दीपावली की खुमारी मिटा रहे अधिकारी व कर्मचारी, बीईओ सहित 61 को नोटिस

दीपावली की खुमारी मिटा रहे अधिकारी व कर्मचारी, बीईओ सहित 61 को नोटिस

Shiv Singh | Publish: Nov, 10 2018 01:19:50 PM (IST) | Updated: Nov, 10 2018 01:19:51 PM (IST) Janjgir-Champa, Chhattisgarh, India

एसडीएम ने औचक निरीक्षण करते हुए उक्त विभागों में दस्तक दी

जांजगीर-चांपा. जिले के पामगढ़ तहसील में दीपावली के तीसरे दिन तक अधिकारी व कर्मचारी, त्योहार की खुमारी मिटाने में लगे हुए थे। जिसकी पोल उस समय खुली। जब एसडीएम ने औचक निरीक्षण करते हुए उक्त विभागों में दस्तक दी। जहां बीईओ, सीडीपीओ सहित 61 अधिकारी व कर्मचारी को बगैर किसी सूचना के अनुपस्थित पाया गया।

एसडीएम के इस पहल के बाद तहसील क्षेत्र के इन कार्यालयों में हड़कंप मच गया। कई अधिकारी व कर्मचारी एसडीएम के दौरे की बात सुन कर भागते हुए अपने-अपने कार्यालय पहुंचे। पर तब तक विभागीय रजिस्टर में उनकी अनुपस्थिति की मुहर एसडीएम लगा चुके थे। चुनाव के समय ऐसे लापरवाह अधिकारी व कर्मचारी के खिलाफ कारण बताओ नोटिस भी जारी किया गया है। 61 अनुपस्थित अधिकारी व कर्मचारियों के 115 दिन की सैलरी काटने की भी पहल की गई है।


विधानसभा चुनाव के बहाने अधिकारी व कर्मचारी के कार्यालय से गायब होने की पोल उस समय खुल गई। जब पामगढ़ एसडीएम सागर सिंह राज शुक्रवार को औचक निरीक्षण करने तहसील क्षेत्र के कार्यालयों में पहुंचे। जहां एक के बाद एक एसडीएम विकास खंड शिक्षा अधिकारी कार्यालय, परियोजना अधिकारी कार्यालय, बीपीएम कार्यालय, जल संसाधन, पीडब्ल्यूडी व अन्य विभागों में पहुंचे। जिसमें विकास खंड शिक्षा अधिकारी जगदीश कुमार शास्त्री,

महिला बाल विकास विभाग की सीडीपीओ मीरा घाडगे सहित 61 अधिकारी व कर्मचारी अनुस्थित मिले। खास बात तो यह है कि दीपावली की खुमारी मिटा रहे अधिकारी व कर्मचारी द्वारा कार्यालय में गैरहाजिर होने को लेकर कोई आवेदन भी नहीं मौजूद हैं। जिससे इस बात पर भी मुहर लग गई कि उनके द्वारा शुक्रवार को छुट्टी नहीं ली गई थी। वहीं वो शुक्रवार को ड्यूटी पर थे। पर उ्यूटी पर रहने के बावजूद सुबह 11-12 बजे तक कार्यालय नहीं पहुंचने उक्त अधिकारी व कर्मचारी के लापरवाह रवैये को बयां करता है।


पूर्व में भी मिली थी ऐसी शिकायतें
जानकार सूत्रों की माने तो एसडीएम की इस कार्रवाई के पीछे पूर्व में मिली शिकायतें भी है। जिसमें चुनाव व मीटिंग का बहाना बना कर अधिकारी व कर्मचारी, कार्यालय से दूरी बनाते थे। ऐसे में, दूर दराज से आने वाले लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता था। क्षेत्र में ऐसे लापरवाह अधिकारी व कर्मचारी पर नकेल कसने को लेकर एसडीमए ने औचक निरीक्षण की कवायद की। जिसमें अधिकारी से लेकर कर्मचारी की पोल खुलते हुए नजर आई ।


दिया गया नोटिस, अब कटेगा वेतन
एसडीएम ने निरीक्षण में 61 अधिकारी व कर्मचारी को अनुस्थित पाया। जिसके बाद उक्त कर्मचारी को कारण बाताओं नोटिस जारी किया गया है। जिसमें बीईओ, सीडीपीओ व अन्य अधिकारी भी शामिल है। एसडीएम ने बताया कि नोटिस के साथ उक्त अधिकारी व कर्मचारी के वेतन भी काटने का निर्देश दिया है। जिससे भविष्य में ऐसे अधिकारी व कर्मचारी की मनमानी पर लगाम लगाई जा सके। एसडीएम की इस कार्रवाई के बाद तहसील क्षेत्र में हडकंप का माहौल देखा गया। पूरे दिन चर्चा का आलम रहा।


ये रहे अनुपस्थित
जेके शास्त्री, मनीष शर्मा, सुचिता भोसले, बीके थवाईत, एचके श्रीवास, डी बघेल, एमआर जानसन, एसके यादव, मीरा घाडग़े, श्याम कंवर पर्यवेक्षक पामगढ़, सुशीला दुबे, सरिता अंचल, गिरिजा धीरही, मधुलिका साहू, संतोषी देवांगन, प्रियंवदा साहू, दुष्यंत कुमार, कृष्णा कुमार, एनके महिलांगे, रंजिता डाहिरे, पूर्णिमा प्रधान, शैलेष पटेल, एसएस यादव एसडीओ, पीके दुबे, डा. एस सूर्यवंशी, आरपी कुर्रे, बीपी ठाकुर, एन सिंह, एम सोनी, पी केशरवानी, राजन कुमार, सशिम राय, जानकी तुरे, अविनाश शर्मा, कृष्णा कुमार मरावी, डॉ. चेतन कौशिक, डा. आशीष कुमार पाण्डेय, डा. अनिता पटेल, डा. छाया श्री, विवेक शर्मा, अमित सायटोण्डे, योगेन्द्र कश्यप, राजेश दीवाकर, रोशन सचदेवा, केशव ओगरे, मयूरी रामटेके, हितेश भण्डारी, संगीता नेताम, पिंकी कश्यप, राधा सारथी, एमआई अली, एमएल टण्डन, दीपक कुमार राठौर, लखनलाल बंजारे, दाऊराम कश्यप, राकुमार यादव, शैलेष कुमार, भूपेन्द्र बर्मन, क्षत्रधारी महिलांगे, परदेशीलाल यादव शामिल है।


बीईओ शास्त्री व उनका बाबू सबसे आगे
एसडीएम की औचक निरीक्षण में कार्यालय से अनुपस्थित रहने वाले अधिकारी व कर्मचारी का जब रिकार्ड खंगाला गया तो विकास खंड शिक्षा अधिकारी व उनका बाबू सबसे ऊपर नजर आए। बीईओ जेके शास्त्री, जहां 2, 3, 5,6, 9 नवंबर को अनुपस्थित नजर आए। वहीं उक्त कार्यालय के सहायक ग्रेड-2 (बाबू) डी बघेल भी बीईओ की अनुपस्थिति वाले दिनों में बगैर किसी विभागीय सूचना के गायब रहे। अधिकारी के नक्शे कदम पर चलने वाले बाबू को नोटिस जारी कर 5 दिन की सैलरी काटने की अनुशंसा की गई है।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned