जबलपुर में भाजपा को चुनौती दे रहे ये कांग्रेसी नेता, गढ़ बचाने की जुगत में पार्टी

नगर निगम चुनाव: महापौर आरक्षण के बाद दोनों प्रमुख दल कर रहे तैयारियां

 

By: Lalit kostha

Published: 11 Dec 2020, 12:18 PM IST

जबलपुर। महापौर पद पर आरक्षण प्रक्रिया पूरी होने के बाद अब नगर निगम चुनाव की अधिसूचना जारी होने का इंतजार है। लेकिन, भाजपा और कांग्रेस सहित अन्य दलों के कई दावेदारों ने अभी से ताल ठोंक दी है। भाजपा पांच साल के विकास कार्य गिनाकर फिर से ‘नगर सरकार’ की सत्ता पर काबिज होने की उम्मीद कर रही है। जबकि, कांग्रेस शहर के अनियोजित विकास सहित अन्य मुद्दों के साथ जनता की अदालत में जाने की तैयारी में है। फिलहाल, भाजपा के सामने अपना ‘गढ़’ बचाने की चुनौती है। वहीं, कांग्रेस की बड़ी ङ्क्षचता है कि उसका संगठन कैसे मजबूत हो? जबलपुर नगर निगम के लिए इस बार 21वां महापौर चुना जाएगा। कांग्रेस और भाजपा के अलावा मैदान में आम आदमी पार्टी, बहुजन समाज पाटी सहित अन्य दल भी उम्मीदवार उतारेंगे। कांग्रेस जहां वार्ड स्तर पर पर्यवेक्षकों की नियुक्ति कर रही है। महापौर उम्मीदवार के चयन के लिए भी जिलास्तर पर समन्वयक नियुक्त किए जा रहे हैं। दोनों प्रमुख दल अभी चुनाव तिथि की घोषणा का इंतजार कर रही हैं लेकिन सूत्रों का कहना है कि दोनों ही दलों के नेताओं ने बॉयोडाटा तैयार करना शुरू कर दिया है।

भाजपा को ‘गढ़’ की चुनौती, कांग्रेस को संगठन मजबूत करने की चिंता!

 

Municipal Corporation Jabalpur

युवा व वरिष्ठ लाइन में
महापौर की दावेदारी करने में युवा नेताओं से लेकर वरिष्ठ नेता भी दावेदारी करने में जुटे हैं। ऐसे में योग्य प्रत्याशियों का चयन हर पार्टी के लिए काफी पेचीदा बन गया है। कोई भी पार्टी अभी कुछ भी कहने की स्थिति में नहीं हैं। भाजपा नगर अध्यक्ष जीएस ठाकुर का कहना है कि प्रदेश में पूर्ण बहुमत की सरकार बनने से कार्यकर्ताओं में उत्साह है। प्रदेश संगठन के दिशा-निर्देश के तहत कार्य किए जाएंगे। नगर कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष दिनेश यादव का कहना है कि नगर निगम चुनाव के लिए तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। महापौर से लेकर पार्षद तक के चुनावों के लिए योग्य उम्मीदवारों को टिकट दिया जाएगा। वार्ड स्तर पर पर्यवेक्षक नियुक्त करने के साथ ही प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने जिला स्तर पर प्रभारी की नियुक्ति की गई है।

कांग्रेस इन मुद्दों को उठाएगी
- 12 साल बाद भी अधूरी सीवर लाइन
- नाल कवर्ड होकर छोटे हुए, डूब की चपेट में आता है शहर
- स्मार्ट सिटी के कार्यों में धांधली के आरोप
- करोड़ों खर्च के बाद भी स्वच्छता अभियान में फिसड्डी
- शहर का अनियोजित विकास, सडक़ बनाने, बिगाडऩे का खेल
- अधूरी सडक़ों से परेशान लोग, जगह-जगह पेड़ों की कटाई

भाजपा ये उपलब्धियां गिनाएगी
- शहर का यातायात व्यवस्थित करने के लिए बनाए लेफ्ट टर्न
- जाम से निजात दिलाने के लिए फ्लाईओवर की सौगात
- गुलौआ ताल, संग्राम सागर का कायाकल्प
- स्मार्ट सिटी के तहत स्मार्ट सडक़ों का निर्माण
- शहर में अमृत योजना के तहत पानी की टंकियों का निर्माण
- घमापुर से रांझी, सहित शहर में अन्य सडक़ों का निर्माण

Lalit kostha Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned