OMG! मौत के बाद आ रही है स्वाइन फ्लू की जांच रिपोर्ट

स्वाइन फ्लू के लगातार मौत होने के बावजूद स्वास्थ्य विभाग खासी लापरवाही बरत रहा है। जांच कराने वालों को 48 घंटे बाद रिपोर्ट दी जा रही है।

By: ​Vineet singh

Published: 11 Sep 2017, 03:17 PM IST

कोटा में स्वाइन फ्लू और डेंगू का कहर जारी है, लेकिन स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही खत्म होने का नाम नहीं ले रही। लगातार मरीजों की संख्या बढ़ने से हाथों-हाथ रिपोर्ट नहीं मिल पा रही है। जिसके चलते कलक्टर ने जांच नमूने जयपुर भेजने के आदेश दिए थे, लेकिन उन पर अब तक अमल नहीं हुआ। एेसे में नए अस्पताल में बनी बायो लैब में सेम्पल जांच का कार्यभार बढ़ गया है। जिसके चलते 48 घंटों में मरीजों को रिपोर्ट मिल रही है। एेसे में चिकित्सक लक्षणों के आधार पर ही दवा लिख रहे हैं और सही समय पर सटीक इलाज शुरू नहीं हो पा रहा है।

 

कलक्टर का आदेश भी टाला
स्वाइन फ्लू के मरीजों की संख्या बढ़ने के बाद जिला कलक्टर रोहित गुप्ता ने सीएमएचओ को स्वाइन फ्लू के सैम्पल जयपुर भेजने के आदेश दिया था। इसके लिए बकायदा एक कार्मिक भी लगाया गया था, जिसे सेम्पल जयपुर लाने व ले जाने थे। सीएमएचओ ऑफिस से तीन दिन तो जयपुर सेम्पल भेजे गए, लेकिन उसके बाद अचानक सेम्पल भेजना बंद कर दिया। इस कारण नए अस्पताल में बनी लैब में कार्यभार बढ़ गया। यहां प्रतिदिन दोगुने सेम्पल हो रहे हैं, जबकि यहां छोटी मशीन लगी है। यह एक राउंड में 12 सेम्पलों की जांच करती है। यह दिन में दो बार राउंड में 24 सेम्पलों की ही जांच हो पाती है। जबकि प्रतिदिन 50 सेम्पल जांच के लिए पहुंच रहे हैं। एेसे में जांच रिपोर्ट देरी से मिल रही है और मरीजों को समय पर इलाज नहीं मिल पा रहा है। 

Read More: वार्ड में रखा था नया वेंटीलेटर, डाक्टरों को दिखाई ही नहीं दिया, मरीज की मौत

मरने के बाद मिल रही रिपोर्ट

लैब में कार्यभार बढऩे से 48 घंटे में रिपोर्ट मिल रही है। सुल्तानपुर क्षेत्र के सारोला गांव निवासी एक युवती की शुक्रवार सुबह 11 बजे भर्ती कराया गया था। उस समय स्वाब का सैम्पल लिया, लेकिन लेकिन शाम को उसकी मौत हो गई। रविवार को मृतका की स्वाइन फ्लू पॉजीटिव रिपोर्ट आई है। रविवार को कोटा के 3, बूंदी के 2 व झालावाड़ का 1 मरीज स्वाइन फ्लू पॉजीटिव आया है। वहीं डेंगू के 7 व बूंदी का 1 मरीज सामने आए है।

Read More:बाबा रामदेवरा के जागरण में घुसा लोडिंग टेम्पो, दो की मौत एक घायल

एक दूसरे के सिर फोड़ा ठीकरा

इस मामले में जब सीएमएचओ डॉ. अनिल कौशिक से बात की गई तो उन्होंने बताया कि नए हॉस्पिटल की लैब से सेम्पल नहीं आ रहे है। इस कारण सेम्पल जयपुर नहीं भेजे जा रहे है। यदि सेम्पल आते हैं तो जरूर जयपुर भेजे जाएंगे, लेकिन जब नए हॉस्पिटल के अधीक्षक डॉ. देवेंद्र विजयवर्गीय से बात की गई तो उन्होंने सीएमएचओ को आरोपों को झूठा बताते हुए कहा कि सीएमएचओ ऑफिस से जयपुर गाड़ी जाना बंद हो गई है। इस कारण सेम्पल नहीं भेज रहे है। शायद जयपुर ने सेम्पल लेने से मना कर दिया।

Show More
​Vineet singh
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned