scriptIAS अभिषेक सिंह का इस्तीफा हुआ मंजूर, UP की इस सीट से लड़ सकते हैं लोकसभा चुनाव | IAS Abhishek Singh resignation accepted can contest Lok Sabha election 2024 from Jaunpur seat of UP | Patrika News

IAS अभिषेक सिंह का इस्तीफा हुआ मंजूर, UP की इस सीट से लड़ सकते हैं लोकसभा चुनाव

locationजौनपुरPublished: Feb 29, 2024 12:28:44 pm

Submitted by:

Sanjana Singh

IAS अभिषेक सिंह (IAS Abhishek Singh) का इस्तीफा स्वीकार हो गया है। ऐसे में कहा जा रहा है कि वे नौकरी छोड़कर राजनीति में एंट्री ले सकते हैं।

IAS Abhishek Singh

IAS Abhishek Singh

IAS Abhishek Singh: उत्‍तर प्रदेश के चर्चित IAS अफसर रहे अभिषेक सिंह ने का इस्तीफा केंद्र सरकार के बाद अब यूपी सरकार ने भी कबूल कर लिया है। लंबी छुट्टी की वजह से वह फरवरी 2023 से ही सस्पेंड चल रहे थे। अभिषेक सिंह की पत्नी दुर्गा शक्ति नागपाल (Durga Shakti Nagpal) फिलहाल बांदा की DM हैं। आपको बता दें कि अभिषेक सिंह अक्सर अपने सोशल मीडिया हैंडल पर नेताओं और फिल्मी सितारों के साथ तस्वीरें शेयर करते रहते हैं।

एक न्यूज वेबसाइट की रिपोर्ट के मुताबिक, यह चर्चाएं चल रही हैं कि अभिषेक सिंह जौनपुर से लोकसभा चुनाव 2024 (Lok Sabha Election 2024) लड़ सकते हैं। दरअसल, पिछले कई महीनों से अभिषेक सिंह जौनपुर में सामाजिक और राजनीतिक रूप से सक्रिय चल रहे हैं। फरवरी महीने में उन्होंने जौनपुर के लोगों के लिए अयोध्या (Ayodhya) धाम की निशुल्क यात्रा शुरू की। इसके जरिए रोजाना करीब 5 बसें अयोध्या जाएंगी और श्रद्धालुओं को शाम में जौनपुर छोड़ेंगी। अभिषेक ने बसों का नाम जौनपुर निषाद रथ रखा है।

यह भी पढ़ें

Meerut Metro का पहला सेट पहुंचा दुहाई, 3 कोच की ट्रेन में 700 यात्री कर सकेंगे सफर


अभिषेक सिंह को साल 2015 में तीन साल के लिए दिल्‍ली में प्रतिनियुक्ति पर भेजा गया था। साल 2018 में यह अवधि दो साल के लिए बढ़ाई गई, लेकिन अभिषेक सिंह उस समय मेडिकल लीव पर चले गए। इसके बाद दिल्‍ली सरकार ने अभिषेक सिंह को मूल कैडर यूपी भेज दिया। काफी लंबे समय के बाद उन्होंने 30 जून, 2022 को ड्यूटी जॉइन किया। साल 2022 में अभिषेक सिंह को गुजरात विधानसभा चुनाव (Gujarat Vidhan Sabha Election) के लिए निर्वाचन आयोग (Election Commission of India) की तरफ से प्रेक्षक बनाया गया। इस दौरान उन्होंने सरकारी कार के आगे फोटो खिंचवाई और सोशल मीडिया पर अपलोड कर दी। चुनाव आयोग ने इसे अनुशासनहीनता माना और 18 नवंबर 2022 को प्रेक्षक ड्यूटी से हटा दिया। इसके बाद वे वापस यूपी आ गए।

ट्रेंडिंग वीडियो