किसानों के लिए लांच हुआ सीएनजी ट्रैक्टर, डेढ़ लाख रुपए बढ़ेगी सालाना इनकम, जानें खूबियां

- सीएनजी ट्रैक्टर के जरिए किसानों को खेती में कम आएगी लागत
- ग्रामीण इलाकों में रोजगार के अवसर होंगे तैयार

By: Neeraj Patel

Updated: 13 Feb 2021, 11:37 AM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
लखनऊ. उत्तर प्रदेश समेत देशभर के किसानों को ईंधन पर बचत के लिए केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने 12 फरवरी दिन शुक्रवार को देश का पहला सीएनजी ट्रैक्टर (CNG Tractor) लांच किया। इस ट्रैक्टर के माध्यम से यूपी समेत अन्य राज्यों के किसान ट्रैक्टर में खर्च होने वाले ईंधन में सालाना डेढ़ लाख रुपए तक बचत कर सकेंगे। सीएनजी ट्रैक्टर (CNG Tractor) लांच करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सीएनजी ट्रैक्टर विभाग के स्टैंडर्ड निश्चित किए गए हैं और इसका सर्टिफिकेशन भी किया गया है। इसके बाद अब देश का कोई भी मैनुफैक्चरर उस स्टैंडर्ड का इस्तेमाल कर ट्रैक्टर बना सकता है और मार्केट में ला सकता है। देश के पहले सीएनजी ट्रैक्टर की लांचिंग के मौके पर केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, नरेंद्र सिंह तोमर, पुरुषोत्तम रुपला और वीके सिंह भी उपस्थित रहे।

अभी तक डीजल से चलने वाले ट्रैक्टरों से किसान खेती करते चले आ रहे है। लेकिन अब यूपी समेत देश के सभी राज्यों के किसान सीएनजी से चलने वाले ट्रैक्टर से खेती कर सकेंगे। जिससे किसानों को ईंधन में बड़ी बचत होगी। डीजल से चलने वाले ट्रैक्टर को सीएनजी से चलने वाले ट्रैक्टर में बदलने के लिए रावमट टेक्नो सॉल्यूशंस (Rawmatt Techno Solutions) और टॉमासेटो अचीले इंडिया (Tomasetto Achille India) ने मिलकर काम किया है। इस ट्रैक्टर के जरिए किसानों को खेती में कम लागत आएगी। जिससे उनकी आय बढ़ोत्तरी होगी।

इसके अलावा उत्तर प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में रोजगार के अवसर भी तैयार होंगे। सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय का दावा है कि इससे किसानों को ईंधन पर सालाना 1 लाख रुपए तक की बचत होगी, जिससे उनकी आजीविका में सुधार होगा और किसानों की हर साल की इनकम भी बढ़ जाएगी। सीएनजी ट्रैक्टर से खेती करने पर किसानों को ज्यादा बचत होगी, यानि तेल पर किसानों को अधिक बचत होगी, क्योंकि वर्तमान में डीजल की तुलना में सीएनजी की कीमत लगभग आधी है।

सीएनजी ट्रैक्टर की खूबियां

सीएनजी ट्रैक्टर इकोनॉमिकल है क्योंकि इसका इंजन लंबे समय तक चलता रहेगा और इसमें मेंटेनेंस की भी जरूरत ज्यादा जरूरत नहीं पड़ेगी। ट्रैक्टरों के लिए सीएनजी टेक्नोलॉजी (CNG Technology) डीज़ल की तुलना में 85 फ़ीसदी कम प्रदूषण करेगा। तेल पर किसानों को बचत अधिक होगी क्योंकि डीजल की तुलना में सीएनजी की कीमत वर्तमान में लगभग आधी है। किसानों को ईंधन पर करीब सालाना 1.5 लाख रुपए तक की बचत होगी। यह सस्ता भी पड़ेगा क्योंकि घटते-बढ़ते डीजल की तुलना में सीएनजी के भाव लगभग स्थिर रहेंगे। सीएनजी से चलने के कारण इसका माइलेज भी अधिक होगा। सीएनजी टैंक्टर की टाइट सीलिंग के कारण यह अधिक सुरक्षित है और रिफ्यूलिंग के दौरान इसके फटने की संभावना भी बहुत कम है।

Neeraj Patel
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned