बाबा रामदेव की हुई 'रुचि', रुचि सोया के अधिग्रहण के लिए एनसीएलटी ने दी मंजूरी

  • 4,350 करोड़ रुपये में रुचि सोया का अधिग्रहण करेगी पतंजलि आयुर्वेद।
  • NCLT ने बीते गुरुवार को दी मंजूरी।
  • Standard Chartered Bank और DBS बैंक ने रुचि सोया को NCLT में घसीटा था।

By: Ashutosh Verma

Updated: 26 Jul 2019, 01:06 PM IST

नई दिल्ली। लंबी जद्दोजहद के बाद आखिरकार NCLT ने गुरुवार को रुचि सोया ( Ruchi Soya ) को 4,350 करोड़ रुपये में अधिग्रहण करने के लिए बाबा रामदेव ( baba ramdev ) की पंतजलि आयुर्वेद ( Patanjali Ayurved ) को हरी झंडी दे दी। रुचि सोया का लेंडर्स पर 9,345 करोड़ रुपये और क्रेडिटर्स के प्रति 2,800 करोड़ रुपये का कर्ज है।

इस डील की खास बात यह रही कि स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक ( Standard Chartered bank ) और सिंगापुर की उधारकर्ता DBS ने पतंजिल आयुर्वेद पर लो बिडिंग (कम पैसे में नीलामी) का आरोप लगाते हुये एनसीएलटी का दरवाजा खटखटाया था। इन दोनों उधारकर्ताओं ने चिंता जाहिर की थी कि लो बिडिंग की वजह से उन्हें उनकी पूरी रकम नहीं मिल सकेगी। हालांकि, इस मामले के बावजूद भी अब एनसीएलटी ने पतंजलि आयुर्वेद को हरी झंडी दे दी है।

यह भी पढ़ें - RBI गवर्नर शक्तिकांत दास को उम्मीद, जल्द रफ्तार पकड़ेगा NBFC सेक्टर

किन बैंकों पर कितना है रुचि सोया का कर्ज

गौरतलब है कि भारतीय स्टेट बैंक की अगुवाई वाले फाइनेंशियल क्रेडिटर्स के प्रति रुचि सोया की 9,345 करोड़ रुपये का कर्ज है। इसमें एसबीआई द्वारा 1,800 करोड़ रुपये, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया द्वारा 816 करोड़ रुपये, पंजाब नेशनल बैंक द्वारा 743 करोड़ रुपये, स्टैंडर्ड चार्टर्ड द्वारा 608 करोड़ रुपये, डीबीएस द्वारा 243 करोड़ रुपये का कर्ज है। इस प्रकार यह रिजॉल्युशन लेंडर्स के प्रति करीब 60 फीसदी के हेयरकट के बाद पूरा हुआ है।

क्य है एनसीएलटी की शर्त

हालांकि, एनसीएलटी का कहना है कि यह मंजूरी इस बात पर निर्भर करेगी कि रिजॉल्यूशन प्रोफेशनल को सुनवाई की अगली तारीख एक अगस्त से पहले 600 करोड़ रुपये के रकम के सही स्रोत के बारे में सूचना देनी होगी। यह रकम भी बिड अमाउंट का हिस्सा है। ट्रिब्यूनल ने रिजॉल्यूशन प्रोफेशनल से सुनवाई की अगली तारीख से पहले कॉरपोरेट दिवाला निपटान प्रक्रिया की पूरी वास्तविक लागत का ब्योरा देने को भी कहा है।

यह भी पढ़ें - कमबैक की तैयारी में स्नैपडील, ईशा अंबानी के पति आनंद पीरामल करेंगे निवेश

आचार्य बालकृष्ण ने क्या कहा

एनसीएलटी के इस फैसले के बाद पतंजलि आयुर्वेद को प्रबंध निदेशक आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि यह एक साकारात्मक कदम है। इससे हमें स्वदेश मूवमेंट को जोर देने में मदद मिलेगी। बालकृष्ण ने कहा, "राष्ट्रीय स्त्रोत का इस्तेमाल करने की ओर यह बड़ा कदम है। इससे स्वदेशी मूवमेंट को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी और परिणामस्वरूप किसानों को लाभी मिलेगा।"

सोयाबिन तेल के लिए देश की प्रमुख कंपनी बनी पतंजलि

बता दें कि दिसंबर 2017 में स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक और डीबीएस बैंक ने रुचि सोया को दिवालिया कोर्ट में घसीटा था। एनसीएलटी ने दिवालिया याचिका को मंंजूर करते हुए शैलेंद्र अजमेरार को रिजॉल्युशन प्रोफेशनल नियुक्त किया था। लेकिन, रुचि सोया के लिए अडानी विल्मर और पतंजलि आयुर्वेदन ने फाइनेंशियल बिड सबमिट किया था। हालांकि, बाद में अडानी विल्मर ने इस बिडिंग से अपना नाम वापस ले लिया। रुचि सोया के अधिग्रहण के बाद पतंजलि अब देश की प्रमुख सोयाबिन तेल और एडिबल तेल बनाने वाली कंपनी बन गई है।

Show More
Ashutosh Verma Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned