BIOPIC : फर्श से अर्श तक संघर्ष भरी किशोर की कहानी

शुरू में किशोर कुमार को संगीतकारों ने गंभीरता से नहीं लिया और उनसे हल्के स्तर के गीत गवाए जाते थे।

जबलपुर। किशोर कुमार की बायोपिक को लेकर उत्साह बढऩे लगा है। खासकर उन लोगों में जो किशोर दा के फैन हैं और बरसों से उन्हीं के गीतों को गुनगुनाते चले आ रहे हैं। अनुराग बासु द्वारा बनाई जाने वाली इस फिल्म में आमिर खान का किरदार कैसा होगा और वे किस हद तक इसे निभा पाएंगे इस पर मंथन करने में किशोर दा के फैन पीछे नहीं हैं। हालांकि बीते दिनों एक स्थान पर बेटे अमित ने कहा था किशोर कुमार की भूमिका निभाना किसी के लिए भी आसान नहीं होगा। आज हम आपको किशोर कुमार के संबंध में कुछ और रोचक बातें यहां बता रहे हैं, जिसके अंश संभवत: आपको उनकी बायोपिक में देखने मिलें।

ये भी पढ़ें:  aamir-khan-interested-in-kishore-kumar-biopic-17556.html" target="_blank">MP से है किशोर कुमार का नाता, बायोपिक में आमिर होंगे हीरो

मध्यप्रदेश के खण्डवा में जन्मे किशोर कुमार के जीवन में संघर्ष भी कम नहीं रहा। शुरू में किशोर कुमार को एसडी बर्मन और अन्य संगीतकारों ने अधिक गंभीरता से नहीं लिया और उनसे हल्के स्तर के गीत गवाए जाते थे, लेकिन किशोर कुमार ने कभी हर नही मानी और आगे बढ़ते गए । 1957 में बनी फ़िल्म फंटूस में दुखी मन मेरे गीत ने अपनी ऐसी धाक जमाई कि जाने माने संगीतकारों को किशोर कुमार की प्रतिभा का लोहा मानना पड़ा।

इसके बाद एसडी बर्मन ने किशोर कुमार को अपने संगीत निर्देशन में कई गीत गाने का मौका दिया। आरडी बर्मन के संगीत निर्देशन में किशोर कुमार ने मुनीम जी, टैक्सी ड्राइवर, फंटूश, नौ दो ग्यारह, पेइंग गेस्ट, गाइड जैसी फ़िल्मों में अपनी जादुई आवाज से संगीत प्रेमियों को दीवाना बना लिया।


किशोर कुमार ने हिन्दी के साथ ही तमिल, मराठी, असमी, गुजराती, कन्नड़, भोजपुरी, मलयालम और उड़िया फ़िल्मों के लिए भी गीत गाए। उन्हें आठ फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार मिले। किशोर कुमार की खासियत यह थी कि उन्होंने देव आनंद से लेकर राजेश खन्ना, अमिताभ बच्चन के लिए अपनी आवाज दी और इन सभी अभिनेताओं पर उनकी आवाज ऐसी रची बसी मानो किशोर दा खुद उनके अंदर मौजूद हों।

संघर्ष से शुरू हुए उनके सफर में किशोर दा ने 81 फ़िल्मों में अभिनय और 18 फ़िल्मों का निर्देशन भी किया। फ़िल्म पड़ोसन में उन्होंने जिस मस्त मौला आदमी के किरदार को निभाया वही किरदार वे जिंदगी भर अपनी असली जिंदगी में निभाते रहे। उनका यही मिजाज कॉलेज की उस कैंटीन में भी देखने मिलता था जब वे खुद भी उधार खाते और दोस्तों को भी खिलाते।
Show More
Abha Sen
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned