scriptस्कूलों में नामांकन बढ़ाने का कार्य दो चरणों में होगा अबकी बार डिजिटल प्रवेशोत्सव, बैनर-पम्पलेट से करेंगे आकर्षित | jhalawar Top News. | Patrika News
झालावाड़

स्कूलों में नामांकन बढ़ाने का कार्य दो चरणों में होगा अबकी बार डिजिटल प्रवेशोत्सव, बैनर-पम्पलेट से करेंगे आकर्षित

The work of increasing enrollment in schools will be done in two phases, this time digital entry festival will attract people through banners and pamphlets.

झालावाड़Jun 24, 2024 / 08:44 am

jagdish paraliya

  • सुनेल. सरकारी स्कूलों में नामांकन बढ़ाने के लिए शिक्षा विभाग की ओर से तीन चरणों में प्रवेशोत्सव कार्यक्रम चलाया जाएगा। पहला चरण 17 जुलाई तक चलेगा। यह दो फेज में पूरा होगा। पहले फेज में 13 मई से 1 जुलाई तक शिक्षक घर-घर जाकर हाउस होल्ड सर्वे करेंगे, जिसमें बच्चों का चिह्रनीकरण तथा हार्ड केसेज की पहचान की जाएगी। दूसरा चरण दो जुलाइ्र से शुरु होगा, जिसमें नामांकन अभियान चलाकर नामांकित बच्चों की सीआरसी मॉड्यूल में प्रविष्टि की जाएगी।
सुनेल. सरकारी स्कूलों में नामांकन बढ़ाने के लिए शिक्षा विभाग की ओर से तीन चरणों में प्रवेशोत्सव कार्यक्रम चलाया जाएगा। पहला चरण 17 जुलाई तक चलेगा। यह दो फेज में पूरा होगा। पहले फेज में 13 मई से 1 जुलाई तक शिक्षक घर-घर जाकर हाउस होल्ड सर्वे करेंगे, जिसमें बच्चों का चिह्रनीकरण तथा हार्ड केसेज की पहचान की जाएगी। दूसरा चरण दो जुलाइ्र से शुरु होगा, जिसमें नामांकन अभियान चलाकर नामांकित बच्चों की सीआरसी मॉड्यूल में प्रविष्टि की जाएगी। यह अभियान 17 जुलाई तक चलेगा। प्रवेशोत्सव के तीसरा चरण 18 जुलाई से शुरु होगा, इसमें शेष रहे बच्चों के चिह्रनीकरण के लिए फिर से हाउस होल्ड सर्वे किया जाएगा। यह हाउस होल्ड सर्वे 24 जुलाई तक चलेगा। इसके बाद 25 जुलाई से 16 अगस्त तक नामांकन अभियान चलाकर बच्चों की सीआरसी मॉड्यूल में प्रविष्टि की जाएगी।
इस बार यह बदलाव

इस बार प्रवेशोत्सव प्रक्रिया में हाउस होल्ड सर्वे के डेटा को रजिस्टर की जगह डिजिटल एप्लिकेशन में इंद्राज करना होगा। जिससे आउट ऑफ स्कूल बच्चों की सूचना सीधे गांव से हर स्तर जैसे पंचायत, जिला, मंडल तथा राज्य स्तर पर पहुंच सके।
हाउस होल्ड सर्वे में यह करेंगे शिक्षक

हाउस होल्ड सर्वे में जिन शिक्षकों की ड्यूटी लगेगी, उन्हें घर-घर जाकर अब तक अनामांकित बालक-बालिकाओं की पहचान, ड्रॉप आउट बच्चों की संख्या, प्रवासी श्रमिकों के बच्चों, बाल श्रम से मुफ्त कराए गए बच्चों तथा 3 से 18 वर्ष के ड्रॉप आउट, प्रवेश से वंचित बालक-बालिकाओं का डिजिटल प्रवेशोत्सव एप पर रिकॉर्ड संधारण करना होगा। सभी चिह्रिनत बच्चों के प्रवेश की कार्ययोजना बनाना, निकटतम स्कूल में आयु के अनुसार प्रवेश दिलाना तथा नव प्रवेशित बालक-बालिकाओं का सीआरसी मॉडयूल पर सही रिकॉर्ड संधारण करना शिक्षकों के जिम्मे होगा।
बच्चों में रोचकता रहे

प्रवेशोत्सव कार्यक्रम के दोनों चरणों मेें रोचकता लाने के लिए विद्यालय की ओर से पोस्टर, बैनर तथा पम्पलेट वितरण, नव प्रवेशित बच्चों का तिलक व माला पहनाकर स्वागत किया जाएगा। विभाग की योजनाओं की जानकारी विद्यार्थियों तथा अभिभावकों तक पहुंचाकर उन्हें सरकारी स्कूल में प्रवेश के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा।
इनकी रहेगी भागीदारी

प्रवेशोत्सव के दोनों चरणों में सामूहिक भागीदारी के लिए विद्यालय में प्रवेश योग्य बच्चों के प्रवेश के लिए विद्यालय विकास एवं प्रबंध समिति के सदस्यों, पूर्व विद्यार्थी परिषद्, अभिभावक- अध्यापक परिषद् तथा अध्ययनरत विद्यार्थियों के सहयोग से नव प्रवेश को बढ़ावा दिया जाएगा।
स्कूलों में नामांकन बढ़ाने का कार्य तीन चरणों में होगा। अबकी बार डिजिटल प्रवेशोत्सव होगा। जिसमें एप में हाउस होल्ड सर्वे का डेटा दर्ज किया जाएगा। पहला चरण 17 जुलाई तक, दूसरा चरण 18 जुलाई से 16 अगस्त तक चलेगा। नामांकन बढ़ाने के लिए इस बार बैनर व पम्पलेट से आकर्षित करेंगे।
  • सत्येंन्द्रपाल शर्मा, सहायक निदेशक, शिक्षा विभाग, झालावाड़

Hindi News/ Jhalawar / स्कूलों में नामांकन बढ़ाने का कार्य दो चरणों में होगा अबकी बार डिजिटल प्रवेशोत्सव, बैनर-पम्पलेट से करेंगे आकर्षित

ट्रेंडिंग वीडियो