script भविष्य धुंधला कर रहा मोबाइल ! स्क्रीन पर नजरें गड़ाए रखने से आंखों में बढ़ी जलन की शिकायत, इस तरह रखें ध्यान... | Complaint of increased eye irritation staring screen | Patrika News

भविष्य धुंधला कर रहा मोबाइल ! स्क्रीन पर नजरें गड़ाए रखने से आंखों में बढ़ी जलन की शिकायत, इस तरह रखें ध्यान...

locationजगदलपुरPublished: Dec 08, 2023 03:44:39 pm

Submitted by:

Kanakdurga jha

Health Report : इन दिनों बच्चे हों या बड़े सभी का अधिकांश समय मोबाइल पर बीत रहा हैं। ऑफिस में कामकाजी लोग हो या घर में रहने वाले लोग हो सभी सुबह से शाम तक कम्प्यूटर अथवा मोबाइल पर आंखें गड़ाए रहते हैं।

mobile_addiction.jpg
Health Report : इन दिनों बच्चे हों या बड़े सभी का अधिकांश समय मोबाइल पर बीत रहा हैं। ऑफिस में कामकाजी लोग हो या घर में रहने वाले लोग हो सभी सुबह से शाम तक कम्प्यूटर अथवा मोबाइल पर आंखें गड़ाए रहते हैं। इस तरह 10 से 12 घंटे कम्प्यूटर, टीवी और मोबाइल से जुड़े रहने की आदत लोगों के आंखों के लिये खतरनाक होते जा रहा है। यही कारण है कि आजकल अस्पतालों में आंखों में जलन और धुंधला दिखने की शिकायत को लेकर ओपीडी में लंबी कतार लग रही है।
मोबाइल और टीवी की रोशनी खतरनाक : दिन के कई घंटे मोबाईल और टीवी अथवा कम्प्यूटर में आंखे गड़ाए रहने से आंखें काफी थक जाती है। आंखों में धुंधलापन की समस्या बढ़ जाती है और इस वजह से कई बार आंखों से पानी आने लगता है। ऐसे में आंखों को आराम देना बहुत आवश्यक है। आंखों को आराम देने के साथ ही आंखों की रोशनी बढ़ाने के लिए कुछ घरेलू उपाय भी करनी जरूरी है, ताकि भविष्य में आंखों में किसी तरह की परेशानी न आए।
यह भी पढ़ें

Wedding Season : ग्रूम लुक के लिए बियर्ड बना ट्रेंडिंग स्टाइल... शेरवानी और सूट में सज रहे दूल्हे राजा



ज्यादा देर तक मोबाइल स्क्रीन पर देखने से आंखों में सिंड्रोम के लक्षण आ जाते हैं। इसमें सिर में दर्द, आंखों में जलन और सूखा पन, थकान के साथ ही कंधे और हाथ में दर्द जैसी समस्याएं आती हैं। इससे बचाव के लिए पलकों को बार-बार झपकाते रहना चाहिए ताकि आंसू बराबर बना रहे। किसी भी स्क्रीन को 20 डिग्री झुका कर रखना चाहिए। अक्षर का साइज बड़ा रखना चाहिए। कंप्यूटर मॉनिटर या लैपटॉप पर एंटी ग्लेयर फिल्टर होना जरूरी है। एंटी ग्लेयर कोटिंग चश्मे पर भी होना चाहिए।
- डॉ टीसी आडवाणी, नेत्र रोग विशेषज्ञ

यह भी पढ़ें

CG Politics : अमरजीत की मूंछ पर सियासत जारी... केदार ने कही बड़ी बात, बोले - मैं उन्हें तिरुपति ले जाने तैयार



मोबाइल और कम्प्यूटर की आदत पिछले तीन सालों में लॉकडाउन के बाद से ज्यादा बढ़ी है। सरकारी और निजी स्कूलों में मोबाईल द्वारा ऑनलाइन पढ़ाई से बच्चों की सेहत भी प्रभावित हुई है। नौकरी पेशा लोग वर्क फ्राम होम के जरिये लैपटॉप और कम्प्यूटर पर अधिक समय गुजारने से आंखों से जुड़ी परेशानियों के मामले बढ़े हैं। इनमे आंखों को पानी सूखने से लेकर संक्रमण के मामले देखे जा रहे हैं। नेत्र रोग विशेषज्ञों के मुताबिक मोबाइल पर खेल खेलने और अधिक टीवी देखने से इस तरह की शिकायतें बढ़ी हैं।
कम उम्र में ही बढ़ रही समस्यापहले जो समस्याएं बुजुर्गावस्था में हुआ करता था, अब मोबाइल और टीवी की आदतों से लोगों को कम उम्र में ही हो रहा हैं। सारा दिन मोबाइल, लैपटॉप देखने से आंखें थक जाती हैं. स्क्रीन टाइम बढ़ने से न सिर्फ बड़ों का बल्कि बच्चों की भी आंखें कम उम्र में खराब होने लगा है। देखने की क्षमता लगातार कमजोर हो रही है।
आंखों की इस तरह से रखें ध्यानहर आधे घंटे में दो से तीन मिनट तक दूर की चीजें देखें
- पलकें बार बार झपकाते रहें।

- अपने खान-पान का ध्यान रखें ।

- प्रतिदिन 6 से 8 घंटे की भरपूर नींद लें।

- पानी से आंखों पर बार-बार पांच से छह बार छीटें मारते रहें।
- टीवी अथवा मोबाइल स्कीन के ब्राइटनेस को कम करके रखें।

सैनिक भर्ती प्रवेश परीक्षा 21 जनवरी को

जगदलपुर। सैनिक स्कूल सोसाइटी (रक्षा मंत्रालय) ने कक्षा 6वीं और 9वीं में भर्ती के लिए सत्र 2024-25 के लिए फॉर्म भरने और परीक्षा की तिथियां घोषित कर दी हैं। सेवानिवृत्त कमांडर संदीप मुरारका ने बताया कि 16 दिसंबर तक ऑनलाइन फॉर्म भरा जाएगा जबकि परीक्षा 21 जनवरी 2024 को होगी। उन्होंने बताया कि यह पहली बार है जब लड़कियों को कक्षा 9वीं में प्रवेश पाने का अवसर दिया गया है। इस साल 9वीं के लिए 30 सीटें निकली हैं।


ट्रेंडिंग वीडियो