scriptImportant contribution of tribal culture in saving Indian culture | भारतीय संस्कृति को बचाने में आदिवासी संस्कृति का अहम योगदान | Patrika News

भारतीय संस्कृति को बचाने में आदिवासी संस्कृति का अहम योगदान

पीजी कॉलेज में ई-संगोष्ठी संपन्न...

झालावाड़

Updated: April 28, 2022 06:57:31 pm

झालावाड़. राजकीय पीजी कॉलेज मेें गुरुवार को हिंदी विभाग के तत्वावधान राष्ट्रीय ई-संगोष्ठी संपन्न हुई। संयोजक रामकिशन माली ने बताया कि संगोष्ठी की मुख्य अतिथि वरिष्ठ हिंदी साहित्यकार महाराष्ट्र निवासी डॉ.सुशीला टाकभौरे, मुख्य वक्ता डॉ.गंगा सहाय मीणा एसोसिएट प्रोफेसर हिंदी जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय नई दिल्ली, एनलक्ष्मी अय्यर प्रोफेसर एवं विभागाध्यक्ष हिंदी विभाग राजस्थान केंद्रीय विश्वविद्यालय अजमेर, डॉ.प्रमेश चंद मीणा,एसोसिएट प्रोफेसर पीजी कॉलेज बूंदी एवं डॉ.आदित्य कुमार गुप्त एसोसिएट प्रोफेसर राजकीय कला महाविद्यालय कोटा, संगोष्ठी अध्यक्ष प्राचार्य डॉ. फूलसिंह गुर्जर,संगोष्ठी संरक्षक डॉ. सज्जन पोसवाल एवं डॉ रामकल्याण मीणा,संगोष्ठी की आयोजन सचिव अनीता मीणा, संगोष्ठी में विशेष सहयोगी डॉ. साधना गुप्ता रही।
Important contribution of tribal culture in saving Indian culture
भारतीय संस्कृति को बचाने में आदिवासी संस्कृति का अहम योगदान
आदिवासी संस्कृति को समझना होगा-
संगोष्ठी में मुख्य वक्ता डॉ. गंगासहाय मीणा ने कहा कि यदि भारतीय संस्कृति को समझना है तो आदिवासी संस्कृति को समझना होगा,क्योंकि आदिवासी संस्कृति ही भारतीय संस्कृति का प्राण है आदिवासियों के साहित्य को पढऩा और जानना होगा,आदिवासियों के लोकतंत्र की धारणाओं को समझना होगा। भीलों की आबादी में भी आदिवासी जीवन देखा जा सकता है आदिवासी साहित्य में किसे शामिल किया जाए इसकी एक परंपरा रही है, आदिवासी साहित्य एवं उनकी शब्दावली को समझना होगा। भारतीय संस्कृति को बचाने में जो योगदान आदिवासी संस्कृति ने दिया है वह अविस्मरणीय है।
बहुपति प्रथा पर किया कटाक्ष-
मुख्य वक्ता एन लक्ष्मी अय्यर ने वैदिक सभ्यता से लेकर स्त्री विमर्श डालते हुए बहुपति प्रथा आदि कुरीतियों पर कटाक्ष किया। आदित्य कुमार ने हिंदी कहानियों में आदिवासी विमर्श पर प्रकाश डाला। डॉ.प्रमेश चंद्र मीणा ने दलित विमर्श पर अपना व्याख्यान दिया। मुख्य अतिथि वरिष्ठ हिंदी साहित्यकार डॉ. सुशीला टाकभौरे ने आदिवासी, दलित एवं स्त्री विमर्श के साहित्य की त्रिवेणी का संगम करते हुए बताया कि तीनों ही विमर्श समकालीन समय के लिए महत्वपूर्ण हैं, आदिवासी विमर्श आज की आवश्यकता है। संगोष्ठी की अध्यक्षता करते हुए प्राचार्य डॉ. फूलसिंह गुर्जर ने कहा कि संगोष्ठी का विषय हिंदी साहित्य में आदिवासी, दलित एवं स्त्री विमर्श समाज की दृष्टि से उपयोगी है। संगोष्ठी में विभागाध्यक्ष डॉ. सज्जन पोसवाल ने कहा कि संगोष्ठी में जो सा निकलकर आएगा, आने वाली पीढ़ी को कई अहम जानकारी मिलेगी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

Thailand Open: PV Sindhu ने वर्ल्ड की नंबर 1 खिलाड़ी Akane Yamaguchi को हराकर सेमीफाइनल में बनाई जगहIPL 2022 RR vs CSK Live Updates: रोमांचक मुकाबले में राजस्थान ने चेन्नई को 5 विकेट से हरायासुप्रीम कोर्ट में अपने लास्ट डे पर बोले जस्टिस एलएन राव- 'जज साधु-संन्यासी नहीं होते, हम पर भी होता है काम का दबाव'ज्ञानवापी मस्जिद केसः सुप्रीम कोर्ट का सुझाव, मामला जिला जज के पास भेजा जाए, सभी पक्षों के हित सुरक्षित रखे जाएंशिक्षा मंत्री की बेटी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने दिए बर्खास्त करने के निर्देश, लौटाना होगा 41 महीने का वेतनCBI रेड के बाद तेजस्वी यादव ने केंद्र सरकार पर कसा तंज, कहा - 'ऐ हवा जाकर कह दो, दिल्ली के दरबारों से, नहीं डरा है, नहीं डरेगा लालू इन सरकारों से'Ola-Uber की मनमानी पर लगेगी लगाम! CCPA ने अनुचित व्यवहार के लिए भेजा नोटिस, 15 दिन में नहीं दिया जवाब तो हो सकती है कार्रवाईHyderabad Encounter Case: सुप्रीम कोर्ट के जांच आयोग ने हैदराबाद एनकाउंटर को बताया फर्जी, पुलिसकर्मी दोषी करार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.