राजस्थान भाजपा का 15 लाख की जगह 44 लाख नौकरियां देने का दावा, बेरोज़गारों का फूट रहा आक्रोश

https://www.patrika.com/rajasthan-news/

Nakul Devarshi

November, 1111:29 AM

जयपुर।


राजस्थान में विधानसभा चुनाव की सरगर्मियों के बीच एक ट्विटर पोस्ट इन दिनों ज़बरदस्त चर्चा का विषय बनी हुई है। ट्विटर पोस्ट राजस्थान भाजपा के ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से हुई है। ये 'विवादित' पोस्ट सोशल मीडिया पर तेज़ी से वायरल हो रही है जिससे प्रदेश भाजपा संगठन और मौजूदा वसुंधरा सरकार की जमकर किरकिरी हो रही है। वहीं इस पोस्ट को लेकर विरोधी खेमा भी सक्रीय हो गया है। कई नेताओं ने इस तरह की पोस्ट को भद्दा मज़ाक बताते हुए बीजेपी के सत्ता और संगठन पर निशाना साधा है। चौंकाने वाली बात तो ये है कि विवाद के तूल पकड़ने के बाद भी इस पोस्ट को अब तक नहीं हटाया गया है।

 

ये लिखा है ट्विटर पोस्ट में
प्रदेश बीजेपी की ओर से ऑफिशियल ट्विटर हैंडल पर 9 नवम्बर को रात करीब 10 बजे किये गए इस पोस्ट में लिखा है... ''भाजपा ने 15 लाख नौकरियों का वादा किया था, जबकि 44 लाख से अधिक लोगों को नौकरियां दीं।'' इस पोस्ट को करने के साथ ही इसे सीएम वसुंधरा राजे के ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से भी जोड़ा गया है। इसे हैश टैग 'फ्रैंकली स्पीकिंग विद वसुंधरा' नाम से खुद बीजेपी की ओर से वायरल भी किया जा रहा है।

 

बेरोज़गारों का फूट रहा आक्रोश
प्रदेश भाजपा ट्विटर हैंडल के इस पोस्ट के बाद से बेरोज़गारों का आक्रोश फूटने लगा है। सोशल मीडिया पर इसे वायरल करते हुए इस पोस्ट पर सरकार की कार्यशैली पर सवाल उठाये जा रहे हैं। बेरोज़गारों का कहना है कि प्रदेश भाजपा के बेरोज़गारों को नौकरियां दिए जाने ये दावे झूठे ही नहीं हकीकत से कोसों कोसों दूर हैं।

 

 

44 लाख नौकरी का ट्वीट, बेरोजगारों के जख्मों पर नमक: पायलट
कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट ने भाजपा के ट्विटर हैंडल के माध्यम से जारी 44 लाख नौकरियां देने वाले बयान को तथ्यहीन एवं गैर जिमेदाराना बताया है। उन्होंने भाजपा को चुनौती देते हुए कहा है कि वे 44 लाख नौकरियों का संपूर्ण विवरण सार्वजनिक करे या फिर गलत बयानबाजी के लिए प्रदेश के युवाओं व बेरोजगारों से माफी मांगे।

 

पायलट ने कहा कि मुख्यमंत्री तो पहले उन 15 लाख भाग्यशाली बेरोजगारों की सूची सार्वजनिक कर दें, जिन्हें गत 59 महीनों में नौकरी दी गई है। मुख्यमंत्री बताएं कि शेष 29 लाख नौकरी किनको दी गई है। एक तरफ तो अजीम प्रेमजी इंस्टीट्यूट ने पिछले 5 साल में राजस्थान की बेरोजगारी दर 3.2 से 7.7 प्रतिशत तक बढऩे को लेकर चिंता व्यक्त की है, वहीं दूसरी तरफ भाजपा सरकार गलत बयानबाजी कर दावा कर रही है कि बेरोजगारी समाप्त हो गई है।

 

 

 

उन्होंने मुख्यमंत्री को सीएजी की रिपोर्ट देखने का अनुरोध किया है, जिसमें कौशल विकास योजना की विफलता के उदाहरण देते हुए बताया गया है कि सरकार केवल 30 प्रतिशत प्रशिक्षणार्थियों को ही रोजगार दिला पाई है। आइटीआइ विभाग के आंकड़े कहते हैं कि पांच साल में केवल 22876 लोगों को ही नौकरी मिली है।

 

भाजपा बेरोज़गारों का उड़ा रही मज़ाक: बेनीवाल

राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के हनुमान बेनीवाल ने कहा कि इस तरह की बयानबाजी करके प्रदेश भाजपा राज्य के युवाओं का मजाक उड़ा रही है। प्रदेश का युवा राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी की विचारधारा के साथ है और वसुंधरा राजे और अशोक गहलोत के आंतरिक गठजोड़ को ध्वस्त करके किसानों की सरकार बनाने को उत्सुक है।

Show More
nakul Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned