सत्यापन नहीं होने के कारण नही मिला पैसा - विपक्ष, धन नहीं आने के कारण नहीं मिला पैसा - सहकारिता मंत्री

- प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के पात्रताधारी किसानों के सत्यापन व किसानों को पैसा नहीं मिलने का मामला

 

जयपुर। विधानसभा में शुक्रवार को उप नेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने प्रदेश में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के पात्रताधारी किसानों के सत्यापन नहीं होने व किसानों को पैसा नहीं मिलने का मामला उठाया।

मामले में राठौड़ के साथ नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने भी सरकार को घेरने की कोशिश की। इन्होंने कहा कि डेटा समय पर सत्यापित नहीं होने से किसानों को पैसा नहीं मिला। इस पर सहकारिता मंत्री उदयलाल आंजना ने कहा कि पैसा सीधे कृषकों को जाता है वेरििफकेशन के आधार पर नहीं। उन्होंने कहा कि पैसा धन की कमी के कारण रुका है। केन्द्र ने लोकसभा चुनाव से पहले चुनाव को देखते हुए पैसा दे दिया, लेकिन चुनाव निपटते ही पैसा नहीं दिया।

पिछली सरकार हर महीने एक कम्पनी देती थी एक करोड़ रुपए

प्रश्नकाल में राजस्थान पथ परिवहन निगम के सेवानिवृत्त कर्मचारियों के बकाया परिलाभ के भुगतान पर परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने जवाब दिया। उन्होंने कहा कि सरकार दिनों दिन रोडवेज को मजबूत करने में लगी है। पिछली सरकार में तो एक कम्पनी को हर महीने एक करोड़ रुपए दिए जा रहे थे। कांग्रेस के सत्ता में आने के बाद इसको बंद कराया गया। जल्द ही इसकी जांच भी करवाई जाएगी। पिछली सरकार ने लोक परिवहन बस सेवा शुरू की। इस सेवा को बस स्टैंड में अंदर लाने की तैयारी भी हो चुकी थी। चुनाव प्रचार के दौरान रोडवेज के कर्मचारियों ने हमसे मांग की कि लोक परिवहन की बसों को बाहर ही रोका जाए। राज्य में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद एक भी लोक परिवहन बस सेवा का परमिट जारी नहीं किया है। साथ ही पिछली सरकार में राष्ट्रीयकृत मार्गों को अराष्ट्रीकृत घोषित किया था। उस निर्णय को हमारी सरकार ने ही पलटा। अक्टूबर से दिसम्बर के बीच हम फायदे में भी आए हैं और घाटा भी कम किया है।

Rajkumar Sharma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned