script देश के विभाजन के बाद कराची से आकर राजस्थान के इस शहर में 29 दिन रुके थे आडवाणी, जानिए क्यों | Bharat Ratna: Advani came from Karachi and lived in Jodhpur after partition | Patrika News

देश के विभाजन के बाद कराची से आकर राजस्थान के इस शहर में 29 दिन रुके थे आडवाणी, जानिए क्यों

locationजोधपुरPublished: Feb 04, 2024 11:01:08 am

Submitted by:

Rakesh Mishra

देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से अलंकरण के लिए नामित भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वयोवृद्ध नेता और पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी को देश में दूसरा लौह पुरुष कहा गया है

bharat_ratna_lal_krishna_advani.jpg
एम.आई. जाहिर
आज के भारत रत्न लालकृष्ण आडवाणी जोधपुर भारत विभाजन के बाद कराची से आ कर 29 दिन जोधपुर में रहे थे। वे तब जालप मोहल्ले स्थित तत्कालीन प्रांतीय जनसंघ कार्यालय में भी रहे थे। आडवाणी ने अपने जन्म दिन पर उनसे नई दिल्ली में मिलने और बधाई देने गए बालोतरा भाजपा जिला संगठन प्रभारी राजेंद्र बोराणा और भाजपा नेता सुनील मूंदड़ा को यह बात बताई।
आडवाणी को आज भी याद हैं जोधपुर की गलियां

आडवाणी ने उन्हें बताया कि वे जोधपुर की गलियों विशेषकर सोनारों की घाटी को आज भी याद करते हैं। उस समय उन पर संघ की जिम्मेदारी नहीं थी। आडवाणी और पीतानी दोनों कराची से जोधपुर आए थे। कालांतर में पीतानी जोधपुर में बस गए और आडवाणी जोधपुर से चले गए। उन्होंने बताया कि एलएलबी पीतानी वीकली लॉ नोटस लिखने लग गए। पीतानी का परिवार आज भी जोधपुर में रहता है। इस मौके पर आडवाणी ने बताया कि जोधपुर से जुड़े उनके मन स्मृति में बहुत सारे संस्मरण हैं। जोधपुर की भाषा जोधपुर के संस्कार और जोधपुर की परंपराएं अनूठी हैं।

यह भी पढ़ें

सीएम शर्मा ने कांग्रेस पर कसा तंज, बोले जिस पार्टी की खुद की कोई गारंटी नहीं वह लोगों को गारंटी देकर भटका रही है

साथ काम करने का खूब मौका मिला
भाजपा के शीर्ष नेता लालकृष्ण आडवाणी को भारत रत्न मिलने की घोषणा से मैं बहुत खुश हूं। उनके साथ रहने और काम करने का खूब मौका मिला है। भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की सन 1983 में जोधपुर में आयोजित बैठक में उन्हें लाने ले जाने और सर्किट हाउस ठहराना मेरे जिम्मे था। तब मैं नगर परिषद सदस्य था। रथ यात्रा के समय राजस्थान में प्रवेश करने पर उनका आबू रोड में स्वागत किया था। वहीं अयोध्या में सन 1992 में भी हम मिले थे। वहीं उप प्रधानमंत्री बनने पर सन 2003 में आयोजित स्वदेशी मेले में उन्हें मुख्य अतिथि के रूप में बुलाया था।
मेघराज लोहिया, पूर्व अध्यक्ष राजसीको, जोधपुर

ट्रेंडिंग वीडियो