OMG: बिल्डर के साथ हुआ धोखा, पूरा मामला जानकर हैरान रह जाएंगे आप

OMG: बिल्डर के साथ हुआ धोखा, पूरा मामला जानकर हैरान रह जाएंगे आप

ritu shrivastav | Publish: Nov, 15 2017 12:26:27 PM (IST) Kota, Rajasthan, India

फर्जी दस्तावेज से दुकान बेचकर बिल्डर से हड़पे 5 लाख रुपए, पीड़ित ने धोखाधड़ी का केस दर्ज कराया।

बोरखेड़ा थाना क्षेत्र में प्रोपर्टी डीलर ने फर्जी दस्तावेज से दूसरे की दुकान को स्वयं का बताकर उसे बेचने का इकरारनामा कर बिल्डर से 5 लाख रुपए हड़प लिए। पीड़ित ने अदालत के जरिए परिवाद से बोरखेड़ा थाने में धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराया है।

Read More: किस्त लेने के बाद भी नहीं बनवाएं शौचालय, अब होगी राशि वसूल

22 लाख 50 हजार रुपए में इकरारनामा किया

तलवंडी निवासी बिल्डर दीपक महेन्द्रा ने अदालत में पेश परिवाद में बताया कि बोरखेड़ा निवासी प्रोपर्टी डीलर विष्णु कुशवाह ने उनसे देवली अरब रोड स्थित एक दुकान को स्वयं का होना बताया। रुपयों की आवश्यकता होने पर उस दुकान को उन्हें बेचने का 22 लाख 50 हजार रुपए में इकरारनामा किया। जिसकी एवज में उसने 5 फरवरी 2016 को उनसे 5 लाख रुपए एडवांस भी ले लिए। शेष राशि दो माह बाद अदा करने पर उसकी रजिस्ट्री करवाने का भरोसा दिलाया। दो माह बाद जब वे विष्णु के पास गए तो उसने इसके लिए और समय चाहा।

Read More:समय की पटरी पर लौटने को तैयार नहीं 'कोटा पटना एक्सप्रेस'

मुकदमा दर्ज कर जांच करने के आदेश

बार-बार जाने पर वह टालमटोल करता रहा। इसके बाद जब उन्होंने जानकारी की तो पता चला कि उस दुकान का मालिक विष्णु नहीं वरन् मशरूल हसन है। विष्णु ने फर्जी दस्तावेज तैयार कर उस दुकान को स्वयं का बताकर उनसे धोखाधड़ी कर 5 लाख रुपए हड़प लिए। अब वह रुपए भी नहीं लौटा रहा है। अदालत ने परिवाद को बोरखेड़ा थाने में भेजकर मुकदमा दर्ज कर पुलिस को मामले की जांच करने के आदेश दिए हैं। पुलिस ने बताया कि अदालत से आए परिवाद पर धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर लिया है। मामले की जांच एएसआई कानसिंह को सौंपी गई है।

Read More: घबराएं हुए है पत्थर उद्यमी, कोटा ? स्टोन की चमक को मार्बल से खतरा

घायल मिले युवक की जयपुर में मौत

गुमानपुरा थाना क्षेत्र में 10 दिन पहले घायल मिले युवक की मंगलवार सुबह जयपुर में उपचार के दौरान मौत हो गई। खाई रोड नयापुरा निवासी प्रताप सिंह हाड़ा (25) 4 नवम्बर की देर रात को छावनी फ्लाई ओवर के नीचे घायल अवस्था में पड़ा हुआ था। जिसे एक युवती ने तलवंडी स्थित निजी अस्पताल में भर्ती कराया। जहां से उसकी तबीयत में सुधार नहीं होने पर जयपुर रैफर कर दिया गया था। युवक के चाचा देवेन्द्र सिंह ने बताया कि उपचार के दौरान मंगलवार सुबह प्रताप की जयपुर अस्पताल में मौत हो गई। परिजनों का आरोप है कि थाने में रिपोर्ट देने के बावजूद पुलिस ने अभी तक मामले में कोई कार्रवाई नहीं की। पुलिस ने उसे भर्ती कराने वाली युवती से पूछताछ तक नहीं की है। परिजनों का आरोप है कि पुलिस इसे हादसा मान रही है जबकि उसकी हत्या की गई है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned