कवर्धा हिंसा पर गृह मंत्री ताम्रध्वज का बड़ा बयान, कहा भाजपा और RSS ने गुंडे बुलाकर कराई हिंसा, इंटेलिजेंस फेल्यिर से इनकार

Kawardha violence: रमन सिंह ने कवर्धा मामले में 70 बच्चों को गिरफ्तार करने का आरोप लगाया था। एफआईआर में कोई भी कवर्धा का व्यक्ति नहीं है।

By: Dakshi Sahu

Published: 11 Oct 2021, 01:34 PM IST

कवर्धा. कवर्धा हिंसा में पहली बार गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू (CG Home Minister Tamradhwaj sahu) ने बयान दिया है। उन्होंने कहा कि भाजपा (CG BJP) और आरएसएस (RSS) ने बाहर से गुंडे बुलवा कर हिंसा कराई है। गृहमंत्री ने कवर्धा में इंटेलिजेंस फेलियर मानने से इनकार कर दिया। गौरेला-पेंड्रा-मरवाही पहुंचे साहू ने कहा कवर्धा के लोग शांतिप्रिय हैं, वे कभी इस प्रकार की घटना घटित नहीं कर सकते। मंत्री ने कहा कि रमन सिंह स्पष्ट करें कि कवर्धा में जिन पर मामला दर्ज हुआ है, वह 18 साल से कम उम्र के बच्चे हैं या अधिक। रमन सिंह ने कवर्धा मामले में 70 बच्चों को गिरफ्तार करने का आरोप लगाया था। एफआईआर में कोई भी कवर्धा का व्यक्ति नहीं है। बल्कि ये बाहर से आए हुए लोग हैं। जिनके बारे में वीडियो फुटेज के आधार पर छानबीन की जा रही है।

Read More: कवर्धा हिंसा पर गरमाई राजनीति, सरकार के तीन मंत्रियों ने भाजपा को ठहराया जिम्मेदार, कहा प्रायोजित थी पूरी घटना ....

कांग्रेस की सत्ता में आने के बाद बनी विस्फोटक स्थिति
इधर छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह (Dr.Raman singh) 10 अक्टूबर को कवर्धा गए थे। कवर्धा रवाना होने से पहले पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा, कवर्धा को शांति का टापू कहा जाता है, ऐसी जगह पर इस तरह की परिस्थिति क्यों निर्मित हुई? कांग्रेस के सत्ता में आने के बाद कवर्धा में विस्फोटक जैसी स्थिति निर्मित हुई, वहां धारा 144 कभी भी नहीं लगाई गई थी। लोगों से इस बात की जानकारी लेने की कोशिश करूंगा। घटना की वजह जानने का प्रयास करूंगा कि ऐसी परिस्थितियां निर्मित क्यों हो रही।

मंत्रियों के दबाव में निर्णय ले रहा प्रशासन
रमन सिंह ने कहा, मंत्रियों के दबाव में प्रशासन निर्णय नहीं ले रही है, एफआईआर करने में 48 घंटे लग जाते हैं। उसके बाद भी एकतरफा कार्रवाई हो रही है। 100 से ज्यादा लोगों की गिरफ्तार कर ये समाज के समाज को क्या दिखाना चाहते हैं। क्या कवर्धा के लोगों को धमकाकर, कवर्धा जिले को बंधक बनाकर शांति स्थापित हो सकती है? मामले में न्यायिक जांच की जरूरत है, दोनों पक्षों पर कार्रवाई होनी चाहिए।

घटना को राजनीतिक मोड़ देने की कोशिश
पूर्व सांसद अभिषेक सिंह और सांसद संतोष पाण्डेय पर लगे आरोपों पर रमन सिंह कहा, कांग्रेसियों की जबान में जो बातें आ रही है, वह यही बता रही है कि इस घटना को राजनीतिक मोड़ देने की कोशिश हो रही है। राजनीति करते करते 3 साल में इन्होंने कवर्धा को जला डाला। मैं चाहता हूं कि कवर्धा में शांति स्थापित हो। कांग्रेस में इस तरह की मानसिकता पनप रही जिसे शांत होना चाहिए।

Show More
Dakshi Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned