scripthow Artificial Intelligence became the new weapon of criminals, take c | आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस इस तरह बना अपराधियों का नया हथियार, इन सावधानियों का रखे ख्याल | Patrika News

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस इस तरह बना अपराधियों का नया हथियार, इन सावधानियों का रखे ख्याल

locationलखनऊPublished: Dec 19, 2023 12:27:06 pm

Submitted by:

Markandey Pandey

नई-नई तकनीक इजाद हो रही हैं, उसी तरह फ्रॉड के नए- नए तरीके भी इजाद होते जा रहे हैं। राजधानी में पहले ही कई तरह के फ्रॉड चल रहे हैं, लेकिन अब नए तरीके का फ्रॉड प्रचलन में है और यह है ऑर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) की मदद से होने वाला वॉइस क्लोनिंग फ्रॉड।

fraud.jpg
अब नए तरीके का फ्रॉड प्रचलन में है और यह है ऑर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) की मदद से होने वाला वॉइस क्लोनिंग फ्रॉड।
UP News: गोमतीनगर थाना क्षेत्र में पहली बार इस तरह का मामला सामने आया है। यहां एक युवक से जालसाजों ने उसके मामा बनकर 90 हजार रुपये की चपत लगा दीमामले का खुलासा होने पर गोमतीनगर थाना पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ केस दर्जकर जांच शुरू कर दी है।
गोमतीनगर थाना क्षेत्र के विनीत खंड में रहने वाले कार्तिकेय ने बताया कि उनके मोबाइल पर एक अंजान नंबर से फोन आया। शख्स ने कहा कि उसे सहायता चाहिए, पूछने पर उसने बताया कि मैं मामा बोल रहा हूँ, आवाज भी मामा की तरह लग रही थी, उसने कहा कि 90 हजार रुपये भेज रहे हैं। किसी जानने वाले को भेजना है, मेरे यूपीआई से पूरे पैसे नहीं जा रहे है। इसके बाद उसने बैंक के मैसेज की नकल बना कर मेरे नंबर पर एसएमएस की और कई बार में इसका मैसेज आया।
यह भी पढ़ें

जूते में कैप्सूल छिपाने की जगह खुद ही बनाया था संसद में हंगामा करने वाला सागर शर्मा, जाने पूरा मामला

93 हजार किया था ट्रांसफर

शिकायतकर्ता ने बताया कि उसे 10 हजार, 10 हजार, 30 हजार, 40 हजार रुपये आने के मैसेज मिले। उसे लगा कि उसके खाते में पैसे आ गए। इसके बाद उसने पांच अलग-अलग बार में कुल 93 हजार रुपये ट्रासफर किए, जिनमें से दो ट्रांजैक्शन फेल हो गए। इस तरह उसके खाते से कुल 44,500 रुपये कट गए। गोमतीनगर थाना प्रभारी ने बताया कि एफआईआर दर्ज कर ली गई है, मामले की छानबीन चल रही है।
साइबर एक्सपर्ट ने बताया कि जालसाजी द्वारा आजकल प्लेस्टोर से कई तरह की वॉइस क्लोनिग ऐप डाउनलोड किए जा रहे है, जिनका इस्तेमाल आवाज चेज करने के लिए किया जाता है। साइबर ठग फेसबुक, बट्सएप या इंस्टाग्राम पर आपको कॉल करेगा और फिर आपकी वॉइस का सैंपल लेगा, जिसके बाद किसी ऐप पर आपकी वॉइस अपलोड कर उसका क्लोन तैयार करता है। फिर फोन हैक कर या किसी तरह नंबर हासिल करने आदि के बाद हूबहू उसी आवाज में आपके रिश्तेदार या दोस्त कॉल करेगा।

ट्रेंडिंग वीडियो