महापुरुषों के स्थापित आदर्शों की वर्तमान में उपादेयता पर चर्चा

दो दिवसीय गोलमेज परिषद शुरू

By: Suresh Yadav

Published: 10 Jan 2019, 11:42 PM IST

जयपुर। महात्मा ज्योतिबा फुले शिक्षण संस्थान की ओर से 10वीं सत्यशोधक गोलमेज परिषद का आगाज गुरुवार को विद्याधर नगर सेक्टर 3 स्थित महात्मा ज्योतिबा फुले राष्ट्रीय संस्थान परिसर में हुआ। संस्थान के राष्ट्रीय महासचिव रामनारायण चौहान ने बताया कि परिषद में महात्मा ज्योतिराव फुले सावित्रीबाई फुले, बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर द्वारा स्थापित आदर्शों को वर्तमान संदर्भ में उपादेयता, जातिगत जनगणना, आरक्षण एवं क्रीमीलेयर जैसे विषयों पर लगभग 20 राज्यों के विषय विशेषज्ञ, शिक्षाविद, समाजसेवी, पत्रकार, प्रबोधनकार 2 दिन प्रात : 10 से शाम 5 बजे तक गोलमेज में विमर्श किया। परिषद में लगभग 400 प्रतिनिधि भाग ले रहे हैं।
संस्थान के राष्ट्रीय महासचिव रामनारायण चौहान ने बताया कि परिषद में यह विचार व्यक्त किया गया कि देश के किसी भी राज्य में एक ऐसा गुरुकुल हो जो निश्चित रूप से रोजगारपरक शिक्षा दे सके। इस गुरुकुल कैंपस को पांच सौ एकड़ भूमि में स्थापित किया जाना प्रस्तावित है, जहां लगभग एक लाख विद्यार्थी छात्रावास सुविधा के साथ कक्षा 6 से शिक्षा प्राप्त कर सकेंगे। इसके साथ ही संस्थान में गौशाला डेयरी प्लांट कृषि अनुसंधान एवं विकास के प्रोजेक्ट संचालित किया जाएगा जिससे राष्ट्र की मूलभूत आवश्यकताओं में भागीदारी निभाई जा सके। उन्होंने बताया कि संस्थान द्वारा विगत 9 वर्षों से अखिल भारतीय सत्यशोधक गोलमेज परिषद का आयोजन विभिन्न राज्यों में किया जा रहा है जहां विकास के विषयों पर मंथन किया जाकर उन्हें क्रियान्वित करवाने का प्रयास भी किया जाता है। उन्होंने बताया कि गोलमेज परिषद के गुरुवार को हुए सत्र में महात्मा बुद्ध, महात्मा ज्योतिबा फुले, सावित्री बाई फुले, बाबा साहेब अम्बेडकर सहित अन्य महान विभूतियों द्वारा स्थापित सिद्धांतों से जनजन को जागरूक करने के लिए जागरुकता अभियान चलाए जाने को लेकर प्रस्ताव पारित किया गया।
गोलमेज परिषद में गुरुवार को बैंगलोरके एनएल नरेन्द्र बाबू, महाराष्ट्र से शंकर राव लिंगे, गुजरात से गंगाराम गहलोत, हिमाचल प्रदेश से रामलाल कच्छावा, महाराष्ट्र से श्रावण देवरे, दिल्ली से चौधरी इन्द्रराज सिंह सैनी, हरियाणा से राजेन्द्र कुमार सैनी, परिषद के राष्ट्रीय संयोजक ज्ञानेश्वर गौरे भी उपस्थित रहे।
चौहान ने बताया कि शुक्रवार को आयोजित होने वाले सत्र में महात्मा ज्योतिबा फुले की शिक्षाओं और सिद्धांतों से आमजन को जागरूक करने के लिए अभियान चलाए जाने, क्रीमिलियर व आरक्षण पर चर्चा, शिक्षा का विकास, बालिकाओं का शैक्षणिक सहित सम्पूर्ण विकास, रोजगारपरक शिक्षा, युवाओं के लिए कारगर नीतियां सहित विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की जाएगी। इसी के साथ ही दो दिवसीय गोलमेज परिषद का समापन भी शुक्रवार शाम को होगा।

Suresh Yadav Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned