Railway recruitment - स्काउट्स और गाइड्स कोटा के तहत ग्रुप सी और डी के 11 पदाें पर भर्ती

Yuvraj Singh

Publish: Apr, 17 2018 06:11:40 PM (IST)

जॉब्स
Railway recruitment - स्काउट्स और गाइड्स कोटा के तहत ग्रुप सी और डी के 11 पदाें पर भर्ती

NER Scout Guide Quota Recruitment 2018, नॉर्थ ईस्टर्न रेलवे ( NER ) ने स्काउट्स और गाइड्स कोटा के तहत ग्रुप सी और डी के 11 रिक्त पदाें पर भर्ती के लिए

NER Scout Guide Quota Recruitment 2018, नॉर्थ ईस्टर्न रेलवे ( NER ) ने स्काउट्स और गाइड्स कोटा के तहत ग्रुप सी और डी के 11 रिक्त पदाें पर भर्ती के लिए आवेदन आमंत्रित किए हैं। इच्छुक व याेग्य उम्मीदवार 31 मई 2018 तक या उससे पहले निर्धारित प्रारूप के माध्यम से आवेदन कर सकते हैं।आवेदन आैर अन्य जानकारी के लिए नीचे दिए गए अधिसूचना विवरण लिंक पर क्लिक करें।

नॉर्थ ईस्टर्न रेलवे ( NER ) में रिक्त पदाें का विवरणः

• ग्रुप सी - 3 पद

• ग्रुप डी -8 पद

 

नॉर्थ ईस्टर्न रेलवे ( NER ) में रिक्त पदाें पर आवेदन करने के लिए पात्रता मानदंड व शैक्षिक योग्यता:

• ग्रुप सी (टेक्नीशियन-III) - मैट्रीक्यूलेशन के साथ संबंधित ट्रेड में आईटीआई या समकक्ष।

• ग्रुप सी (अन्य पद) - 12 वां पास या समकक्ष।

• ग्रुप डी - मैट्रिक्यूलेशन या समकक्ष।

आयु सीमा - 18 से 33 वर्ष (मानदंडों के अनुसार आरक्षित श्रेणी उम्मीदवारों के लिए उम्र में छूट)

 

नॉर्थ ईस्टर्न रेलवे ( NER ) में रिक्त पदाें पर आवेदन कैसे करें:

योग्य उम्मीदवार ऑनलाइन मोड के माध्यम से 31 मई 2018 तक या उससे पहले आवेदन कर सकते हैं।

 

नॉर्थ ईस्टर्न रेलवे ( NER ) में रिक्त पदाें पर आवेदन करने के लिए आवेदन शुल्क:

• सामान्य - रु. 500 / -

• एससी / एसटी / पूर्व सैनिक / पीडब्ल्यूडी / महिला / आर्थिक रूप से पिछड़ा वर्ग - रु. 250 / -

 

नॉर्थ ईस्टर्न रेलवे ( NER ) में रिक्त पदाें पर आवेदन करने के लिए महत्वपूर्ण तिथि:

• आवेदन जमा करने की अंतिम तिथि - 31 मई 2018

 

NER Scout Guide Quota Recruitment 2018ः

नॉर्थ ईस्टर्न रेलवे ( NER ) ने स्काउट्स और गाइड्स कोटा के तहत ग्रुप सी और डी के 11 रिक्त पदाें पर भर्ती के लिए विस्तृत अधिसूचना यहां क्लिक करें।

 

परिचयः

पूर्वोत्तर रेलवे का गठन 14 अप्रेल, 1952 को मुख्यत: दो रेलवे प्रणालियों (अवध और तिरहुत रेलवे तथा असम रेलवे) और बी.बी एण्ड सी.आई. के कानपुर अछनेरा खण्ड को जोड़ कर हुआ। 15 जनवरी 1958 को यह दो जोनों में विभाजित हुआ – पूर्वोत्तर और पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे में। अपने वर्तमान स्वरूप में पूर्वोत्तर रेलवे सन 2002 के जोनों के पुनर्गठन के बाद आया। इस जोन में 3450 रूट किलोमीटर और 486 स्टेशन हैं। पुनर्गठन के बाद इस रेलवे में तीन मण्डल हैं – वारणसी, लखनऊ और इज्जतनगर। पूर्वोत्तर रेलवे मूलत: उत्तरप्रदेश, उत्तराखण्ड और बिहार के पश्चिमी जिलों को यातायात सुविधायें देता है।

Ad Block is Banned