scriptInflation shock: Commercial cylinder becomes expensive again | Commercial gas cylinder: महंगाई का झटका: वाणिज्यिक सिलेंडर फिर हुआ महंगा | Patrika News

Commercial gas cylinder: महंगाई का झटका: वाणिज्यिक सिलेंडर फिर हुआ महंगा

पेट्रोल-डीजल ( petrol and diesel ) के दामों में ठहराव के बीच आज यानी 1 मई को तेल कंपनियों ( oil companies ) ने एक बार फिर एलपीजी सिलेंडर ( LPG cylinders ) के दाम बढ़ा दिए है। इस बार तेल कंपनियों ने वाणिज्यिक सिलेंडर ( commercial cylinders ) के दामों में 102.50 रुपए की वृद्धि कर दी है।

जयपुर

Published: May 01, 2022 09:18:47 am

पेट्रोल-डीजल के दामों में ठहराव के बीच आज यानी 1 मई को तेल कंपनियों ने एक बार फिर एलपीजी सिलेंडर के दाम बढ़ा दिए है। इस बार तेल कंपनियों ने वाणिज्यिक सिलेंडर के दामों में 102.50 रुपए की वृद्धि कर दी है। इस वृद्धि से शादियों के सीजन के सीजन में इस बढ़ोतरी ने आम आदमी का बोझ बढ़ा दिया है। दूसरी तरफ होटलों, रेस्टोरेंट और ढाबों पर भोजन करने के लिए अधिक दाम चुकाने होंगे। हालांकि तेल कंपनियों ने घरेलू गैस सिलेंडर के दामों में कोई परिवर्तन नहीं किया। गौरतलब है कि, हर महीने की पहली तारीख को तेल कंपनियां एलपीजी की कीमत में संशोधन करतीं हैं। मई में इस इजाफे के बाद अब यानी 1 मई 2022 से 19 किलो वाला एलपीजी सिलेंडर जयपुर में 2271.50 रुपए की बजाय 2374 रुपए में मिलेगा।
Commercial gas cylinder: महंगाई का झटका: वाणिज्यिक सिलेंडर फिर हुआ महंगा
Commercial gas cylinder: महंगाई का झटका: वाणिज्यिक सिलेंडर फिर हुआ महंगा
रसोई गैस सिलेंडर की कीमतें स्थिर
हालांकि, तेल कंपनियों ने आम आदमी के उपयोग वाले 14.2 किग्रा बिना सब्सिडी की रसोई गैस सिलेंडर की कीमतों में बढ़ोतरी नहीं की है। इसके दाम में कोई बदलाव नहीं हुआ है। जयपुर में 14.2 किग्रा बिना सब्सिडी वाले रसोई गैस सिलेंडर की कीमत 953.50 रुपए पर बरकरार है। तेल कंपनियों ने जनवरी में गैस की कीमत में कोई बदलाव नहीं किया था। हालांकि, दिसंबर में दो बार 50-50 रुपए की तेजी आई थी।
रसोई गैस पर 5 और कमर्शियल पर 18 फीसदी जीएसटी
रसोई गैस पर 5 फीसदी जीएसटी वसूला जाता है, जिसमें 2.5 फीसदी केन्द्र के खाते में और 2.5 फीसदी राज्य के खाते में जाते है। यानि 19.20 रुपए केन्द्र और राज्य के खाते में प्रति सिलेंडर जाते है। कमर्शियल गैस पर 18 फीसदी जीएसटी वसूला जाता है, जिसमें 9 फीसदी केन्द्र के खाते में और 9 फीसदी राज्य के खाते में जाते है। यानि 124.70 रुपए केन्द्र और राज्य के खाते में प्रति सिलेंडर जाते है।
सरकार 12 गैस सिलेंडर पर देती थी सब्सिडी
सरकार एक साल में प्रत्येक गैस कनेक्शन के लिए 14.2 किलोग्राम के 12 सिलेंडरों पर सब्सिडी देती थी। ग्राहक को हर सिलेंडर पर सब्सिडी समेत कीमत चुकानी होती है। बाद में सब्सिडी का पैसा खाते में वापस आ जाता है। हालांकि सरकार ने कोरोना काल में इसे बंद कर दिया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्सयहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतिशुक्र का मेष राशि में गोचर 5 राशि वालों के लिए अपार 'धन लाभ' के बना रहा योगराजस्थान के 16 जिलों में बारिश-आंधी व ओलावृ​ष्टि का अलर्ट, 25 से नौतपाजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथइन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठा7 फुट लंबे भारतीय WWE स्टार Saurav Gurjar की ललकार, कहा- रिंग में मेरी दहाड़ काफीशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफ

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी केसः बहस पूरी, 1991 का वर्शिप एक्ट लागू होगा या नहीं, कल होगा फैसला, जानें सुनवाई से जुड़ी हर बातबीजेपी नेता किरीट सोमैया की पत्नी ने शिवसेना के संजय राउत के खिलाफ दर्ज कराया 100 करोड़ का मानहानि का मुकदमालैंड होते ही झटके से रूक गया यात्री विमान, सांस थामे बैठे रहे यात्रीजम्मू और कश्मीर: आतंकियों के निशाने पर सुरक्षा बल, श्रीनगर में जारी किया गया रेड अलर्टजापान में पीएम मोदी का जोरदार स्वागत, टोक्यो में जापानी उद्योगपतियों से की मुलाकातऑक्सफैम ने कहा- कोविड महामारी ने हर 30 घंटे में बनाया एक नया अरबपति, गरीबी को लेकर जताया चौंकाने वाला अनुमानसंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजरबिहार में पटरियों पर धरना-प्रदर्शन के चलते 23 ट्रेनें रद्द, 40 डायवर्ट की गईं
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.