इस मामले में 105 देशों से बड़ा है लखनऊ, ये आकड़े कर देंगे हैरान

इस मामले में 105 देशों से बड़ा है लखनऊ, ये आकड़े कर देंगे हैरान

Akansha Singh | Updated: 11 Jul 2019, 02:27:25 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

- हर साल औसतन 1.15 लाख लोग बढ़ रहे हैं
- 55 लाख का आंकड़ा पार कर गई है
- हर वर्ष करीब 2.07 प्रतिशत वार्षिक दर से जनसंख्या बढ़ रही

लखनऊ. यूपी की राजधानी लखनऊ में हर साल औसतन 1.15 लाख लोग बढ़ रहे हैं। यहां के रहने वालों की संख्या 55 लाख का आंकड़ा पार कर गई है। हर वर्ष करीब 2.07 प्रतिशत वार्षिक दर से जनसंख्या बढ़ रही है। जिला निर्वाचन के आंकड़ों पर नजर डालें तो 2019 जनवरी में लखनऊ के सभी नौ विधानसभाओं में आबादी 54.87 लाख थी। 1991 के बाद परिवार नियोजन के प्रयासों से प्रजनन दर में तो गिरावट आई है लेकिन रोजगार की तलाश उच्च शिक्षा और बेहतर सुविधाओं की चाहत में शहर में लगातार लोग बढ़ रहे हैं। इससे शहर की जनसंख्या बढ़ रही है। पिछले वर्ष तक प्रदेश की वार्षिक जनसंख्या वृद्धि दर 1.84 फ़ीसदी थी। वहीं लखनऊ की वृद्धि 2.56 के करीब है। जबकि चौक, अमीनाबाद, हजरतगंज, चारबाग जैसे पुराने लखनऊ के इलाकों में आबादी ठहरी हुई है।

यह भी पढ़े- 11 से 25 जुलाई तक मनाया जाएगा जनसंख्या स्थिरता पखवाड़ा, पढ़िये विश्व जनसंख्या दिवस पर एक स्पेशल रिपोर्ट

2019 में आबादी

2011 में जिले की आबादी 45.88 जबकि 2019 में 54.86 है। इनमें ग्रामीण क्षेत्र की आबादी 17.71 जबकि 2019 में 19.06 है। वहीं 2011 शहरी क्षेत्र की आबादी 28.17 जबकि 2019 में 35.80 है। 1991 में कुल आबादी 2762801, 2001 में 3647834, 2011 में 4589838, 2019 में 5486803 है। वहीं लखनऊ शहर की जनसंख्या वार्षिक वृद्धि दर 2.56% है और गांव की 1.58 है।

सुधरने लगी बेटियों की जन्म दर

जनसंख्या पर काबू पाने की मुहिम रंग ला रही है। उत्तर प्रदेश में बेटा बेटी का फर्क भी कम हो रहा है। वर्ष 2016-17 में बेटों की संख्या 19 लाख 31 887 थी तो बेटियों की संख्या 17लाख 53525 थी। 2017-18 में बेटों की संख्या 1872318 थी तो बेटियों की संख्या 176050 थी। वही 2018-19 में बेटों की संख्या 1825148 थी तो बेटियों की संख्या 16 75157 थी।

यह भी पढ़े- International Population Day 2019 : देश में हर सेकेंड पैदा होते हैं 4 बच्चे, यूपी के बारे में है ये हैरान कर देने वाली जानकारी-

नसबंदी कराने में पुरुष अब भी पीछे

तमाम जागरूकता के बाद भी पुरुष नसबंदी के आंकड़े नहीं सुधर रहे हैं। हेल्थ मैनेजमेंट इनफॉरमेशन सिस्टम के अनुसार लखनऊ में 2018-19 में सिर्फ 380 पुरुषों ने नसबंदी कराई है। सीएमओ डॉ नरेंद्र अग्रवाल ने बताया कि लखनऊ में पुरुष नसबंदी के लिए कार्यक्रम चलाया जा रहा है। नसबंदी के आंकड़े वर्ष 2018 में पुरुषों की संख्या 3884 थी तो महिलाएं 258182 थी। वही 2018-19 में पुरुषों की संख्या 3914 थी तो महिलाओं की संख्या 281955 थी।


न्यूजीलैंड से अधिक है शहर की आबादी

शहर की आबादी कई देशों से ज्यादा है। न्यूजीलैंड (47.92) लाख, फिनलैंड (55.61 लाख), नार्वे (54 लाख), लीबिया (49.77 लाख), ओमान (50.01 लाख) जैसे देशों की आबादी लखनऊ से काम है। क्षेत्रफल की बात करें तो न्यूजीलैंड का क्षेत्रफल 263310 वर्ग किलोमीटर है। वहीं लखनऊ का कुल क्षेत्रफल महज 2528 वर्ग किलोमीटर है विश्व के लगभग 105 देशों की आबादी लखनऊ से कम है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned