Anil Ambani के Head Office पर कब्जा करेगा यह बैंक, 2900 करोड़ के Loan Default का है मामला

  • Yes Bank की ओर से ADAG Haed Office पर कब्जे के लिए भेजा अनिल अंबानी को नोटिस
  • ADAG पर Yes Bank का करीब 12000 करोड़ रुपए का है कर्ज, पहले दो महीने का दिया था नोटिस

By: Saurabh Sharma

Updated: 30 Jul 2020, 01:13 PM IST

नई दिल्ली। यस बैंक ( Yes Bank ) ने अपने सबसे बड़े कस्टमर में से एक रहे अनिल अंबानी ( Anil Ambani ) पर बड़ी कार्रवाई की है। अब यस बैंक प्रबंधन अनिल धीरूभाई अंबानी ग्रुप ( Anil Dhirubhai Ambani Group ) के हेडक्वार्टर पर कब्जा करने का नोटिस भेज दिया है। वहीं बैंक ने कंपनी के दो और दफ्तरों के लिए भी यही नोटिस जारी किया है। इससे पहले बैंक की ओर से करीब 2900 करोड़ रुपए का बकाया लोन चुकाने का नोटिस जारी किया था। रुपया ना मिलने पर यह कार्रवाई की है। वैसे अनिल अंबानी पर बैंक का 12 हजार रुपए का कर्ज है।

यह भी पढ़ेंः- 9 दिन के बाद Gold हुआ सस्ता, जानिए Silver Price में गिरावट

आरआईएल इंफ्रा पर है मोटा कर्ज
यस बैंक द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार अनिल अंबानी की रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर को 2892 करोड़ रुपए का कर्ज दिया था। जिसकी रिकवरी के लिए यह प्रोसेस फॉलो किया जा रहा है। बैंक ने रिलायंस के नागिन महल स्थित ऑफिस के दो फ्लोर को अपने कब्जे में ले लिए हैं। बैंक को इस तरह के अधिकार मिले हुए हैं कि वो डिफॉल्टर के असेट को अपने कब्जे में लेकर उसकी बिक्री करे और अपने कर्ज की रकम को पूरा करे।

यह भी पढ़ेंः- RIL Q1 Result : Jio के मुनाफे में हो सकता है इजाफा, ओटूसी कारोबार से मिल सकता है झटका

बैंक की ओर से जारी किया था नोटिस
यस बैंक संकट के बारे में हर किसी को पता है और उस बैड लोन का भी बोझ है। ऐसे में उसे रुपए की जरुरत है। इसी जरुरत को पूरा करने के लिए रिकवरी में तेजी दिखा रहा है। एडीएजी पर बैंक का करीब 12 हजार करोड़ रुपए बकाया है। बैंक की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार उन्होंने कंपनी को दो महीने पहले नोटिस जारी किया था। जिसकी सीमा 5 मई को खत्म हो चुकी थी। कंपनी के रीपेमेंट फेल्योर होने के कारण बैंक ने एसएआरएफएईएसआई एक्स 2002 के तहत कार्रवाई की है।

यह भी पढ़ेंः- SEBI की कंपनियों को राहत, Q1 Results की समयसीमा 15 सितंबर तक बढ़ाई

एसबीआई की भी है नजर
वहीं दूसरी ओर एसबीआई की भी नजरें अनिल अंबानी की प्रॉपर्टी पर है। विदेशी बैंकों का कर्ज लौटाने के लिए लंदन की कोर्ट पहले ही अनिल अंबानी को कह चुकी है। ऐसे में यस बैंक की कार्रवाई अनिल अंबानी के लिए काफी मुश्किलें बढ़ाने वाली हैं। इससे पहले एस्सेल ग्रुप के मामले में उनके जेल जाने तक की नौबत आ गई थी। सुुप्रीम कोर्ट के आदेश के तहत उन्हें 550 करोड़ रुपए चुकाने थे। तब बड़े भाई मुकेश अंबानी ने आगे आकर मौके पर उनकी मदद की थी।

Show More
Saurabh Sharma Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned