आधा दर्जन कॉलोनियों में नहीं उतरा बारिश का पानी

कोटा शहर में हर वर्ष नगर निगम व नगर विकास न्यास की ओर से नालों की सफाई के नाम पर लाखों रुपए खर्च किए जाते हैं। बावजूद शहर में ऐसे कई नाले हैं, जिनकी सफाई नहीं होने से बारिश के दिनों में दर्जनों कॉलोनियां कई दिनों तक पानी से जलमग्न रहती है।

By: Haboo Lal Sharma

Published: 05 Sep 2020, 08:46 AM IST

कोटा. शहर में हर वर्ष नगर निगम व नगर विकास न्यास की ओर से नालों की सफाई के नाम पर लाखों रुपए खर्च किए जाते हैं। बावजूद शहर में ऐसे कई नाले हैं, जिनकी सफाई नहीं होने से बारिश के दिनों में दर्जनों कॉलोनियां कई दिनों तक पानी से जलमग्न रहती है। बोरखेड़ा, उद्योग नगर क्षेत्र में गुजर रहे नालों की सफाई नहीं होने से हर वर्ष यहां पानी भरता है। लेकिन नगर निगम की ओर से कागजी कार्रवाई में ही नालों की सफाई होती है। गुरुवार को एक घंटे हुई जमकर बारिश के बाद बोरखेड़ा क्षेत्र की आधा दर्जन कॉलोनियां दूसरे दिन शुक्रवार को जलमग्न रही। इसी तरह सूरसगार नाले का पानी कैथून रायपुरा रोड पर बहने से कैथून मार्ग बंद रहा।

Read More: कोटा मंडी भाव 04 सितम्बर: लहसुन के भावों में मंदी रही, थोक किराना बाजार में भाव स्थिर रहे

दूसरे दिन भी पानी की निकासी नहीं
बोरखेड़ा क्षेत्र की कौटिल्य नगर, बालाजी नगर, काशीधाम, श्री एनक्लेव व गणेश धाम कॉलोनिया जलमग्न हो गई। इन कॉलोनियों में दूसरे दिन शुक्रवार को भी एक से डेढ़ फीट पानी भरा रहा। कौटिल्य नगर निवासी दिनेश सलूजा व नरेन्द्र कुशवाह ने बताया कि बजरंगनगर से आ रहा नाला देवली अरब के पास डीसीएम नाले में मिलता है। बजरंगनगर से आ रहे नाले की सफाई की नगर निगम से पिछले कई वर्षों से मांग कर रहे है। लेकिन अधिकारियों की लापरवाही के चलते हर वर्ष बारिश के दिनों में कई दिन पानी के बीच गुजारने पर मजबूर होना पड़ रहा है। बालाजी नगर निवासी विजय सिंह हाड़ा ने बताया कि ये दोनों नालों का पानी देवली अरब से हनुवत खेड़ा जा रहे नाले में मिलता है। देवलीअरब से हनुवतखेड़ा तक नाले की कई वर्षों से सफाई नहीं हुई। ऐसे में पानी की आवक से यहां सभी कॉलोनियां जलमग्न हो जाती हैं। श्री एनक्लेव निवासी धनराज सुमन व काशीधाम निवासी बृजमोहन गुर्जर ने बताया कि बारिश में नाले का पानी ओवरफ्लो होने से डीसीएम से आर रहे नाले में रहने वाले मगरमच्छ पानी के साथ कॉलोनियों में आ जाते है। गुरुवार को भी काशीधाम के पास पानी में दो मगरमच्छ घूम रहे थे। इन मगरमच्छों के डर से जब तक पानी भरा रहता है घरों से बाहर भी नहीं निकलते।

कोटा शहर में एक घंटे में 3 इंच से अधिक बारिश ...देखिए तस्वीरें

नाले में अवरोधों से बंद हो जाता है कैथून माग
सूरसागर से निकलकर थेगड़ा जा रहे नाले में अवरोधों के चलते तेज बारिश में थेगड़ा रोड पर पानी की 2 से 3 फीट चादर चलने से मार्ग अवरुद्ध हो जाता है। गुरुवार को हुई बारिश में भी दोपहर 1 बजे से 4 बजे तक कैथून मार्ग अवरूद्ध रहा। स्थानीय निवासी महावीर मेघवाल ने बताया कि सूरसागर कॉलोनी में तो नाले चौड़ाई ठीक है, लेकिन थेगड़ा रोड के पास नाले में बड़ी-बड़ी चट्टानों का अवरोध बना हुआ है। साथ ही सड़क के नीचे पानी के निकास का स्थान भी छोटा होने से पानी सड़क के ऊपर से बहता है। सड़क के नीचे पानी का निकास बड़ा करने व पास ही नाले में अवरोध बनी चट्टानों को हटाने के लिए कई वर्षों से नगर निगम के चक्कर काट रहे हैं। स्थानीय विधायक से लेकर जिला प्रशासन तक इसकी शिकायत की जा चुकी। जिम्मेदार अधिकारियों की अनदेखी के चलते बारिश के दिनों में सूरसागर बस्ती सहित इस मार्ग से गुजरने वाले लोगों को काफी समस्या का सामना करना पड़ रहा है।

बड़ी लापरवाही: बिना दवा एक-एक दिन पॉजिव मरीजों की जान पर भारी

इनका कहना है
बजरंग नगर से बोरखेड़ा जा रहे नाले की सफाई तो 80 फीट रोड तक मैंने खड़े रहकर करवाई है। इससे आगे देवली अरब तक नाले की सफाई की या नहीं और सूरसागर नाले में हो रहे अतिक्रमण व सड़क पुलिया के नीचे पानी के निकास में आ रही बाधा को शीघ्र ही दूर किया जाएगा। - कीर्ति राठौड़, आयुक्त, नगर निगम कोटा दक्षिण

Haboo Lal Sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned