रेमडेसिविर इंजेक्शन नहीं मिलने से हाहकार, प्रोडक्शन बंद होने से बिगड़े हालात, जल्द नॉर्मल होगी सप्लाई

प्रदेश की आर्थिक नगरी इंदौर और राजधानी भोपाल में इंजेक्शन नहीं मिलने से लोगों में हाहाकार मच गया है।

By: Faiz

Updated: 07 Apr 2021, 05:48 PM IST

इंदौर/ मध्य प्रदेश में जैसे ही एक बार फिर कोरोना संक्रमण की रफ्तार बढ़ी है, वैसे ही रेमडेसिविर इंजेक्शन की डिमांड भी बढ़ गई है। लेकिन, प्रदेश की आर्थिक नगरी इंदौर और राजधानी भोपाल में इंजेक्शन नहीं मिलने से लोगों में हाहाकार मच गया है। इंदौर में जहां ड्रग हाउसेज के बाहर रेमडेसिविर इंजेक्शन लेने वालों की लंबी कतार लगी हुई है, तो वहीं कई स्टोर्स पर इंजेक्शन खत्म होने के नोटिस ही लगा दिया गया है। हालांकि, कंपनियों का मानना है कि, अगले दो-तीन दिनों के भीतर इंजेक्शन की सप्लाई पटरी पर आ जाएगी।

 

पढ़ें ये खास खबर- सीएम शिवराज बोले- मध्य प्रदेश में फिलहाल नहीं लगेगा टोटल लॉकडाउन, धर्मगुरुओं से लिये सुझाव

 

देखें खबर से संबंधित वीडियो...

'भोपाल में भी नहीं मिल रहा, यहां भी कोई जवाब नहीं दे रहे'

इंदौर के क्वालिटी ड्रग हाउस के गेट के बाहर जहां रेमडेसिविर इंजेक्शन खत्म होने का नोटिस चस्पा था, वहीं इंजेक्शन लेने वालों की कतार में खड़े एक युवक हर्ष श्रीवास्तव ने बताया कि, उसके चाचा भोपाल के अस्पताल में भर्ती हैं। इंजेक्शन भोपाल में भी नहीं मिल रहा है। ड्रग हाउस के कर्मचारियों ने मंगलवार को वादा किया था कि, बुधवार यानी आज किसी भी हालत में दोपहर 12 बजे तक इंजेक्शन मिल जाएगा। आज जब तय समय पर इंजेक्शन लेने आए हैं, तो ये लोग इंजेक्शन देना तो दूर की बात कब तक मिल सकेगा, इस संबंध में भी कोई जानकारी नहीं दे रहे हैं।

 

पढ़ें ये खास खबर- कोरोना के चलते बड़ा फैसला : महाराष्ट्र के बाद अब छत्तीसगढ़ से मध्य प्रदेश की परिवहन सेवाओं पर बैन


2-3 दिन में सप्लाई में सुधार के आसार

आपको बता दें कि, कोरोना के मरीज को लगने वाले इस खास इंजेक्शन की सप्लाई अक्टूबर से फरवरी के बीच केस कम होने की वजह से घट गई थी। इसी वजह से इस इंजेक्शन को बनाने वाली कंपनियों ने इसका प्रोडक्शन घटा दिया था। लेकिन, पिछले माह से अचानक कोरोना ने घातक रूप धारण कर लिया है। ऐसे में अब कंपनियां 24 घंटे प्रोडक्शन करने के बाद भी मार्केट में सप्लाई पूरी नहीं कर पा रही हैं। हालांकि, कंपनियों ने 3 अप्रैल से एक बार फिर 24 घंटे प्रोडक्शन का काम शुरु कर दिया है। अनुमान के मुताबिक, 10 अप्रैल तक सप्लाई व्यवस्थित होने की उम्मीद है।

news

कालाबाजारी रोकने के लिये कलेक्टर ने दिये आवश्यक निर्देश

वहीं, शहर में इंजेक्शन की कालाबाजारी रोकने के लिए कलेक्टर मनीष सिंह ने आदेश जारी करते हुए कहा कि, इंजेक्शन खरीदने के लिये आधार कार्ड या अन्य फोटो आईडी का होना आवश्यक है। इसके साथ ही, इंजेक्शन खरीदने वाले को मरीज की पॉजिटिव रिपोर्ट भी दिखानी होगी और डॉक्टर की सिफारिशी पर्ची भी जरूरी होगी। इसके अलावा, रोजाना स्टॉकिस्ट को भी सुबह 11 बजे तक डिमांड और सप्लाई से संबंधित पूर्ण जानकारी देनी होगी।

 

पढ़ें ये खास खबर- झाबुआ में कोरोना विस्फोट : कलेक्टर, ASP, डिस्ट्रिक्ट जज समेत 22 की रिपोर्ट पॉजिटिव

 

पांच से छह हजार की डिमांड इंदौर में

प्रदेश में सबसे ज्यादा डिमांड इंदौर में है। यहां 700 मरीज रोजाना आ रहे हैं। संक्रमण दर भी 16% तक पहुंच गई है। मौतें भी हो रही हैं। इंदौर जिले में रोजाना पांच से छह हजार इंजेक्शन्स की खपत के अनुरूप डिमांड हो रही है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned