scriptWhy the havoc caused by floods in Kota-Jhalawar, IAS will investigate | कोटा-झालावाड़ में बाढ़ से क्यों मची तबाही, आईएएस जांचेंगे | Patrika News

कोटा-झालावाड़ में बाढ़ से क्यों मची तबाही, आईएएस जांचेंगे

. भीमसागर बांध के पानी ने मचाई तबाही, अब नपेंगे अधिकारी
. जिला कलक्टर ने एसडीएम को जांच सौंपी

झालावाड़

Published: August 14, 2021 11:28:35 am

झालावाड़। जल संसाधन विभाग के अभियंताओं की लापरवाही के कारण भीमसागर बांध के पानी ने झालावाड़ और कोटा जिले के सांगोद में भारी तबाही मचाई है। अभियंताओं की लापरवाही से झालावाड़ और कोटा जिले के सैकडों लोगों की जान खतरे में डाल दी थी। इस मामले में सांगोद के विधायक भरतसिंह ने तो भीमसागर बांध पर पहुंचकर सांगोद में बाढ़ की स्थिति के लिए सीधे तौर पर अभियंताओं को जिम्मेदार ठहराया था। मामला सरकार तक पहुंचने के बाद झालावाड़ जिला कलक्टर हरिमोहन मीणा ने समूचे मामले की जांच के लिए आईएएस व उपखण्ड अधिकारी मुहम्मद जुनैद को जांच सौंप दी है। जिला कलक्टर ने तत्काल जांच रिपोर्ट देने का आदेश दिया है। आईएएस जांच करेंगे कि कोटा के सांगोद और झालावाड़ में बाढ़ कैसे आई। क्या भीमसागर बांध के गेट खोलने में कोताही बरती गई है, वे तमाम पहलुओं की पड़ताल करेंगे। जिला कलक्टर की ओर से जारी आदेश में कहा कि झालावाड़ व कोटा के सांगोद में आई भीषण बाढ़ के संबंध में समस्त कांग्रेस कार्यकर्ता ब्लॉक खानपुर की ओर से प्रार्थना पत्र पेश किया है। जिसमें कहा कि भीमसागर बांध के अधिकारियों के खिलाफ शिकायत प्रस्तुत की है कि बांध के गेट पानी की आवक होने पर धीरे-धीरे नहीं खोले गए और बांध में अत्यधिक पानी की आवक होने पर एक साथ 14-14 फीट पांचों गेट खोलकर पानी की निकासी की गई। जिससे झालावाड़ और सांगोद में बाढ़ आई और भारी तबाही मची है। इस शिकायत की विस्तृत जांच के आदेश दिए हैं। गौरतलब है कि भीमसागर बांध का पिछले गुरुवार देर शाम को जलस्तर 1007 हो चुका था। गुरुवार शाम से ही बारिश का दौर शुरू हो चुका था उसके बाद रात्रि को जलस्तर लगातार बढ़ता रहा बांध पर सिर्फ एक ही कर्मचारी तैनात था उसे भी सिर्फ गेज लेना आता है। लगातार बारिश होने से बांध में जलस्तर बढऩे लगा शुक्रवार सुबह 5 बजे बांध का जलस्तर 1009 के ऊपर निकल चुका था। क्यो की असनावर क्षेत्र समेत रटलाई में उस दिन जोरदार झमाझम बरसात की वजह से उजाड़ नदी उफान पर आ रही थी।
कोटा-झालावाड़ में बाढ़ से क्यों मची तबाही, आईएएस जांचेंगे
कोटा-झालावाड़ में बाढ़ से क्यों मची तबाही, आईएएस जांचेंगे

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Cash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कततत्काल पैसों की जरुरत है? तो जानिए वो 25 बैंक जो दे रहे हैं सबसे सस्ता Personal LoanNew Maruti Alto का इंटीरियर होगा बेहद ख़ास, एडवांस फीचर्स और शानदार माइलेज के साथ होगी लॉन्चVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिश्री गणेश से जुड़ा उपाय : जो बनाता है धन लाभ का योग! बस ये एक कार्य करेगा आपकी रुकावटें दूर और दिलाएगा सफलता!प्रदेश में कल से छाएगा घना कोहरा और शीतलहर-जारी हुआ येलो अलर्टइन 4 राशि की लड़कियां अपने पति की किस्मत जगाने वाली मानी जाती हैंToyoto Innova से लेकर Maruti Brezza तक, CNG अवतार में आ रही है ये 7 मशहूर गाड़ियां, जानिए कब होंगी लॉन्च

बड़ी खबरें

Assembly Election 2022: चुनाव आयोग का फैसला, रैली-रोड शो पर जारी रहेगी पाबंदीगोवा में बीजेपी को एक और झटका, पूर्व सीएम लक्ष्मीकांत पारसेकर ने भी दिया इस्तीफाUP चुनाव में PM Modi से क्यों नाराज़ हो रहे हैं बिहार मुख्यमंत्री नितीश कुमारसुरक्षा एजेंसियों की भुज में बड़ी कार्यवाही, 18 लाख के नकली नोटों के साथ डेढ़ किलो सोने के बिस्किट किए बरामदUP Assembly Elections 2022 : टिकट कटा तो बदली निष्ठा, कोई खोल रहा अपने नेता की पोल तो कोई दे रहा मरने की धमकीPunjab Election 2022: भगवंत मान का सीएम चन्नी को चैलेंज, दम है तो धुरी सीट से लड़ें चुनावUP चुनाव आयोग ने हटाए 3 जिलों में DM , SP , लगातार मिल रही शिकायतों पर एक्शनAssembly Election 2022: मोबाइल में डाउनलोड करना चाहते हैं Voter iD Card, स्टेप बाय स्टेप फॉलो ये प्रोसेस
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.