नागपुर विश्वविद्यालय में असिस्टेंट प्रोफेसर के 92 पदों पर भर्ती, करें आवेदन

नागपुर विश्वविद्यालय में असिस्टेंट प्रोफेसर के 92 पदों पर भर्ती, करें आवेदन

Yuvraj Singh Jadon | Publish: Jul, 31 2018 02:47:52 PM (IST) जॉब्स

राष्ट्रीय संत तुकडोजी महाराज नागपुर विश्वविद्यालय ने असिस्टेंट प्रोफेसर के 92 पदों पर भर्ती के लिए आवेदन आमंत्रित किए

राष्ट्रीय संत तुकडोजी महाराज नागपुर विश्वविद्यालय ने असिस्टेंट प्रोफेसर के 92 पदों पर भर्ती के लिए आवेदन आमंत्रित किए हैं। इच्छुक व योग्य उम्मीदवार इन पदाें के लिए 16 अगस्त 2018 तक आवेदन कर सकते हैं। आवेदन आैर अन्य जानकारी के लिए नीचे दिए गए अधिसूचना विवरण लिंक पर क्लिक करें।

नागपुर यूनिवर्सिटी में रिक्त पदाें का विवरणः
असिस्टेंट प्रोफेसर - 92 पद

वेतनमान - 24,000 रूपए।

शैक्षणिक योग्यताः
असिस्टेंट प्रोफेसर - कम से कम 55 प्रतिशत अंकों के साथ संबंधित विषय में मास्टर डिग्री।
असिस्टेंट प्रोफेसर, फार्मास्यूटिकल साइंसेज - B.Pharma की डिग्री। फार्मासिस्ट के तौर पर पंजीकृत। फार्मेंसी में प्रथम श्रेणी मास्टर डिग्री।

असिस्टेंट प्रोफेसर कैमिकल इंजीनियरिंग - इंजीनियरिंग आैर टेक्नालाॅजी में मास्टर डिग्री।
असिस्टेंट प्रोफेसर एजुकेशन - 50 प्रतिशत अंकों के साथ सांइस की मास्टर डिग्री। 55 प्रतिशत अंकों के साथ M.ED, NET उत्तीर्ण।
योग्यता संबंधी अधिक जानकारी के लिए नीचे दिए गए अधिसूचना विवरण लिंक पर क्लिक करें।

चयन प्रक्रियाः
उम्मीदवाराें का चयन लिखित परीक्षा के अाधार पर किया जाएगा।

आवेदन प्रक्रियाः
इच्छुक व योग्य उम्मीदवार निर्धारित प्रारूप में इस पतें पर आवेदन कर सकते हैंः- The Registrar, Rashtrasant Tukadoji Maharaj nagpur university , Chhatrapati Shivaji Maharaj Administrative Building, Ravindranath Tagore Marg, Near Maharajbag, Civil Lines, Nagpur-440 001

आवेदन शुल्कः 500 रूपए।

महत्वपूर्ण तिथिः

आवेदन की अंतिम तिथिः 16 अगस्त 2018

राष्ट्रीय संत तुकडोजी महाराज नागपुर विश्वविद्यालय ने असिस्टेंट प्रोफेसर के 92 पदों पर भर्ती के लिए विस्तृत अधिसूचना यहां क्लिक करें।

राष्ट्रसन्त तुकडोजी महाराज नागपुर विश्वविद्यालय (RTMNU), महाराष्ट्र के नागपुर में स्थित एक सार्वजनिक विश्वविद्यालय है जिसका नाम पहले 'नागपुर विश्वविद्यालय' था। इसकी स्थापना 4 अगस्त, 1923 को हुई थी। यह भारत के सबसे पुराने विश्वविद्यालयों में से एक है। इसका नाम तुकडोजी महाराज के नाम पर रखा गया है।इस विश्वविद्यालय का मुख्य लक्ष्य संस्कृत, मराठी, हिन्दी, उर्दू आदि भाषाओं तथा आयुर्विज्ञान, विज्ञान, मानविकी, वाणिज्य एवं इंजीनियरी आदि की शिक्षा देना है। सन 1947 से ही यह विश्वविद्यालय मेडिकल की डिग्री प्रदान कर रहा है। 1 मई 1983 को इस विश्वविद्यालय को विभाजित करके इसके कुछ संसाधनों द्वारा अमरावती विश्वविद्यालय बनाया गया था।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned