scriptElectric trains will now run on Udaipur-Ajmer route | उदयपुर-अजमेर रुट पर अब दौड़ेगी इलेट्रिक ट्रेनें | Patrika News

उदयपुर-अजमेर रुट पर अब दौड़ेगी इलेट्रिक ट्रेनें

- रक्षा मंत्रालय ने नसीराबाद छावनी से रेलवे को 132 केवी की ट्रांसमिशन लाइन गुजारने की अनुमति दी
- दिल्ली-उदयपुर इलेक्ट्रिक रुट का अब पूर्ण उपयोग होगा

जोधपुर

Published: August 14, 2021 04:25:10 pm

जोधपुर. रक्षा मंत्रालय ने रेलवे को अजमेर के पास स्थित नसीराबाद छावनी के भीतर से इलेक्ट्रिक ट्रेनों के लिए 132 केवी की ट्रांसमिशन लाइन गुजारने की अनुमति दे दी है। इससे अब दिल्ली-उदयपुर इलेक्ट्रिक रूट का पूर्णतया उपयोग हो पाएगा। इलेक्ट्रिक इंजन फुल क्षमता के साथ दौड़ेंगे और एक ही समय में कई गाडिय़ों का संचालन संभव हो पाएगा। इससे यात्रा समय में भी कमी आएगी।
रेलवे मंत्रालय ने दिल्ली-अजमेर-उदयपुर रुट का सालों पहले इलेक्ट्रिफिकेशन कर दिया था। इलेक्ट्रिक ट्रेनों के लिए हर 40 से 50 किलोमीटर पर एक ट्रांसमिशन सब स्टेशन (टीएसएस) होता है। दिल्ली-अजमेर तक ट्रेन तेजी से आती है लेकिन आगे उदयपुर रुट पर उसकी गति धीमी हो जाती है क्योंकि अजमेर के बाद टीएसएस सीधा 100 किलोमीटर दूर सरेरी पर है। ऐसे में ट्रेन को पूरी बिजली नहीं मिल पाती है। साथ ही एक से अधिक ट्रेनों का संचालन भी मुश्किल से हो रहा है। कई बार इलेक्ट्रिक इंजन हटाकर डीजल इंजन लगाकर ट्रेन को भेजना पड़ता है। इस समस्या के समाधान के लिए रक्षा मंत्रालय ने हाल ही में नसीराबाद छावनी में 14.11 एकड़ रक्षा भूमि रेल मंत्रालय को हस्तांतरित करने की मंजूरी दे दी है। अजमेर-उदयपुर रेलवे के विद्युतीकरण के लिए यह भूमि 132 केवी ओवरहेड इलेक्ट्रिक ट्रांसमिशन लाइन बनाने के लिए दी गई है जो कि 132 केवी जीएसएस नसीराबाद को 132 रेलवे टीएसएस नसीराबाद से जोड़ेगी। यह भूमि लाइसेंस व लीज के आधार पर दी गई है।
उदयपुर-अजमेर रुट पर अब दौड़ेगी इलेट्रिक ट्रेनें
उदयपुर-अजमेर रुट पर अब दौड़ेगी इलेट्रिक ट्रेनें
9 टावर व 2 किमी लंबी ट्रांसमिशन लाइन
रेलवे को 9 टावरों के निर्माण के लिए लीज आधार पर और 2133 मीटर लंबी ट्रांसमिशन लाइन के लिए लाइसेंस आधार पर भूमि दी जाएगी।। भूमि का स्वामित्व रक्षा मंत्रालय पास ही रहेगा।
..............................
‘परियोजना के लिए जल्द ही रेलवे के साथ लीज डीड और लाइसेंस समझौते पर हस्ताक्षर होंगे। इसके बाद काम शुरू करने के लिए रक्षा भूमि को रेलवे को सौंप दिया जाएगा।
अभिनव सिंह, रक्षा संपदा अधिकारी जोधपुर वृत्त

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ससुराल में इस अक्षर के नाम की लडकियां बरसाती हैं खूब धन-दौलत, किस्मत की धनी इन्हें मिलते हैं सारे सुखइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमी100-100 बोरी धान लेकर पहुंचे थे 2 किसान, देखते ही कलक्टर ने तहसीलदार से कहा- जब्त करोराजस्थान में यहां JCB से मिलाया 242 क्विंटल चूरमा, 6 क्विंटल काजू बादाम किशमिश डालेShani Parvat: हाथ में मौजूद शनि पर्वत बताता है कि पैसों को लेकर कितने भाग्यशाली हैं आपफरवरी में मकर राशि में ग्रहों का महासंयोग, मेष से लेकर मीन तक इन राशियों को मिलेगा लाभNew Maruti Wagon R : अनोखे अंदाज में आ रही है आपकी फेवरेट कार, फीचर्स होंगे ख़ास और मिलेगा 32Km का माइलेज़2 बच्चों के पिता और 47 साल के मर्द पर फ़िदा है ‘पुष्पा’ की 25 साल की एक्ट्रेस, जाने कौन है वो

बड़ी खबरें

7 मार्च तक UP चुनाव से जुड़े एक्ज़िट पोल पर लगी रोक, 2 साल की जेलJammu Kashmir: अनंतनाग के हसनपोरा में आतंकी हमला, पुलिस हेड कांस्टेबल अली मोहम्मद शहीदभरोसा बनाए रखें, प्रिंट मीडिया को कोई खतरा नहींः प्रो. संजय द्विवेदीUP Assembly Elections 2022: राजा भैया के खिलाफ कुंडा से समाजवादी के बाद बीजेपी ने घोषित की प्रत्याशी, जाने कौन है सिंधुजा मिश्रा जो राजा को देगी टक्करमहिला आयोग के नोटिस के बाद झुका SBI, विवादित सर्कुलर लिया वापसBeating the Retreat: गणतंत्र दिवस समारोह के समापन पर विजय चौक पर भव्य शो, 300 साल पुरानी है 'बीटिंग द रिट्रीट' परंपराभाजपा MLA की ‘जाति’ पर सवाल,हाईकोर्ट ने कहा- 90 दिन में सरकार करे समाधानराजनीतिक संरक्षण में हुआ है रीट परीक्षा का पेपर आउट,मंत्रिमंडल तक जुड़े हैं तार-राठौड़
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.