scriptNehru's first tricolor disappeared from India | भारत से गायब हो गया नेहरू का पहला तिरंगा | Patrika News

भारत से गायब हो गया नेहरू का पहला तिरंगा

कांग्रेस के नेता और नेहरू के नाती राहुल गांधी भले ही सोशल मीडिया के खातों पर अपने नाना और पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू की तिरंगे वाले तस्वीर लगाकर छाती चौड़ी कर रहे हों लेकिन देश की आजादी के बाद लालकिले की प्राचीर से फहराया गया पहला तिरंगा गायब है।

जयपुर

Published: August 05, 2022 04:17:38 pm

कांग्रेस(Congress) के नेता और नेहरू के नाती राहुल गांधी (Rahul Gandhi) भले ही सोशल मीडिया के खातों पर अपने नाना और पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू (Jawahar lal Nehru)की तिरंगे वाले तस्वीर लगाकर छाती चौड़ी कर रहे हों लेकिन देश (India) की आजादी के बाद लालकिले (Red Fort) की प्राचीर से फहराया गया पहला तिरंगा गायब है। सोशल मीडिया पर नेहरू तिरंगा (Nehru Flag) वर्सेज मोदी तिरंगा (Modi Flag) की एक बहस छिड़ी दिख रही है, हर तरफ हंगामा सा बरप रहा है लेकिन इस बीच देश का अमूल्य तिरंगा गायब है। राष्ट्रपति भवन से लेकर राष्ट्रीय लेखागार तक कहीं भी उसका धनीधोरी नहीं है।

nehru_tiranga.jpg

यह भी पढ़ें

जानिए कांग्रेस और आरएसएस के लिए आखिर क्या है तिरंगा

राष्ट्रपति भवन में भी नहीं है तिरंगा
लालकिले के प्राचीर फहराए गए तिरंगे को लेकर जब तहकीकात की गई तो यह बात सामने आई कि यहां पहला तिरंगा नहीं रखा गया है। राष्ट्रपति के मालखाने में भी 1947 में आजादी के बाद फहराया गया पहला तिरंगा नहीं है। मालखाने में उस समय के तमाम अन्य साक्ष्य तो हैं लेकिन तिरंगे का कोई पता नहीं है। राष्ट्रपति भवन के मीडिया प्रभारी रहे वेणु राजमणि ने बताया कि उस तिरंगे की कोई जानकारी नहीं है। तत्कालीन प्रधानमंत्री नेहरू द्वारा 1947 में फहराया गया पहला तिरंगा केंद्रीय लोक निर्माण विभाग के पास भी नहीं है। यह विभाग ही केंद्र सरकार के आदेश की पालना में गणंतंत्र दिवस हो या फिर स्वतंत्रता दिवस समारोह की पूरी तैयारी करता है।

राष्ट्रीय संग्रहालय और राष्ट्रीय लेखागार में भी नहीं है तिरंगा
राष्ट्रीय लेखागार ऐसी जगह है जहां निर्माण की बात या फिर विध्वंस की। इतिहास को उसी रूप में संजोया जाता है। यहां भी तलाश की गई कि लेकिन यहां भी पंडित जवाहर लाल नेहरू द्वारा फहराया गया पहला तिंरगा नहीं है। यहां वह तिरंगा जरूर है जिसे मुंबई में 1946 की ऐतिहासिक नौ सेना विद्रोह के दौरान भारतीय जवानों ने फहराया था। इतिहासकार डा.अनिरुद्ध देशपांडे बताते हैं कि नौसेना विद्रोह से अंग्रेज हिल गए। यहीं से उनकी वापसी भी तय हो गई। राष्ट्रीय संग्रहालय में स्वागत अधिकारी ममता मिश्र ने बताया कि मानव सभ्यता अवशेष, मौर्यकालीन, गांधार, गुप्त और अन्य राजवंशों के दौर के भित्तिचित्र, तामपत्र और दुर्लभ कलाकृतियां तो हैं, पर कोई तिरंगा नहीं है।

newsletter

Anand Mani Tripathi

आनंद मणि त्रिपाठी (@aanandmani) राजनीति, अपराध, विदेश, रक्षा एवं सामरिक मामलों के पत्रकार हैं। पत्रकारिता के तीनों माध्यम प्रिंट, टीवी और आनलाइन में गहरा और अपनी तेज तर्रार रिपोर्टिंग के लिए जाने जाते हैं। पश्चिम बंगाल के कलकत्ता में जन्म हुआ। प्रारंभिक शिक्षा उत्तर प्रदेश के कानपुर और बस्ती में हुई। माध्यमिक शिक्षा नवोदय विद्यालय बस्ती, फैजाबाद और पूर्वोत्तर त्रिपुरा के धलाई जिले में हुई। अयोध्या के साकेत महाविद्यालय से स्नातक और 2009 में जेआईआईएमसी,दिल्ली से पत्रकारिता का डिप्लोमा किया। हरियाणा से पत्रकारिता आरंभ की। शिक्षा, विज्ञान, मौसम, रेलवे, प्रशासन, कृषि विभाग और मंत्रालय की रिपोर्टिंग की। इंवेस्टिगेटिव रिपोर्टिंग से शिक्षा और रेलवे विभाग के कई भ्रष्टाचार का खुलासा किया। रक्षा मंत्रालय के रक्षा संवाददाता पाठयक्रम-2016 पूरा किया। इसके बाद रक्षा मामलों की पत्रकारिता शुरू कर दी। चीन, पाकिस्तान और कश्मीर मामलों पर तीक्ष्ण नजर रहती है। लेफ्टिनेंट उमर फैयाज की हत्या 2017, राइफलमैन औरंगजेब की हत्या 2018, जम्मू—कश्मीर में बदले 2018 में बदले राजनीतिक समीकरण, पुलवामा हमला 2019, कश्मीर से 370 का हटना, गलवान घाटी मुठभेड़ 2020 को बेहद करीब से जम्मू और कश्मीर में रहकर ही कवर किया। कोरोना काल 2020 में भी लददाख से नेपाल तक की यात्रा चीन के बदलते समीकरण को लेकर की। इसके साथ ही लोकसभा चुनाव 2019 में जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा और पंजाब की रिपोर्टिंग की। 9 नवंबर 2019 को श्रीराम जन्म भूमि अयोध्या मामले में आए फैसले की अयोध्या से कवर किया। 2022 उत्तरप्रदेश् चुनाव को सहारनपुर से सोनभद्र तक मोटर साइकिल के माध्यम से कवर किया। पत्रकारिता से इतर आनंद मणि त्रिपाठी को संगीत और पर्यटन का जबरदस्त शौक है। इन्हें किसी भी कार्य में असंभव शब्द न प्रयोग करने के लिए जाना जाता है...

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Kerala News: मुस्लिम लीग के महासचिव का विवादित बयान, बोले- 'लड़के-लड़कियों का स्कूल में साथ बैठना खतरनाक'CBI Raids Manish Sisodia House Live Updates: बीजेपी की बौखलाहट ने देश को ये संदेश दिया है कि 2024 का चुनाव AAP v/s BJP होगा- संजय सिंहबंगाल, महाराष्ट्र में भी ED के छापे, उनके सामने तो मैं तिनका हूँ, 'सांसद अफजाल अंसारी ने दी चुनौती- पूर्वांचल हमारा ही रहेगा'Mumbai News: दही हांड़ी फोड़ने पर 55 लाख से लेकर स्पेन जाने सहित मिल रहे हैं ये खास ऑफर; पढ़े पूरी खबरबिहार में सूखे का जायजा लेने निकले थे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, गया में हेलीकॉप्टर की करवानी पड़ी इमरजेंसी लैंडिंगबिहार में सूखे का जायजा लेने निकले थे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, गया में हेलीकॉप्टर की करवानी पड़ी इमरजेंसी लैंडिंगअखिलेश यादव ने किया यूपी से दिल्ली तक हमला, बीजेपी के खिलाफ मिलकर लड़ेंगेPICS: देशभर में श्री कृष्ण जन्माष्टमी की धूम, सुनाई दे रही जयश्री कृष्णा की गूंज
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.