गैस रिसाव की घटनाओं से लिया सबक, सरकार ने बनाई Manufacturing Industry के लिए Guidelines

  • विशाखापट्टनम गैस लीक मामलों के बाद केंद्र सरकार ने जारी की गाइडलाइंस
  • सरकार ने कहा, High Production Target हासिल करने की न करें कोशिश

By: Saurabh Sharma

Updated: 10 May 2020, 02:49 PM IST

नई दिल्ली। विशाखापट्टनम गैस लीक मामले ( Visakhapatnam Gas Leak Cases ) आने के बाद केंद्र सरकार ( Central Govt ) की आखें खुली और तुरंत मैन्युफैक्चरिंग इंडस्ट्री के लिए गाइडलाइंस ( Manufacturing Industry Guidelines ) जारी कर दी है। केंद्र सरकार ने मैन्युफैक्चरिंग यूनिट्स ( Manufacturing Units ) को पोस्ट लॉकडाउन ( Post Locdown ) के लिए दिशा-निर्देश जारी करते हुए कहा कि वे हाई प्रोडक्शन टारगेट पूरा करने की कोशिश बिल्कुल ना करें। सरकार का कहना है कि यूनिट शुरू करने एक सप्ताह तक इसे ट्रायल के रूप में लें। साथ ही सभी यूनिट्स को सिक्योरिटी प्रोटोकोल भी फॉलो करना होगा।

यह भी पढ़ेंः- Equity Market Investors को रहना होगा सावधान, हो सकता है बड़ा नुकसान

जारी किए हैं गाइडलाइंस
देश की अर्थव्यवस्था को पटरी पर वापस लाने के मद्देनजर कोरोना वायरस महामारी की रोकथाम के लिए लागू किए गए देशव्यापी लॉकडाउन के बीच कुछ इलाकों में ढील दी गई है, ऐसे में केंद्र ने लॉकडाउन के बाद मैन्युफैक्चरिंग उद्योग को दोबारा शुरू करने को लेकर नई गाइडलाइंस जारी की है।

यह भी पढ़ेंः- SBI Wecare Deposit से मिलेगा बुजुर्गों को ज्यादा फायदा, इस तरह से उठा सकते हैं लाभ

जोखिम कम करने करने होंगे उपाय
केंद्र सरकार ने मैन्युफैक्चरिंग यूनिट्स को पोस्ट लॉकडाउन के लिए दिशा-निर्देश जारी करते हुए कहा कि वे उच्च उत्पादन लक्ष्य हासिल करने की कोशिश न करें। सरकार द्वारा जारी की गई गाइडलाइंस में कहा गया है कि जोखिम को कम रखने और इंडस्ट्रियल यूनिट्स को पुन: शुरू करने के मद्देनजर उद्योगों को सलाह दी जाती है कि इकाइयों को शुरू करते समय पहले सप्ताह को एक ट्रायल की तरह लें और सभी सुरक्षा प्रोटोकॉल सुनिश्चित करें। कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के मद्देनजर देश में 14-दिन का लॉकडाउन 3.0 चालू है और यह 17 मई को समाप्त होगा। ऐसे में सभी प्रमुख सचिवों और केंद्र शासित प्रदेशों (यूटी) के प्रशासकों को शनिवार को दिशानिर्देश जारी किए गए।

यह भी पढ़ेंः- Central Bank of India स्कीम में 20 साल की उम्र तक बन जाएंगे लखपति, जानिए कैसे?

मंत्रालय की ओर से दी गई सलाह
मंत्रालय ने जोखिम को कम करने को लेकर सलाह दी है कि विशिष्ट उपकरणों पर काम करने वाले कर्मचारियों को चाहिए कि वह असामान्य आवाज या गंध, एक्सपोज्ड वायर, कंपन, लीक, धुएं, असामान्य वौब्लिंग या अन्य प्रकार की असामान्यताओं की पहचान करें और इसके बारे में जागरूक रहें, ताकि तत्काल रखरखाव की आवश्यकता पडऩे पर संभावित खतरनाक संकेतों पर शटडाउन किया जा सके।

Show More
Saurabh Sharma Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned