डेबिट कार्ड का इस्तेमाल करते वक्त भूलकर भी न करें ये गलतियां, नहीं तो बैंक अकाउंट हो सकता है साफ

  • कई बार हम डेबिट कार्ड को यूज करते वक्त ऐसी गलतियां कर देते हैं, जिनका फायदा हैकर्स उठा लेते हैं।
  • हैकर्स या साइबर क्रिमिनल्स लोगों के कार्ड की जानकारी हासिल कर उनके अकाउंट में सेंध लगा देते हैं।

By: Mahendra Yadav

Published: 24 Feb 2021, 10:11 PM IST

आजकल ऑनलाइन फ्रॉड और साइबर क्राइम की घटनाएं बढ़ गई हैं। कई बार खबरें आती हैं कि हैकर्स या साइबर क्रिमिनल्स लोगों के अकाउंट में सेंध लगा देते हैं। वे लोगों के डेबिट कार्ड की जानकारी हासिल कर लेते हैं और उनके अकाउंट को साफ कर देते हैं। वैसे भी कोरोना की वजह से डिजिटल ट्रांजेक्शन बढ़ गया है। ऐसे में डेबिट कार्ड के डेटा को सुरक्षित रखना जरूरी हो गया है। कई बार हम डेबिट कार्ड को यूज करते वक्त ऐसी गलतियां कर देते हैं, जिनका फायदा हैकर्स उठा लेते हैं। हम आपको कुछ ऐसे टिप्स बताने जा रहे हैं, जिनसे आप अपने डेबिट कार्ड को सुरक्षित रख सकते हैं और ऑनलाइन फ्रॉड से बच सकते हैं।

डेबिट कार्ड की जानकारी ऑटोफिल न करें
कई बार हम ऑनलाइन कुछ ऑर्डर करने के लिए अपने डेबिट कार्ड का इस्तेमाल करते हैं। ऐसे में हम उस वेबसाइट पर जब अपने डेबिट कार्ड की जानकारी डालते हैं तो उसे ऑटोफिल न करके रखें। ध्यान रखें कि ट्रांजेक्शन की जल्दबाजी में अपने कार्ड की जानकारी वेबसाइट या ऐप्स पर सेव न करें। कई बार इनको एक्सेस करने के लिए हैकर को सिर्फ ओटीपी की जरूरत होती है और इसके चलते आपका कार्ड काफी अनसेफ हो जाता है

फ्री वाई—फाई के इस्तेमाल में रखें ध्यान
पब्लिक या फ्री वाई—फाई का इस्तेमाल करते समय ध्यान रखें। फ्री वाई—फाई का इस्तेमाल करते समय किसी लेन—देन के लिए अपने डेबिट कार्ड का इस्तेमाल न करें। इसके साथ ही अपने कार्ड की फोटो को सोशल मीडिया पर भूलकर भी पोस्ट न करें। हैकर्स या क्रिमिनल्स आपके कार्ड की फोटो के जरिए आसानी से डिटेल्स हासिल कर सकते हैं।

ब्राउजर की कैशे मेमोरी को डिलीट कर दें
ध्यान रहे कि सिर्फ सुरक्षित और विश्वसनीय वेबसाइट पर ही अपने कार्ड के जरिए ट्रांजेक्शन करें। साथ ही इस बात का भी विशेष ध्यान रखें कि हर बार ट्रांजेक्शन करने के बाद ब्राउजर की कैशे मेमोरी को डिलीट कर दें।

hackers.png

पिन कोड बदलते रहें
अपने डेबिट कार्ड का पिन नंबर समय—समय पर बदलते रहना चाहिए। इसके अलावा जब भी आप ऑनलाइन बैंकिग, नेट बैंकिग, मोबाइल बैंकिंग काम में लें तो काम हो जाने पर हमेशा लॉगआउट करें। विंडो को डायरेक्ट बंद न करें क्योंकी कई बार विंडो डायरेक्ट बंद करने पर वह हिस्ट्री में चलता रहता है।

डिटेल्स शेयर न करें
बैंक अपने यूजर्स को समय—समय पर आगाह करते रहते हैं कि अपने कार्ड की डिटेल्स किसी के भी साथ शेयर नहीं करनी चाहिए। ऐसे में किसी को भी अपने कार्ड की संख्या, सीवीवी, एक्सपायरी और ओटीपी की जानकारी न दें। कई बार फ्रॉडस्टर बैंक के कर्मचारी बनकर बात करते हैं और लोगों को झांसे में लेकर उनके कार्ड की डिटेल्स हासिल कर उनके बैंक अकाउंट को साफ कर देते हैं।

Mahendra Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned