विविधता हमें जोड़ती है, तोड़ती नहीं है-बिरला

नई दिल्ली/अलीगढ़. लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि विविधता हमे जोड़ती है, हमें तोड़ती नहीं है। जातियों के बीच कटुता बढ़ाना देश को तोडऩे का काम है। वैश्य समाज ने देश को जोडऩे का काम किया है। बिरला ने यह बातें रविवार को उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में अखिल भारतीय वैश्य एकता परिषद के राष्ट्रीय अधिवेशन में कही।

By: Deepak Sharma

Updated: 07 Feb 2021, 10:01 PM IST

नई दिल्ली/अलीगढ़. लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि विविधता हमे जोड़ती है, हमें तोड़ती नहीं है। जातियों के बीच कटुता बढ़ाना देश को तोडऩे का काम है। वैश्य समाज ने देश को जोडऩे का काम किया है।
बिरला ने यह बातें रविवार को उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में अखिल भारतीय वैश्य एकता परिषद के राष्ट्रीय अधिवेशन में कही। उन्होंने कहा कि वैश्य समाज का राष्ट्र निर्माण में बड़ा योगदान रहा है। उद्योग और रोजगार सृजन के क्षेत्र में वैश्य समाज का योगदान संपूर्ण विश्व में विख्यात है। बिरला ने आजादी की लड़ाई में वैश्य समाज के योगदान को याद किया। उन्होंने कहा कि नए भारत के निर्माण में सबको सामूहिक रूप से सहयोग करना होगा। उद्योग-व्यापार के माध्यम से वैश्य समाज ने आत्मनिर्भर भारत की नींव रखी है। बिरला ने कहा कि हमारे पूर्वजों ने सदैव, सेवा, त्याग और समर्पण के भाव से काम किया और इसी कारण आज भी यही संस्कार हम में भी हैं।

विविधता हमें जोड़ती है, तोड़ती नहीं है-बिरला

बिरला ने कहा कि शिक्षा और समाज कल्याण के क्षेत्र में अग्रणी भूमिका निभाने वाले वैश्य समाज ने गांव गांव में शिक्षा के मंदिर बनवाए, धर्मशालाएं बनवाई, अस्पताल खोले। उन्होंने कहा कि महामारी के समय में भी देश ने अपनी सामूहिकता और संकल्प की शक्ति के आधार पर दुनिया के सामने इस चुनौती को सामना किया और इस चुनौती के समय में वैश्य समाज ने अग्रणी भूमिका निभाई। यह सिद्ध हो गया कि संपूर्ण देश एक है और यह देश हर चुनौती का सामूहिक रूप से मुकाबला करेगा।

Deepak Sharma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned