scriptBhaiyyu Maharaj Suicide Case - Ayushi said this about Kuhu and Palak | भय्यू महाराज सुसाइड केस - आयुषी ने कही कुहू और पलक को लेकर यह बात | Patrika News

भय्यू महाराज सुसाइड केस - आयुषी ने कही कुहू और पलक को लेकर यह बात

कोई लड़की किसी शादीशुदा व्यक्ति को (महाराज) को कैसे अपना पति बता सकती है।

इंदौर

Published: January 29, 2022 12:07:43 pm

इंदौर. भय्यू महाराज सुसाइड केस में कोर्ट ने विनायक-पलक और शरद को 6-6 साल की सजा सुनाई है, इस दौरान महाराज की दूसरी पत्नी आयुषी ने बेटी कुहू और पलक को लेकर अपनी बात रखी, इस दौरान आयुषी का रवैया भी कुहू के प्रति नई शुरूआत करने जैसा नजर आया, उन्होंने इस अवसर पर साफ कहा कि वह मेरी बेटी की तरह है।

भय्यू महाराज सुसाइड केस - आयुषी ने कही कुहू और पलक को लेकर यह बात
भय्यू महाराज सुसाइड केस - आयुषी ने कही कुहू और पलक को लेकर यह बात

आयुषी ने कहा- कुहू मुझे मां न मानें, लेकिन वह मेरी बेटी की तरह

भय्यू महाराज के जीवन में तनाव की सबसे बड़ी वजह दूसरी पत्नी आयुषी और बेटी कुहू के बीच अनबन थी। फैसले के बाद आयुषी ने उन्हीं कड़वी यादों पर बात की, लेकिन लहजा सबकुछ भूलकर नई शुरुआत करने जैसा था। आयुषी ने कहा, जो क्षति हमारे जीवन में हो गई है, उसके लिए यह सजा काफी छोटी है। कुहू छोटी बच्ची है। मां का निधन होने के कुछ समय बाद पिता का इस तरह से चला जाना.. उसकी मन स्थिति क्या होगी। वह आज भी सदमे से बाहर नहीं आ सकी है। वो भले मुझे अपनी मां नहीं माने, लेकिन मेरे लिए तो वह धरा (छोटी बेटी की तरह ही है।

उन्होंने कहा पूरा षड्यंत्र पलक से महाराज की शादी कराने के लिए रचा गया था। पहले पलक को 1.5 लाख रुपए महीना दिया जाता था, बाद में वह राशि ढाई लाख रुपए महीना कर दी गई थी। यह राशि तीनों आपस में बांट लेते थे। कोर्ट में पेश पलक की वाट्सऐप चैट को लेकर आयुषी ने कहा, कोई लड़की किसी शादीशुदा व्यक्ति को (महाराज) को कैसे अपना पति बता सकती है। मालूम हो कोर्ट ने आयुषी और कुहू को अहम गवाह माना है। दोनों के बीच मतभेद की बातें ट्रायल के दौरान सामने आई थीं आयुषी को कुहू द्वारा मां नहीं मानने सहित धरा को स्वीकार नहीं करने से भी दोनों में मतभेद थे।

सुसाइड नोट पर टिप्पणी की


भय्यू महाराज आत्महत्या केस में कोर्ट ने मौके से बरामद किए सुसाइड नोट पर टिप्पणी की है। कोर्ट ने सुसाइड नोट को सही माना है। यह भी साबित हुआ है कि उसकी लिखावट और हस्ताक्षर दोनों ही महाराज के हैं, लेकिन आत्महत्या के लिए बनी परिस्थितियों के परिप्रेक्ष्य में कोर्ट ने लिखा है कि ऐसी स्थिति में भय्यू महाराज के स्वस्थ्य चित्त होने की उम्मीद कम है।

तीनों को 6-6 साल की सजा
कोर्ट ने पिछले सप्ताह आदेश सुरक्षित रखा था। शुक्रवार की कोर्ट नंबर 48 में करीब 12.30 बजे आरोपियों के वकीलों को बुलाया और सजा के मुद्दे पर उनके पक्ष जाने वकीलों ने कम से कम सजा देने की मांग की। दोपहर करीब 1.35 पर कोर्ट ने तीनों को 6-6 साल की सजा सुनाई। 56 पेज के आदेश में 35 गवाहों के बयान, प्रतिपरीक्षण, सबूत सहित सभी पहलुओं को शामिल किया गया है। शासन की ओर अतिरिक्त लोक अभियोजक गजराज भंडारी ने पैरवी की।

हाई कोर्ट में देंगे फैसले को चुनौती

आरोपी पलक की ओर से सीनियर एडवोकेट अविनाश सिरपुरकर, शरद की ओर से एडवोकेट धर्मेंद्र गुर्जर व विनायक की ओर से आशीष चौरे व इमरान कुरैशी ने पैरवी की गुर्जर ने कहा, कोर्ट ने कई अहम बिंदुओं को फैसले में शामिल नहीं किया फैसले को हाई कोर्ट में चुनौती देंगे।


12 जून 2018 को महाराज ने खुद को गोली मारी थी

18 जनवरी 2019 को तीनों को किया था गिरफ्तार

18 मार्च 2019 को पेश किया गया चालान

28 जनवरी 2022 को आया फैसला

151 सुनवाई में आया फैसला

यह भी पढ़ें :अभी-अभी खोला था ई-बाइक का शोरूम, ऐसा क्या हुआ जो पिता की रिवॉल्वर से खुद को मारी गोली

कोर्ट परिसर में दोषियों के परिजन की स्थिति

फैसला सुनाए जाने के दौरान कोर्ट परिसर में विनायक दुधाड़े के माता-पिता, पत्नी, भाई व एक बच्चा भी कोर्ट पहुंचा था। सजा के ऐलान से पहले बड़ी संख्या में मीडियाकर्मियों के पहुंचने से वे कोर्ट रूम से दूर जाकर अपने वकील की टेबल पर पहुंच गए। जैसे ही उन्हें पता चला विनायक को 6 साल की सजा हुई है तो सभी की आंखों से आसू थे। पिता काशीनाथ दुधाड़े ने अपने वकील आशीष चौरे से कहा, यदि हमारा बेटा गलत होता, पैसों की हेराफेरी कर रहा होता तो आज हमारी यह स्थिति नहीं होती। मां बार बार वकील से पूछ रही थी कि बेटे के खिलाफ कोर्ट को क्या सबूत मिले हैं। वकील ने कहा कुछ नहीं.. तो बोली फिर क्यों कोर्ट ने सजा सुनाई है। सुखलिया स्थित लवकुश आवास में विनायक का परिवार रहता है। शरद देशमुख की मां भी कोर्ट पहुंची की मां थी। महाराष्ट्र के अकोला जिले की ग्राम निम्बा में रहने वाले शरद की मां अपने वकील गुर्जर से पूछ रही थी, किस आधार पर सजा मिली, क्या हाई कोर्ट में अपील कर बेटे को जेल से बाहर निकाल सकते हैं। नम आंखों से उन्होंने कहा बेटा निर्दोष है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

Thailand Open: PV Sindhu ने वर्ल्ड की नंबर 1 खिलाड़ी Akane Yamaguchi को हराकर सेमीफाइनल में बनाई जगहIPL 2022 RR vs CSK Live Updates: रोमांचक मुकाबले में राजस्थान ने चेन्नई को 5 विकेट से हरायासुप्रीम कोर्ट में अपने लास्ट डे पर बोले जस्टिस एलएन राव- 'जज साधु-संन्यासी नहीं होते, हम पर भी होता है काम का दबाव'ज्ञानवापी मस्जिद केसः सुप्रीम कोर्ट का सुझाव, मामला जिला जज के पास भेजा जाए, सभी पक्षों के हित सुरक्षित रखे जाएंशिक्षा मंत्री की बेटी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने दिए बर्खास्त करने के निर्देश, लौटाना होगा 41 महीने का वेतनCBI रेड के बाद तेजस्वी यादव ने केंद्र सरकार पर कसा तंज, कहा - 'ऐ हवा जाकर कह दो, दिल्ली के दरबारों से, नहीं डरा है, नहीं डरेगा लालू इन सरकारों से'Ola-Uber की मनमानी पर लगेगी लगाम! CCPA ने अनुचित व्यवहार के लिए भेजा नोटिस, 15 दिन में नहीं दिया जवाब तो हो सकती है कार्रवाईHyderabad Encounter Case: सुप्रीम कोर्ट के जांच आयोग ने हैदराबाद एनकाउंटर को बताया फर्जी, पुलिसकर्मी दोषी करार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.