सिग्नल लाइटें कंट्रोल नहीं कर पाई कोटा का ट्रेफिक, एरोड्राम से झालावाड़ रोड तक वाहनों की लग रही लंबी कतार

सिग्नल लाइटें कंट्रोल नहीं कर पाई कोटा का ट्रेफिक, एरोड्राम से झालावाड़ रोड तक वाहनों की लग रही लंबी कतार

Zuber Khan | Publish: Mar, 14 2018 11:47:02 AM (IST) | Updated: Mar, 14 2018 11:48:31 AM (IST) Kota, Rajasthan, India

शहर के मध्य व सबसे व्यस्त एरोड्राम चौराहे पर यातायात सुगम बनाने व जाम से मुक्ति के लिए सिग्नल लाइटें लगाई गई थीं।

कोटा . शहर के मध्य व सबसे व्यस्त एरोड्राम चौराहे पर यातायात सुगम बनाने व जाम से मुक्ति के लिए सिग्नल लाइटें लगाई गई थीं। यह सिग्नल लाइटें अभी तक शुरू नहीं हुई और न ही यहां जाम से मुक्ति मिली। सिग्नल लाइटें तो ट्रॉयल में ही फेल साबित हो रही हैं। हाल यह है कि अभी भी यातायत पुलिसकर्मी सुबह से शाम तक यातायात संभालने के लिए हाथ-पैर मार रहे हैं। बावजूद इसके चौराहे पर वाहनों की कतारे खत्म नहीं हो रही। एरोड्राम चौराहे से रावतभाटा से लेकर झालावाड़ तक जाने वाले हजारों वाहन रोजाना निकलते हैं।

Read More: आज देखिए रणथम्भौर के टाइगर्स की दादी की कहानी, शाम को दिखाई जाएगी मछली


एक साथ निकलने वाले वाहनों के कारण यहां दिनभर में कई बार जाम लगता है। इस जाम से मुक्ति पाने के लिए यहां अन्य चौराहों की तरह ही कुछ समय पहले सिग्नल लाइटें लगाई गई। ट्रेफिक पुलिस के सर्वे व अनुशंसा के बाद नगर विकास न्यास द्वारा यहां सिग्नल लाइटें लगा तो दी, लेकिन शुरू नहीं किया गया। यातायात पुलिसकर्मियों के प्रयासों के बाद भी यहां दिनभर में लगने वाले जाम से मुक्ति नहीं मिल रही। जाम भी ऐसा कि वाहनों की कतारें काफी दूर तक नजर आती हैं। वाहन रैंगकर निकलते है। ऐसे में यदि हवाई अड्डे के सामने स्थित मैरिज गार्डनों में विवाह समारोह का आयोजन हो और कोई बारात सड़क तक आ जाए तो समझा लम्बा जाम लग गया।

Read More: "लो जी! तबादलों से बैन हटते ही याद आ गए बूढ़े मां-बाप, पहले दिन ही विधायकों के पास लगा अर्जियों का ढेर

15 से अधिक सिपाही, सभी प्रयास फेल
एरोड्राम चौराहे पर यातायात सुधारने के लिए ट्रेफिक पुलिस की ओर से सभी तरह के प्रयास किए जा चुके, लेकिन कारगर नहीं रहे। झालावाड़ की तरफ जाने वाले बसों की बुकिंग विंडों हटाने से लेकर सीएडी से कोटड़ी की तरफ जाने वाले वाहनों के लिए स्लीप लेन को बड़ा करने के बाद भी यहां जाम से मुक्ति नहीं मिल रही। चौराहे पर इन दिनों 15 से अधिक सिपाही दिन-रात व्यवस्था संभालने में लगे हैं। यह मेनुअल ही यातायात को संभाल रहे हैं।

Read More: सावधान! कोटा के इन स्कूलों में हर पल मौत का खतरा, जोखिम में है बच्चों की जान

यातायात उप अधीक्षक श्योराजमल मीणा ने बताया कि एरोड्राम चौराहे पर लगी सिग्नल लाइटों का दो-तीन बार ट्रायल किया जा चुका है। ट्रायल के दौरान ही यहां चारों तरफ जाम लगने लगा है। अभी तक के अनुमान के अनुसार यह चौराहा बड़ा होने से यहां सिग्नल लाइटें उतनी कामयाब नहीं हो रही हैं जितना सोचा था। इसी कारण से अभी इसे शुरू करने में समय लग रहा है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned