ज़रूरी मीटिंग में राजनेता नहीं कर सकेंगे मोबाइल का इस्तेमाल एआइ रखेगी नजर

सरकारी कर्मचारी, नौकरशाह और राजनेता प्रशासनिक मीटिंग में अपने स्मार्टफोन पर कितना समय बिताते हैं, इसकी पूरी जानकारी रखती है यह मशीन लर्निंग प्रणाली

By: Mohmad Imran

Published: 13 Jul 2021, 01:00 PM IST

बेल्जियम (Belgium) के एक अनजान व्यक्ति ने ऐसा एआइ सिस्टम (artificial intelligence या कृत्रिम बुद्धिमत्ता) विकसित की है जो सरकारी बैठकों में गवर्नमेंट अधिकारियों और राजनेताओं द्वारा उनके मोबाइल पर बिताए जाने वाले समय को न केवल फीसदी में मापता है बल्कि सरेआम अपने सोशल मीडिया अकाउंट @TheFlemishScrollers (social media) पर उन्हें शर्मिन्दा भी करता है। 'ड्राइज डीपूर्टर' (Dries Depoorter) नाम के इस टूल को बनाने का विचार संभवत: दो साल पहले फ्लेमिश मंत्री-राष्ट्रपति, जान जंबोनी की उस हरकत के बाद आया होगा जब वे एक महत्त्वपूर्ण सरकारी बैठक में एंग्री बर्ड्स गेम खेलते हुए पकड़े गए थे।

ज़रूरी मीटिंग में राजनेता नहीं कर सकेंगे मोबाइल का इस्तेमाल एआइ रखेगी नजर

सिर्फ मोबाइल यूज़र्स पर रखता नज़र
यह टूल राजनेताओं और सरकारी अधिकारियों के काम के समय मोबाइल उपयोग के प्रतिशत को 'द फ्लेमिश स्क्रॉलर्स' ट्विटर अकाउंट पर सार्वजनिक रूप से टैग कर पब्लिक के सामने उन्हें बेनकाब भी करता है। गौरतलब है कि, मशीन लर्निंग प्रोग्राम केवल मोबाइल पर सिर झुकाए अधिकारियों और मंत्रियों की ही पहचान करता है। अगर कोई अपने लैपटॉप याय टैबलेट को देख रहा है तो सिस्टम उसे नजरअंदाज कर देता है।

ज़रूरी मीटिंग में राजनेता नहीं कर सकेंगे मोबाइल का इस्तेमाल एआइ रखेगी नजर

ऐसे पकड़ता है कामचोरी
मोबाइल उपयोग को देखने के लिए प्रोग्राम एआइ की मदद से बैठकों के सीधा प्रसारण, यूट्यूब पर उपलब्ध वीडियो और सोशल मीडिया से डाटा संग्रहीत करता है। विरोध जताने पर अकाउंट से उन्हें अपने काम पर ध्यान देने की हिदायत भी आती है।

ज़रूरी मीटिंग में राजनेता नहीं कर सकेंगे मोबाइल का इस्तेमाल एआइ रखेगी नजर
Show More
Mohmad Imran
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned