script जयपुर में युवती की बेरहमी से हत्या: पहले उमा की मंगेश से थी दोस्ती, राजकुमार से 6 महीने पहले ही हुई पहचान, जानें हत्या की प्रमुख वजह | Accused Arrested For Crushing A Girl With A Car Outside A Hotel In Jaipur | Patrika News

जयपुर में युवती की बेरहमी से हत्या: पहले उमा की मंगेश से थी दोस्ती, राजकुमार से 6 महीने पहले ही हुई पहचान, जानें हत्या की प्रमुख वजह

locationजयपुरPublished: Dec 28, 2023 08:58:10 am

Submitted by:

Nupur Sharma

मालवीय नगर में गिरधर मार्ग स्थित एक होटल के बाहर मंगलवार अलसुबह युवती को कार से कुचलने के मामले में आरोपी ने बुधवार को पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया।

girl_crushed_by_car_in_jaipur.jpg

मालवीय नगर में गिरधर मार्ग स्थित एक होटल के बाहर मंगलवार अलसुबह युवती को कार से कुचलने के मामले में आरोपी ने बुधवार को पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया। आरोपी मंगेश अरोड़ा का पिता ही उसे मालवीय नगर एसीपी के समक्ष लेकर पहुंचे। मामले में पुलिस ने मंगेश की मदद करने वाले उसके दोस्त जितेन्द्र सिंह को भी हिरासत में ले रखा है। डीसीपी ईस्ट ज्ञानचंद यादव ने बताया कि आरोपी मंगेश का रितिक बॉक्सर से कोई संबंध नहीं है। मंगेश करीब 7 साल से जयपुर में रह रहा है।

इधर, पुलिस ने बुधवार को मृतका उमा सुथार के शव का पोस्टमार्टम करवा के परिजन के सुपुर्द कर दिया। गौरतलब है कि मंगेश की कार की टक्कर से उमा का दोस्त राजकुमार झांझडिय़ा भी घायल हो गया था। डीसीपी ने बताया कि आरोपी मंगेश अरोड़ा (30) ऐलनाबाद सिरसा हरियाणा हाल मदर टेरेसा नगर जवाहर सर्कल का रहने वाला है। पुलिस को मंगेश की गाड़ी से 9 लाख रुपए मिले हैं। पुलिस इन रुपयों के संबंध में जानकारी जुटा रही है कि यह किसके हैं और कहां से लाए गए हैं। पुलिस को मंगेश की गाड़ी पर एमएलए का स्टीकर चस्पा मिला है, जिसकी भी जांच की जा रही है।

यह भी पढ़ें

VIDEO : कमेंटबाजी के बाद रईसजादे ने युवक-युवती पर चढ़ाई कार, 16 सेकेंड का LIVE VIDEO

हत्या के बाद दोस्त से मांगी मदद
उमा को कुचलने के बाद मंगेश ने अपने दोस्त मानसरोवर निवासी जितेन्द्र सिंह से फोन करके मदद मांगी। जितेन्द्र ने कहा कि वह प्रताप नगर आया हुआ है, मंगेश भी वहां पहुंच गया। मंगेश ने अपनी गाड़ी वहां खड़ी कर दी और जितेन्द्र के साथ दूसरी कार से अजमेर चला गया। आरोपी को पुलिस पीछे होने की भनक लग गई और वह जयपुर लौटकर मानसरोवर में जितेन्द्र के फ्लैट में रुक गया। यहां करीब आधे घंटे रुकने के बाद जितेन्द्र ने उसे कैब करा दी, जिससे वह बीकानेर जाने के लिए रवाना हो गया। सीकर में पुलिस की सख्ती देख मंगेश जयपुर लौटकर पिता के पास आ गया।

युवती की मंगेश से थी दोस्ती
पुलिस के मुताबिक उमा की पहले मंगेश से दोस्ती थी। राजकुमार की पांच-छह महीने पहले ही उमा से जान-पहचान हुई थी। इस बात को लेकर दोनों पक्षों में विवाद चल रहा था। मंगेश अपनी महिला मित्र के साथ सोमवार रात 11 बजे होटल पहुंचा था। होटल के मालिक की भी मंगेश और राजकुमार दोनों से पहचान है।

पिता का मसाले का बड़ा व्यापार
आरोपी मंगेश के पिता हर भगवान मूलत: हरियाणा के रहने वाले हैं। उनका सिरसा में मसाले का बड़ा व्यापार है। जबकि मंगेश ने अग्रवाल फार्म थड़ी मार्केट में कपड़े का शोरूम खोल रखा है। मंगेश के एक छोटा भाई भी है।

मंगेश की गर्लफ्रेंड का फोन स्विच ऑफ
कार से टक्कर मारने के बाद मंगेश ने गर्लफ्रेड को मालवीय नगर नंदपुरी के पास छोड़ दिया, यहां से वह राइड लेकर चली गई। इसके बाद उसने मोबाइल स्विच ऑफ कर लिया।

सामने आकर बोला था चढ़ा के दिखा
पुलिस पूछताछ में मंगेश ने बताया कि गाड़ी चढ़ाने का उसका इरादा नहीं था। राजकुमार ने उस पर कमेंट्स किए और उमा के साथ सामने आकर खड़ा हो गया और कहने लगा कि दम हो तो गाड़ी चढ़ा के दिखा। इसी दौरान कार में मंगेश के साथ बैठे दोस्त गौरव ने कहा तू इतनी गालियां क्यों खा रहा है। इसके बाद मंगेश को गुस्सा आ गया और उसने अपनी कार को पहले पीछे लिया और फिर तेज रफ्तार में आगे दौड़ाते हुए उमा व राजकुमार पर चढ़ा दी। राजकुमार कार की टक्कर से दूर गिर गया, जबकि उमा ड्राइवर साइड के टायर के नीचे आ गई। जिससे उसकी मौत हो गई।

यह भी पढ़ें

राजस्थान के भाजपा विधायक का ऑफिसियल फेसबुक पेज हुआ हैक, अपलोड किए वीडियो, एसपी से शिकायत

विदेश में भी जाने की कर रहा था प्लानिंग
आरोपी मंगेश ने विदेश में भी भागने की सोची, लेकिन पासपोर्ट पास में नहीं होने की वजह से वह नहीं जा पाया। वह यह सोच रहा था कि बिना वीजा के कहां-कहां जा सकता है।

राजकुमार की पत्नी टीचर और खुद चला रहा होटल
राजकुमार की पत्नी नागौर में टीचर है। उसकी महेश नगर में होटल है, जिसे वह तीन-चार साल से चला रहा है। इसके साथ ही विश्वकर्मा में वह शराब के ठेके में पार्टनर हैं।

परिवार का रो-रो कर बुरा हाल, परिजन हो गए बेसुध
नीमच के रतनगढ़ थाना की जाट चौकी क्षेत्र के गांव खातीखेड़ा की रहने वाली उमा की मौत से परिवार सदमे में है। घटना के बाद से माता-पिता का रो-रोकर बुरा हाल है। वे बार-बार बेसुध हो रहे थे, परिजन उन्हें संभालते नजर आए। उनके घर की आर्थिक स्थिति भी ठीक नहीं है। उसके पिता मोतीलाल जांगिड़ कारपेंटर का काम करते हैं, लेकिन कुछ महीने पहले हॢनया का ऑपरेशन कराने के बाद वह काम नहीं कर पा रहे। उमा ही काम करके घर चलाती थी। उमा की मां गांव में मजदूरी और आशा कार्यकर्ता के रूप में काम करती है। उमा के छोटी बहन दीया (19) और भाई कुशल (16) है। गुरुवार को गांव में उमा का अंतिम संस्कार किया जाएगा।

ट्रेंडिंग वीडियो