Delhi Metro में नियमों की धज्जियां उड़ाने वालों पर लगा जुर्माना, जानिए कितनी चुकानी पड़ी कीमत

  • शनिवार से सभी यात्रियों के लिए शुरू हो चुकी है मेट्रो ट्रेन, पहले दिन हुए नियमों के उल्लंघन
  • फ्लाइंग स्क्वैड ने 114 लोगों को मेट्रो के अंदर नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए पकड़ा, 200 रुपए का जुर्माना लगाया

By: Saurabh Sharma

Updated: 13 Sep 2020, 10:54 AM IST

नई दिल्ली। दिल्ली मेट्रो ( Delhi Metro ) की सेवा शनिवार से सभी यात्रियों के लिए शुरू हो गई, लेकिन राष्ट्रीय राजधानी में लगातार कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे हैं, इसके बावजूद मेट्रो में सफर करने वाले यात्री नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए नजर आ रहे हैं। ऐसे 114 दोषी यात्रियों से जुर्माना वसूला गया। लोगों को मेट्रो में सफर करते वक्त सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का पालन करना जरूरी है। वहीं लापरवाही करने वालों पर मेट्रो द्वारा सख्त कार्रवाई भी की जा रही है।

डीएमआरसी का जांच अभियान
शनिवार को सभी लाइनों पर फ्लाइंग स्क्वैड के जरिए जांच अभियान चलाया गया। इस अभियान के तहत मेट्रो के अंदर ये देखा गया है कि यात्रियों द्वारा मेट्रो में नियमों का पालन किया जा रहा है या नहीं। हालांकि फ्लाइंग स्क्वाड के जरिये दिल्ली मेट्रो में नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए 114 यात्रियों को पकड़ा। वहीं इन सभी यात्रियों से जुर्माना भी वसूला गया।

114 यात्रियों से वसूला जुर्मना
डीएमआरसी के कार्यकारी निदेशक अनुज दयाल ने बताया कि 200 से ज्यादा यात्रियों को फ्लाइंग स्क्वैड ने नियमों के बारे में बताया और समझाकर छोड़ दिया। उन्होंने बताया कि 114 यात्रियों से दिल्ली मेट्रो ऑपरेशन एंड मैनेजमेंट एक्ट की धारा 59 के तहत 200 रुपये का जुर्माना वसूला भी गया। फ्लाइंग स्क्वैड ने इन सभी लोगों को मेट्रो के अंदर नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए पकड़ा।

फेज वाइज शुरू की गई मेट्रो
आपको बता दें कि डीएमआरसी की ओर से मेट्रोल का संचालन फेज वाइज शुरू किया गया है। पहले फेज में 7 सितंबर को येलो लाइन से दो शिफ्ट में मेट्रो की शुरूआत की गई थी। उसके बाद 9 तारीख को ब्लू लाइन को खोला गया था। यह दोनों ही लाइन दिल्ली एनसीआर की सबसे ज्यादा व्यस्त और भीड़ वाली मेट्रो लाइन है। जिसके बाद शनिवार को सभी लाइनों को आम लोगों के लिए खोल दिया गया।

डीएमआरसी प्रमुख ने की थी अपील
मेट्रो की सभी लाइनों को खोलने से पहले डीएमआरसी प्रमुख मंगू सिंह ने यात्रियों से अपील की थी कि वो जितना हो सके कम से कम मेट्रो में सफर करें। हो सके तो अपने अपने काम को वर्क फ्रॉम के तहत की रखें। साथ ही उन्होंने पीक ऑवर्स में मेट्रो में ना जाने को भी कहा था। उन्होंने कहा था कि मेट्रो ट्रेन के एक कोच में जहां पहले 300 से 350 यात्रियों को ले जाने की क्षमता थी। सोशल डिस्टेंसिंग की वजह से वो अब 50 की हो गई है।

Show More
Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned