प्राचार्य छात्राओं के सामने करते हैं ये घटिया हरकत, शिकायत की तो कहा- एक हफ्ते का समय दो, मैं खुद को बदल लूंगा

चार्य की इन उटपटांग हरकतों के कारण शर्मिंदगी का सामना करने वाली छात्राओं ने इसकी शिकायत कलेक्टर, एसपी और जनभागीदारी समिति से की है। जिसके लिए जनभागीदारी समिति के सदस्यों ने प्राचार्य की निंदा भी की है।

कवर्धा. स्नातकोत्तर महाविद्यालय के प्रभारी प्राचार्य डॉ. एसएस महापात्र अक्सर कक्षा में जाकर प्यार झुकता नहीं, इश्क मरता नहीं, मोगेंबो खुश हुआ जैसी शायरी और फिल्मी डायलॉग बोलते हैं। जिससे वहां के विद्यार्थी विशषकर छात्राएं बहुत परेशान हैं।

अपने बाप से दहेज़ लेकर आओ नहीं तो घर से निकलो, मजबूरन उसने मौत को लगा लिया गले

प्राचार्य की इन उटपटांग हरकतों के कारण शर्मिंदगी का सामना करने वाली छात्राओं ने इसकी शिकायत कलेक्टर, एसपी और जनभागीदारी समिति से की है। जिसके लिए जनभागीदारी समिति के सदस्यों ने प्राचार्य की निंदा भी की है।

हाल ही में एमकॉम प्रथम वर्ष की एक छात्रा प्रभारी प्राचार्य की उटपटांग हरकतों का शिकार हो गई। आरोप है कि कक्षा में प्रवेश करते हुए प्रभारी प्राचार्य उस छात्र पर भड़क गए। यही नहीं, नाेटबुक को फाड़कर उसके मुंह पर फेंक दिया।

अय्याश पुलिस कांस्टेबल अपने कमरे में रोज लाता था नयी-नयी लड़कियां, परेशान पड़ोसियों ने सिखाया सबक

विरोध किया तो मांगा सुधरने का मौका

प्रभारी प्राचार्य डॉ. महापात्र की हरकतों का जब विरोध होता है तो वह माफ़ी मांग लेते हैं और सुधरने के लिए एक हफ्ते का समय मांगने लगते हैं। लेकिन समय बीतने के बाद उनके रवैये में कोई परिवर्तन नहीं आता।

इस बार जब विवाद हुआ तो उन्होंने कहा कि मैंने माफी मांग ली है। मैं खुद को बदलने की कोशिश कर रहा हूं। मेरे स्टूडेंट्स मेरे बच्चों जैसे हैं। अब क्या मैं उनसे बात भी नहीं कर सकता।

ये भी पढ़ें: साहब मजदूरी का पैसा दे दो और भड़क गया भड़क गया ठेकेदार, बिजली के तार से की लड़की की बेतहाशा पिटाई

Karunakant Chaubey
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned