script25 girls burnt boiling oil for dirty toilet in kondagaon govt school | हैवानियत की हदें पार किया शिक्षक... टॉयलेट गंदा करने पर 25 बच्चियों को खौलते तेल से जलाया, दहशत में छात्र | Patrika News

हैवानियत की हदें पार किया शिक्षक... टॉयलेट गंदा करने पर 25 बच्चियों को खौलते तेल से जलाया, दहशत में छात्र

locationकोंडागांवPublished: Dec 09, 2023 11:27:44 am

Submitted by:

Kanakdurga jha

Crime In Kondagaon : इस स्कूल में दो दिन पहले एक बच्ची ने शौचालय गंदा कर दिया था। इसके बाद स्कूल की मॉनिटर ने स्कूल की शिक्षिकाओं के सामने सभी 25 छात्राओं के हाथ में खौलता तेल डालकर उन्हें सजा दी।

kondagaon_.jpg
Kondagaon Crime News : जिले के माकड़ी ब्लॉक के अंतर्गत आने वाले केरावाही पंचायत से स्कूली बच्चियों को खौफनाक तरीके से सजा देने का मामला सामने आया है। दरअसल इस स्कूल में दो दिन पहले एक बच्ची ने शौचालय गंदा कर दिया था। इसके बाद स्कूल की मॉनिटर ने स्कूल की शिक्षिकाओं के सामने सभी 25 छात्राओं के हाथ में खौलता तेल डालकर उन्हें सजा दी। गर्म तेल हाथ में पड़ने से बच्चियों का हाथ बुरी तरह से झुलस गया। मामले की जानकारी मिलते ही जिला स्तर और ब्लॉक स्तर के अधिकारी स्कूल पहुंचे।
यह भी पढ़ें

इंस्पेक्टर को भी नहीं छोड़ा साइबर ठगों ने... इलेक्ट्रॉनिक स्कूटर के नाम पर की लाखों की ठगी, FIR दर्ज



साथ में बाल संरक्षण इकाई एवं चाइल्ड लाइन के कर्मचारी भी थे और उन्होंने बच्चों व उनके पालकों का बयान लिया। इस पूरे मामले में स्कूल की मॉनिटर को आगे किया जा रहा है लेकिन संदेह जताया जा रहा है कि मामले में स्कूल की किसी एक शिक्षिका की संलिप्तता है और उसके दबाव में असल बयान सामने नहीं आ पा रहा है। यह पूरा मामला इसलिए भी संदेहास्पद हो जाता है कि आखिर एक बच्ची जो स्कूल की मॉनिटर वह बाकी 25 बच्चियों का हाथ खुद कैसे जला सकती है। अगर वह ऐसा करती भी है तो उसे रोका क्यों नहीं जता। इतनी बड़ी सजा देने की अनुमति उसे किसने दी।
सूचना मिलते ही तुरंत खंड शिक्षा कार्यालय के अधिकारियों के साथ हम पहुंचे और कार्रवाई की अनुशंसा कर उच्च कार्यालय में प्रेषित कर दिया है।

- राजू साहू, माकड़ी बीईओ

यह भी पढ़ें

Minister Seethakka : नक्सली से लेकर मंत्री तक का सफर किया तय, भाई-पति को खोने के बाद राजनीती में की एंट्री, जानिए पूरी कहानी...



बच्चे स्कूल में असुरक्षित
स्कूल की कक्षा सातवीं की छात्रा मंजू की मां शीतल पटेल कहा ने तेल किसने डाला और कौन-कौन मौजूद था पूछने पर कहा कि स्कूल की कप्तान ने यह कृत्य किया है और इस दौरान स्कूल की सभी शिक्षिकाएं मौजूद थीं। वहीं कक्षा आठवीं में पढ़नेे वाली डिंपल के पिता तिलक दास मानिकपुरी ने कहा कि अब सरकारी स्कूलों में भी बच्चे सुरक्षित नहीं है। इस विषय में आज सुबह ही मुझे पता चला। बच्ची से पूछने पर बच्ची ने कहा कि शिक्षिकाओं के मौजूदगी में यह अमानवीय कृत्य शाला की कप्तान द्वारा किया गया।
बच्चियां टॉयलेट गंदा करके रखते थीं। जिससे सब परेशान थे। कई बार समझाइश देने के बावजूद बच्चों ने वही हरकत की इसलिए साथी बच्चों द्वारा उन्हें दंड दिया गया।

-जोहू मरकाम, प्रधान अध्यापिका केरावाही स्कूल

ट्रेंडिंग वीडियो