नसबंदी की आड़ में महिलाओं पर अत्याचार, कड़ाके की ठंड में ऑपरेशन कर महिलाओं को फर्श पर लेटाया

नसबंदी में नहीं की कलेक्टर के निर्देश की परवाह, मरीजों को जमीन पर लेटाया, लोडिंग वाहन से पहुंचाया जा रहा घर।

By: Faiz

Published: 30 Dec 2020, 04:51 PM IST

कटनी/ नसबंदी का टारगेट पूरा करने के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा महिला मरीजों के साथ जानवरों की तरह सुलूक किया जा रहा है। स्थानीय अफसरों की मनमानी का आलम यह है कि, कलेक्टर के निर्देश के बाद भी बीएमओ और शिविर प्रभारी व्यवस्थाओं को लेकर सजग नहीं है।

 

पढ़ें ये खास खबर- अलविदा 2020 : इस साल यूनेस्को ने वर्ल्ड हेरिटेज की सूची में एमपी के 2 शहरों को किया शामिल, पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा

 

देखें खबर से संबंधित वीडियो...

ढीमरखेड़ा विकासखंड का मामला

news

तस्वीरें ढीमरखेड़ा विकासखंड की है, यहां मंगलवार की रात 100 से ज्यादा महिला मरीजों का ऑपरेशन किया गया। ऑपरेशन के बाद कड़ाके की ठंड में मरीजों को फर्श पर ही लेटा दिया गया। घर भेजने के लिए एम्बुलेंस के बजाय लोडिंग वाहन में बैठाया गया।

 

पढ़ें ये खास खबर- अलविदा 2020 : लॉकडाउन में सबसे ज्यादा परेशान हुए थे ये लोग, परिवहन सेवाएं बंद होने से पैदल तय किया था हजारों कि.मी का सफर


क्या कहते हैं जिम्मेदार

news

शिविर के दौरान बरती गई इस लापरवाही पर अब स्वास्थ्य विभाग के सीएमएचओ डॉ प्रदीप मुड़िया ढीमरखेड़ा के जिम्मेदारों को नोटिस जारी कर जवाब मांगने की बात कह रहे हैं। वहीं, ढीमरखेड़ा के बीएमओ डॉ. केवट का कहना है कि, नसबंदी ऑपरेशन के लिए सर्जन की बेहद कमी है। कुछ एक सर्जन ही ऑपरेशन के लिए समय निकालते हैं और अमूमन उनके पहुंचने और मरीजों की 5 तरह की जांच होने के बाद विलंब हो जा रहा है। डॉक्टर केवट बताते हैं कि आगे शिविर को लेकर पूरी कोशिश है कि, महिला मरीजों की इस तरह की परेशानियों का सामना नहीं करना पड़े।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned