scriptdespite relief measures , labors experience odd situation in lock down | सेठ नहीं दे रहे पैसा, ठेकेदार भी हो गए गायब | Patrika News

सेठ नहीं दे रहे पैसा, ठेकेदार भी हो गए गायब

सरकारी घोषणाओं के बावजूद औद्योगिक क्षेत्रों में मजदूरों के हालात खराब

जयपुर

Published: March 28, 2020 07:17:00 pm

जयपुर। कोरोना संक्रमण में श्रमिकों के लिए सरकार ने भले ही कई कल्याणकारी कदम उठाने का दावा किया हो, लेकिन जमीन पर अधिकांश मजदूरों को इनका फायदा मिलता नजर नहीं आ रहा। सरकार ने लॉक डाउन के दौरान मजदूरों को सवैतनिक अवकाश देने और नियोक्ता के वेतन काटने पर शिकायत के लिए हैल्प लाइन जैसी सुविधाएं दी थी। लेकिन के इसके बावजूद औद्योगिक क्षेत्रों में देखें तो मजदूरों के हालात खराब है। सीतापुरा औद्योगिक क्षेत्र में कई फैक्ट्री मालिकों के श्रमिकों को भुगतान नहीं करने या आंशिक भुगतान के कारण अब उनकी गुजर—बसर मुश्किल हो गई है। ऐसे में मजदूर यहां से उत्तरप्रदेश और बिहार में अपने घरों के लिए निकलने की तैयारी कर रहे हैं।
सेठ नहीं दे रहे पैसा, ठेकेदार भी हो गए गायब
सीतापुरा में श्रमिकों को भोजन वितरित करते सामाजसेवी संगठन के कार्यकर्ता
दुकानदारों से राशन देना बंद किया

सीतापुरा औद्योगिक क्षेत्र में 21 मार्च से हुए लॉक डाउन के बाद राशन दुकानदारों ने मजदूरों को राशन देना बंद कर दिया है। मजदूरों ने बताया कि पहले 15—15 दिन का राशन उधार लेते थे। मजदूरी मिलने के बाद उधार चुका देते थे। सिलाई श्रमिक अबू तालिब ने बताया कि अब पैसा मिला नहीं। ठेकेदार का भी फोन बंद है। दुकानदारों ने भी राशन देने से इनकार कर दिया है। एक अन्य श्रमिक अमजद ने बताया कि फैक्ट्री मालिक एक—दो का बहाना कर टाल रहे है,लेकिन पैसा नहीं दिया जा रहा।
सामाजिक संगठन बांट रहे खाना

इलाके में कई सामाजिक संगठनों ने मजदूरों को खाने की व्यवस्था का जिम्मा संभाला है। मजदूरों को खाना बांटने का काम कर रहे राजस्थान असंगठित मजदूर यूनियन के सहायक सचिव मुकेश गोस्वामी ने बताया कि प्रतिदिन इस क्षेत्र में भोजन के करीब 1500 पैकेट बांटे जा रहे हैं। लेकिन यह भी कम हैं। सरकार को इन मजदूरों के लिए स्थायी इंतजाम करने चाहिएं।
यहां कर सकते हैं शिकायत

श्रम विभाग ने हाल ही लॉक डाउन अवधि में नियोजक की ओर से श्रमिक को नौकरी से निकालने या वेतन कटौती करने की शिकायत के लिए हैल्प लाइन जारी की है। यदि ऐसा होता है तो मजदूर 1800 1800 999 पर शिकायत कर सकता है। किसी संकट की स्थिति में मजदूर 73000 65959 और 97844 67278 पर भी सूचना दे सकते हैं।
श्रम राज्य मंत्री टीकाराम जूली से बातचीत

मजदूरों को समस्याएं आ रही हैं, कैसे निस्तारण करेंग़े

— हमारे पास पूरे प्रदेश में जहां से भी शिकायतें आ रही है, हाथोहाथ निस्तारण कर रहे हैं। अभी भीलवाड़ा से आई, तो मजदूरों की व्यवस्था कराई। हैल्पलाइन नंबर में कोई भी मजदूर हमसे सीधा संपर्क कर सकता है।

सीतापुरा क्षेत्र से मजदूरों को पैसा नहीं देने की शिकायत आई हैं
— मैं अधिकारियों को निर्देश दे रहा हूं कि वह सीतापुरा जाकर हालात देखेंगे। जो भी मदद सरकार की ओर से होगी, हम करेंगे। 24 घंटे हैल्पलाइन के अलावा जिला कन्ट्रोल रूम पर भी मजदूर अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं।
मजदूरों की मदद के लिए विभाग क्या कर रहा है

- सरकार ने संकट के हालात में श्रमिकों के कल्याण के लिए कई कदम उठाए हैं। कहीं से भी शिकायत आने पर तुरंत रेस्पांस दिया जा रहा है। दिहाड़ी मजदूरों के लिए एक—एक हजार रुपए दिए जाएंगे। इसके लिए सर्वे चल रहा है। अन्य राज्यों में रह रहे राजस्थान निवासी मजदूरों के लिए भी सरकार ने प्रबंध किए हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Udaipur murder case: गुस्साए वकीलों ने कन्हैया के हत्यारों के जड़े थप्पड़, देखें वीडियोMaharashtra: गृहमंत्री शाह ने महाराष्ट्र के उमेश कोल्हे हत्याकांड की जांच NIA को सौंपी, नुपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट करने के बाद हुआ था मर्डरनूपुर शर्मा विवाद पर हंगामे के बाद ओडिशा विधानसभा स्थगितMaharashtra Politics: बीएमसी चुनाव में होगी शिंदे की असली परीक्षा, क्या उद्धव ठाकरे को दे पाएंगे शिकस्त?सरकार ने FCRA को बनाया और सख्त, 2011 के नियमों में किये 7 बड़े बदलावकेरल में दिल दहलाने वाली घटना, दो बच्चों समेत परिवार के पांच लोग फंदे पर लटके मिलेक्या कैप्टन अमरिंदर सिंह बीजेपी में होने वाले हैं शामिल?कानपुर में भी उदयपुर घटना जैसी धमकी, केंद्रीय मंत्री और साक्षी महाराज समेत इन साध्वी नेताओं पर निशाना
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.