लखनऊ को टीबी मुक्त शहर बनाने की कवायद शुरू, एनएचएम ने कसी कमर

लखनऊ को टीबी मुक्त शहर बनाने की कवायद शुरू, एनएचएम ने कसी कमर

Neeraj Patel | Updated: 16 Jul 2019, 09:13:56 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

- जिला क्षयरोग अधिकारी डॉ बीके सिंह ने की कार्यक्रम की अध्यक्षता
- सभी शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में क्षयरोग जांच की व्यवस्था प्रारंभ
- डाक विभाग के सहयोग से टीबी मरीजों की आधुनिक जांच डाकियों के माध्यम से शुरू

लखनऊ. यूपी की राजधानी को टीबी मुक्त शहर बनाने की कवायद शुरू हो गई है। जिसके लिए पंडित दीनदयाल उपाध्याय सभागार में नगरीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र तथा नगरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों के प्रयोगशाला टेक्नीशियन का कार्यशाला आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे जिला क्षयरोग अधिकारी डॉ बीके सिंह द्वारा लैब टेक्नीशियन को पुनरीक्षित राष्ट्रीय क्षय नियंत्रण कार्यक्रम के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी दी।

ये भी पढ़ें - सावन मेला के लिए सजने लगी छोटी काशी, होगा भव्य ऐतिहासिक मेले का आयोजन

इसके साथ ही डा०अजय राजा अपर मुख्य चिकित्साधिकारी एनयूएचएम ने भी सभी प्रतिभागियों को भारत सरकार तथा प्रदेश सरकार द्वारा निर्धारित लक्ष्य लखनऊ को 2021 तक टीबी मुक्त शहर बनाने के लिए स्वास्थ्य विभाग से जो अपेक्षा की जा रही है, उसमें सभी की अपनी-अपनी अहम भूमिका है। बता दें कि राजधानी लखनऊ के सभी शहरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में क्षयरोग जांच की व्यवस्था प्रारंभ की जाएगी। प्रथम चरण में 12 नगरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों को चिन्हित कर उनके प्रयोगशाला टेक्निशियन का कार्यक्रम अंतर्गत प्रशिक्षण पूर्ण करा दिया गया है और दूसरे चरण और तृतीय चरण में सभी केंद्रों उपरोक्त व्यवस्था प्रारंभ करा दी जाएगी।

लक्ष्य को प्राप्त करने की दी अहम जानकारी

डॉ उमेश त्रिपाठी आरएनटीसीपी उप्र डब्ल्यूएचओ कंसलटेंट ने भी भारत सरकार की नये दिशा निर्देशों तथा लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए अहम जानकारी दी। कार्यक्रम मौजूद दिलशाद हुसैन डिस्ट्रिक्ट प्रोग्राम कोऑर्डिनेटर तथा नोडल आरएनटीसीपी- डाक विभाग ने बताया कि लखनऊ में 15 जुलाई 2019 से डाक विभाग के सहयोग से टीबी मरीजों की आधुनिक जांच डाकियों के माध्यम से शुरू कर दिया गया है। डाक विभाग द्वारा रिकॉर्ड समय 24 घंटे के अंदर ही क्षयरोगियों के लिए बलगम सीबीनांट लैब डीटीसी लखनऊ पर डिलीवरी कर दिया गया है।

ये भी पढ़ें - अब आगरा लखनऊ एक्सप्रेस-वे पर बिना हेलमेट के नहीं मिलेगी इंट्री, कटेगा चालान

ये लोग रहे मौजूद

नगरीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र तथा नगरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों के प्रयोगशाला टेक्नीशियन का कार्यशाला आयोजन में दौरान अभय चंद्र मित्रा, राम जी वर्मा फहीम अहमद, लोकेश कुमार तथा पीएस चौहान भी उपस्थित रहे।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned