंटरैक्टिव पैनल और स्मार्ट टीवी के साथ अंग्रेजी प्रयोगशालाओं को दर्शाया गया था।
गणतंत्र दिवस 2024 : आंध्र प्रदेश की झांकी में 'स्कूल शिक्षा में बदलाव' को दर्शाया
आंध्र प्रदेश सरकार का मानना है कि ‘शिक्षा एक संपत्ति है जिसे हम अपने बच्चों को दे सकते हैं और शिक्षा पर खर्च किया गया सारा खर्च राज्य के भविष्य के विकास के लिए निवेश होगा’।
सरकार शिक्षा क्षेत्र में क्रांतिकारी सुधार और नवोन्मेषी योजनाएं लेकर आई है और बुनियादी ढांचे में सुधार कर छात्रों को वैश्विक नागरिक बनाने और कॉरपोरेट स्कूलों से प्रतिस्पर्धा करने के लिए सरकारी स्कूलों में अंग्रेजी लैब, स्मार्ट टीवी, डिजिटल क्लास रूम उपलब्ध कराने के लक्ष्य के साथ आगे बढ़ रही है।
सभी स्कूलों में प्राथमिक स्तर से अंग्रेजी माध्यम शुरू किया गया है। माध्यमिक विद्यालय के विद्यार्थियों को अध्ययन सामग्री के साथ टैबलेट भी उपलब्ध कराये जा रहे हैं।
गणतंत्र दिवस 2024 : आंध्र प्रदेश की झांकी में 'स्कूल शिक्षा में बदलाव' को दर्शाया
इससे पहले राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने कर्तव्य पथ पर राष्ट्रीय ध्वज फहराकर 75वें गणतंत्र दिवस समारोह की शुरुआत की। कर्तव्य पथ पर पहुंचने पर राष्ट्रपति मुर्मू का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वागत किया।
इसके साथ ही राष्ट्र गान बजाया गया और राष्ट्रपति को 21 तोपों की सलामी दी गई।
राष्ट्रपति मुर्मू और उनके फ्रांसीसी समकक्ष इमैनुएल मैक्रॉन (जो इस वर्ष के गणतंत्र दिवस समारोह के मुख्य अतिथि थे) को राष्ट्रपति के अंगरक्षक द्वारा ले जाया गया।
राष्ट्रपति का अंगरक्षक भारतीय सेना की सबसे वरिष्ठ रेजिमेंट है। यह गणतंत्र दिवस इस विशिष्ट रेजिमेंट के लिए विशेष है क्योंकि 'अगंरक्षक' ने 1773 में अपनी स्थापना के बाद से 250 वर्ष की सेवा पूरी कर ली है। दोनों राष्ट्रपति 'पारंपरिक बग्गी' में कार्तव्य पथ पर पहुंचे, यह प्रथा 40 वर्षों के अंतराल के बाद वापस लौटी।

ट्रेंडिंग वीडियो