script मकर संक्रांति से पहले जिला कलक्टर का नया आदेश, इस समय पतंग उड़ाने पर होगा Ban | Before Makar Sankranti Jhalawar District Collector IAS Alok Ranjan Issued Order For Ban Chinese Manjha And Kite Flying TIme | Patrika News

मकर संक्रांति से पहले जिला कलक्टर का नया आदेश, इस समय पतंग उड़ाने पर होगा Ban

locationझालावाड़Published: Jan 05, 2024 12:44:43 pm

Submitted by:

Akshita Deora

मकर संक्रांति पास है ऐसे में झालावाड़ के जिला कलक्टर आलोक रंजन ने आदेश जारी कर मकर संक्रान्ति के पर्व पर चायनीज मांझे के उपयोग और बेचने पर प्रतिबंध लगाया है। कलक्टर ने लोकहित में अपनी शक्तियों का प्रयोग करते हुए यह आदेश जारी किया है।

makar_sankrati.jpg

मकर संक्रांति पास है ऐसे में झालावाड़ के जिला कलक्टर आलोक रंजन ने आदेश जारी कर मकर संक्रान्ति के पर्व पर चायनीज मांझे के उपयोग और बेचने पर प्रतिबंध लगाया है। कलक्टर ने लोकहित में अपनी शक्तियों का प्रयोग करते हुए यह आदेश जारी किया है।

जानकारी के अनुसार धातुओं के मिश्रण से निर्मित मांझा (चायनीज मांझा) के चपेट में आने से दुपहिया वाहन चालकों व पक्षियों को नुकसान होने की संभावना रहती है। साथ ही पक्षियों को नुकसान से बचाने के लिए सुबह 6 से 8 बजे तथा शाम 5 से 7 बजे तक पतंगबाजी पर भी प्रतिबंध रहेगा। यह आदेश 31 जनवरी तक प्रभावी रहेगा।

यह भी पढ़ें

एक्शन में सीएम भजनलाल सरकार, वापस लिया गहलोत सरकार का ये बड़ा फैसला



कहां से आता है चाइनीज मांझा?
जानकारों के अनुसार चाइनीज मांझा का नाम भ्रामक है क्योंकि यह चीन से आयात नहीं किया जाता है, बल्कि इसे घरेलू स्तर पर उत्पादित किया जाता है। चीनी मांझा उत्तर प्रदेश के बरेली और मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों में बनाया जाता है, जहां से इसे ज्यादातर ऑनलाइन बेचा जाता है। चाइनीज मांझे की लोकप्रियता का मुख्य कारण इसकी कीमत है। यह सूती मांझे की तुलना में से एक तिहाई कीमत में मिल जाता है और पंतग काटने के लिहाज से कई गुना अधिक मजबूत है। बरेली के मांझे देश में सबसे बढ़िया माने जाते हैं। उच्च गुणवत्ता वाले सूती धागे को तेज बनाने के लिए गोंद चावल के आटे और अन्य सामग्रियों में लेपित किया जाता है।

ट्रेंडिंग वीडियो