देश के 8 करोड़ कारोबारी करेंगे भारत बंद, 1500 जगहों पर दिया जाएगा धरना

  • जीएसटी के सरलीकरण की मांग को लेकर कैट ने किया भारत बंद का आह्वान
  • ऑल इंडिया ट्रांसपोटर्स वेलफेयर एसोसिएशन बंद किया समर्थन, करेंगे चक्काजाम

By: Saurabh Sharma

Updated: 25 Feb 2021, 03:24 PM IST

नई दिल्ली। भारत सरकार की जीएसटी व्यवस्था को सरल करने की मांग को लेकर कारोबारी संगठन कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स यानी कैट की ओर से 26 फरवरी यानी कल भारत बंद करने का ऐलान किया है। इस बंद में देश के 8 करोड़ कारोबारी भाग लेंगे। वहीं इस बंद करने का समर्थन करने के लिए ऑल इंडिया ट्रांसपोटर्स वेलफेयर एसोसिएशन का समर्थन आ गया है। वो देश में चक्का जाम करने का ऐलान कर दिया है।

यह भी पढ़ेंः- देश में हर साल 40 फीसदी फल और सब्जियां हो जाती हैं बर्बाद, अब निकाला यह तरीका

देश के 1500 जगहों पर धरना प्रदर्शन
संगठन के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल के अनुसार केंद्र सरकार, राज्य सरकारों और जीएसटी परिषद से माल एवं सेवा कर के कठिन नियमों को सरल करने की मांग कर रहे हैं। जिसकी वजह से 26 फरवरी को भारत बंद करने का ऐलान किया गया है। जिसके देश के 1500 स्थानों पर धरना प्रदर्शन भी किया जाएगा। देश के करीब 8 करोड़ कारोबारी इस प्रदर्श में भाग ले रहे हैं।

यह भी पढ़ेंः- बड़ी खुशखबरी: पीएम मोदी के कहने पर देश के 11 करोड़ किसानों के खातों पर पहुंचे 10500 रुपए

14 घंटे तक ट्रांसपोर्टेशन रहेगा बाधित
देश के सभी राज्यों में राज्य स्तरीय-परिवहन संघों ने भारत सरकार द्वारा पेश किए गए नए ई-वे बिल कानूनों के विरोध में कैट का समर्थन करने का ऐलान किया है। ट्रांसपोर्ट के ऑफिसों को कल पूरी तरह से बंद करने का ऐलान किया गया है। किसी भी प्रकार की माल की बुकिंग, डिलीवरी, लदाई/उतराई बंद रहेगी। सभी परिवहन कंपनियों को विरोध के लिए सुबह 6 से शाम के 8 बजे के बीच अपने वाहन पार्क करने के लिए कहा गया है। ई वे बिल का नियम एक जनवरी से लागू हुआ है। जिसकी वजह से परिवहन और कारोबारी काफी परेशान है। सरकार की मानें तो ई वे बिल की समय सीमा की वैधता घटाई जाएगी।

यह भी पढ़ेंः- आखिर पीएम मोदी ने क्यों की थी पेट्रोल और डीजल पर आत्म निर्भर बनने की बात, यहां समझें पूरा गणित

इन संगठनों ने भी दिया समर्थन
ट्रांसपोर्ट सेक्टर के साथ राष्ट्रीय व्यापारिक संगठनों ने भी व्यापार बंद का समर्थन किया है जिसमें ऑल इंडिया एफएमसीज़ी डिस्ट्रिब्यूटर्स फेडरेशन, फेडेरेशन ऑफ अलूमिनियम यूटेंसिलस मैन्यूफैक्चरर्स एंड ट्रेडर्स एसोसिएशन, नार्थ इंडिया स्पाईसिस ट्रेडर्स एसोसिएशन, ऑल इंडिया वूमेंन एंटेरप्रिनियर्स एसोसिएशन, ऑल इंडिया कम्प्यूटर डीलर एसोसिएशन, ऑल इंडिया कॉस्मेटिक मैन्यूफैक्चरर्स एसोसिएशन आदि शामिल हैं।

GST
Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned