बसपा में फिर हुआ विवाद, लगे नोट के बदले टिकट बांटने के आरोप

बसपा कार्यालय पर जमकर विरोध-प्रदर्शन कर प्रत्याशी के खिलाफ नारेबाजी की गई।

By: Laxmi Narayan

Updated: 09 Nov 2017, 05:46 PM IST

ललितपुर. निकाय चुनाव में मजबूती के साथ उपस्थिति दर्ज कराने के मकसद से मैदान में उत्तरी बहुजन समाज पार्टी के कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों में टिकट वितरण को लेकर अंतर्कलह सामने आने लगे हैं। ताजा मामला ललितपुर जनपद का है। यहां बसपा के कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों ने पार्टी पर गंभीर आरोप लगाते हुए बगावत कर दी है और पार्टी के प्रत्याशी के खिलाफ चुनाव मैदान में उतरने का ऐलान कर दिया है।

घोषित प्रत्याशी के खिलाफ प्रदर्शन

मनमोहन जड़िया को पार्टी का ललितपुर नगर पालिका अध्यक्ष पद का प्रत्याशी बनाये जाने के बाद पार्टी के कई पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने गंभीर आरोप लगाए हैं। कार्यकर्ताओं में जड़िया के टिकट को लेकर आक्रोश भी देखने को मिला। जिला बसपा कार्यालय पर जमकर विरोध-प्रदर्शन कर प्रत्याशी के खिलाफ नारेबाजी भी की गई।बताया जा रहा है कि इस सीट पर चुनाव के लिए कई वरिष्ठ कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों ने आवेदन किये थे, लेकिन उन्हें दरकिनार कर दिया गया।

रूपये लेकर टिकट बांटने का आरोप

बसपा महिला प्रकोष्ठ व जिला संगठन मंत्री शीला वर्मा और पार्टी कार्यकर्ता द्रोपदी अहिरवार ने आरोप लगाया कि बसपा जिला अध्यक्ष कैलाश कुशवाहा व जिला प्रभारी मोहन लाल रायकवार व जोन कोआर्डिनेटर लाला राम सहित अन्य वरिष्ठ कार्यकर्ताओ ने नामित प्रत्याशी मनमोहन जड़िया से रुपए लेकर पार्टी से टिकट दिलवाया।आरोप है कि जनपद के सभी 26 वार्डों में ऐसे प्रत्याशियो को टिकट दिया गया जिनका पार्टी से कोई लेना देना नहीं रहा है।

पार्टी ने आरोपों का किया खंडन

बसपा कार्यकर्ताओं के बीच की यह गुटबाजी फिलहाल प्रदेश मुख्यालय तक पहुंच गई है। बसपा जिलाध्यक्ष कैलाश कुशवाहा ने आरोपों को निराधार बताया है। उन्होंने कहा कि सारे घटनाक्रम की जानकारी पार्टी मुख्यालय को भेजी गई है।

यह भी पढ़ें - बोले यूपी के खौफजदा सांसद - मुझ पर चल रही थी गोलियां, पुलिस संभाल रही थी टोपी

यह भी पढ़ें - राहुल गाँधी को स्मृति ईरानी का जवाब, बोलीं - गांधी परिवार के लिए बड़ी ट्रैजडी थी नोटबंदी

Laxmi Narayan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned