कोविड काल में लगातार मजबूत हो रहा है रियल एस्टेट: डॉ. केवी सतीश

कोविड काल में रियल एस्टेट में सुधार देखने को मिला है। खरीदारों की इंक्वायरी बढ़ रही है। रियल एस्टेट में नॉर्मलेसी आ गई है। रियल एस्टेट का कारोबार अब प्री-कोविड लेवल पर आ गया है।

By: Saurabh Sharma

Updated: 01 May 2021, 12:53 PM IST

नई दिल्ली। कोविड काल में रियल एस्टेट में सुधार देखने को मिला है। खरीदारों की इंक्वायरी बढ़ रही है। रियल एस्टेट में नॉर्मलेसी आ गई है। रियल एस्टेट का कारोबार अब प्री-कोविड लेवल पर आ गया है। मौजूदा समय में कोविड 19 का दूसरा वेव चल रहा है। रियल एस्टेट में इसकी नई चुनौती सामने हैं। मामले लगातार बढ़ रहे हैं। उसके बाद भी सेक्टर में तेजी देखने को मिल सकती है। यह कहना है डीएस-मैक्स प्रॉपर्टीज प्राइवेट लिमिटेड के फाउंडर और चेयरमैन डॉ. केवी सतीश का। आइए आपको भी बताते हैं कि केवी सतीश के बारे में।

मिसाल बनकर सामने आए
डॉ. केवी सतीश अपनी काबलियत से करोड़ों लोगों के लिए एक मिसाल बनकर सामने आए हैं। एक लीडर के रूप में उन्होंने यह साबित कर दिया है कि एक अच्छा लीडर वहीं होता है, जो अधिक-से-अधिक लीडर बनाने में विश्वास रखता है न कि खुद के फॉलोवर्स बढ़ाने में। वहीं, कोई भी लीडर अपने जीवन में होने वाले हर उतार-चढ़ाव को पार कर दूसरों को भी उन बाधाओं से लडऩे की प्रेरणा देता है। सबसे दिलचस्प बात तो यह है कि एक सक्सेसफुल पर्सन होने के बाद भी डॉ सतीश का नेचर बेहद ही डाउन-टू-अर्थ है। जी हां, हमारे साथ एक इंटरव्यू के दौरान जब उनसे बात हुई तब हम लोग उनके अंदर उनके काम के प्रति ज़ुनून को देख कर काफी हैरान रह गए।

satish.jpeg

2007 में की थी शुरुआत
डॉ. सतीश ने किसी भी सपोर्ट सिस्टम के बिना साल 2007 में बेंगलुरु में रियल्टी और डेवलपर्स के बिजऩेस में कदम रखा। वहीं, एक समय बाद जब उन्हें इस क्षेत्र में काम करना काफी जोखिम लगा, तो बिना हार मानें उन्होंने अपने कुछ साथियों के साथ मिलकर एक छोटा सा ऑफिस खोला। इसके साथ अपने सपनों को भी उड़ान दी। इस दौरान उन्होंने हर मिडिल-क्लास परिवार के लिए एक घर और खुद की सुरक्षा की आवश्यकता देखी। खासकर, यहां उनके विजऩ में यह एक महत्वपूर्ण मकसद बन गया था, जिसे पूरा करने के लिए उन्होंने स्क्रैच से एक टीम बनाई। उस टीम में उन लोगों को भर्ती किया, जो अपने एक्सपेरिएंस और जुनून के साथ उनके साथ काम करना चाहते थे।

कुछ ऐसे शुरू किया काम
साल 2008 में, उन्होंने अपना पहला प्रोजेक्ट लॉन्च किया। इस दौरान एक मल्टीस्टोरीड अपार्टमेंट में उन्होंने अपना काम शुरू किया। उनकी कंपनी से 500+ एम्प्लॉई जुड़ें, जहां उन्होंने 100+ प्रोजेक्ट्स को पूरा किया। साथ ही, पाइपलाइन में 60 के साथ, 20000+ परिवारों के लिए भी घर बनवाया। वो भी यह सब एक दशक के अंदर। हम यूं कहें तो यह सब एक विशनरी लीडर और बेहतर टीम के बिना बिलकुल भी संभव नहीं हो सकता था।

अपने इंप्लॉई के सीधा संवाद
क्या आप जानते हैं कि डॉ. सतीश की कंपनी में शामिल होने वाले हर एम्प्लॉई के लिए स्टीयरिंग व्हील एक मोटीवेट फैक्टर रहा है। यहीं नहीं डॉ. सतीश एक कॉर्पोरेट कंपनी के एकमात्र ऐसे अध्यक्ष हैं, जो अपनी कंपनी में जॉइन करने वाले हर एम्प्लॉई से मिलते हैं। कहीं न कहीं यह उनके और एम्प्लॉई के बीच एक अच्छा रिश्ता डेवेलप करता है, जो दूसरों को एक प्रेरणा देता है। साथ ही, डॉ. सतीश न सिर्फ जॉइनिंग वाले दिन, बल्कि हर वीकेंड अपने एम्प्लॉई से मिलकर उन्हें मोटीवेट करते रहते हैं। कई कंपनियों में कुछ एम्प्लॉई को अपने सीईओ से बात करने के लिए काफी प्रयास करना पड़ता है। मगर, डॉ. सतीश की कंपनी में प्रत्येक एम्प्लॉई अपने सीईओ से मिलकर डायरेक्ट बात कर सकता है। इस रिलेशन को डेवेलप करने पर डॉ. सतीश कहते हैं, "मैं अपने एम्प्लॉई की फीलिंग की कदर करता हूं। इसिलए, मैं उन्हें डीएस-मैक्स का सदस्य मानता हूँ।"

ये है उपलब्धियां
कंपनी को रियल एस्टेट डेवलपर ऑफ द ईयर (बैंगलोर, इमर्जिंग डेवलपर ऑफ द ईयर, आर्च ऑफ एक्सीलेंस अवार्ड, ग्लोब एचीवर्स अवार्ड फॉर यंग इन्टरप्रेन्योर, इंडिविजुअल कॉन्ट्रिब्यूशन फॉर इंटरनेशनल इंटीग्रेशन, इंकं. इंडिया 500 सर्टिफिकेट ऑफ एक्सीलेंस) अवार्ड से सम्मानित किया गया है। वहीं, डीएस-मैक्स प्रॉपर्टीज़ लिस्टेड इन इंक. इंडिया में 500 में से सर्टिफाइड सबसे तेज बढ़ती कंपनियों में भी शामिल किया गया है, जिसमें "फास्टेस्ट ग्रोइंग इंडियन कंस्ट्रक्शन कंपनी एक्सीलेंस अवार्ड (बैंकॉक)" नामांकित है। साथ ही, कंपनी को उत्कृष्ट उपलब्धियों के लिए भारत गौरव नेशनल अवार्ड (बेस्ट एम्प्लॉयर ऑफ़ द ईयर) और मोस्ट इंटरप्रिसिंग सीईओ ऑफ ईयर जैसे कई और अवार्ड से सम्मानित किया गया है

covid 19 India
Saurabh Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned